गरीब,दलित व पिछड़े वर्गाे के मसीहा थे बाबा भीमराव अंबेडकर : ललित नागर

फरीदाबाद(Abtaknews.com)14अप्रैल,2022: भारत के संविधान निर्माता बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर की 131वीं जयंती तिगांव क्षेत्र के गांव अगवानपुर में धूमधाम से मनाई गई। कार्यक्रम में पूर्व विधायक ललित नागर व उपस्थित जनों ने सर्वप्रथम डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते हुए नमन किया। उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए ललित नागर ने कहा कि डा. भीमराव अंबेडकर दलित, पिछड़े व गरीबों के सच्चे मसीहा थे, वह ऐसी शख्सियत थे, जिन्होंने गरीब, दलित, पिछड़े वर्गाे के हकों को दिलाने के लिए संघर्ष किया और आज उनके आदर्शाे पर चलते हुए करोड़ों दलित, गरीब, पिछड़े परिवार उन्नति की ओर अग्रसर हो रहे है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब दूरदर्शी एवं सकारात्मक सोच के व्यक्ति थे, जिन्हें कई भाषाओं का ज्ञान था और उन्होंने गरीब, पिछडे व दलितों को उनके हक दिलाकर उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोडऩे का काम किया, यही कारण है कि डा. अंबेडकर आज भी लोगों के दिलों में जिंदा है। श्री नागर ने कहा कि सामाजिक भेदभाव के विरोध में कार्य करने वाले सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक डा. भीमराव अंबेडकर भारतीय न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनेता और समाज सुधारक के नाम से जाने जाते है। उन्होंने कहा कि महिला, मजदूर और दलितों पर हो रहे सामाजिक भेदभाव के खिलाफ आवाज़ उठाने और लडकऱ उन्हें न्याय दिलाने के लिए भारतरत्न डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर को सदा आदर से स्मरण किया जाता रहेगा। श्री नागर ने उपस्थितजनों से आह्वान किया कि वह बाबा साहेब के आदर्शाे को अपनाकर समाज व देशहित में कार्य करेे, यही उनको सच्ची श्रद्धांजलि होगी। कार्यक्रम के उपरांत विशाल भंडारे का आयोजन किया, जिसमें लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर सुंदर नेताजी, शंकरलाल नंबरदार, डॉक्टर बाबूलाल रवि, भंवर सिंह सहित अनेको गणमान्य लोग मौजूद थे।

No comments

Powered by Blogger.