हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने दी ‘‘हिंदी दिवस’’ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ

चण्डीगढ़(abtaknews.com)14 सितंबर,2021: हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने  आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर देश व प्रदेशवासियों को ‘‘हिंदी दिवस’’ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ दी हैं। उन्होंने कहा कि देश की आजादी में हिंदी का महत्वपूर्ण योगदान है।श्री दत्तात्रेय ने कहा कि देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ी गई लड़ाई में  हिन्दी भाषा ने हथियार के रूप में काम किया था। हिन्दी भाषा के माध्यम से ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने जन-जन को स्वतंत्रता संग्राम से जोड़ा और देश में स्वतंत्रता प्राप्ति की लहर उठ खड़ी हुई थी। इसी परिणामस्वरूप देश 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ।

उन्होंने कहा कि विश्व में लगभग 65 करोड़ लोग हिन्दी बोलते हैं। जिनमें भारत में 45 करोड़ से भी अधिक लोग हिन्दी बोलते हैं। हिन्दी एक राष्ट्रभाषा है। देश की आजादी के योगदान के साथ-साथ भारतीय प्राचीन सभ्यता व संस्कृति की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने में हिन्दी भाषा का अपना स्थान रहा है। केन्द्र सरकार ने हिन्दी भाषा में आधुनिक प्रचलन के नए शब्दों को जोड़कर हिन्दी के विकास के लिए कार्य किया है।
उन्होंने आमजन से अपील की है सभी लोग अपनी क्षेत्रीय भाषा के साथ-साथ राष्ट्रभाषा हिन्दी के विकास के लिए कार्य करें। उन्होंने कहा कि हरियाणा में तो हिन्दी आन्दोलन-1957 के 205 मातृभाषा सत्याग्रहियों को 10,000 रुपये मासिक पेंशन दी जा रही है। इसके लिए उन्होंने हरियाणा सरकार की प्रशंसा की है।
राज्यपाल श्री दत्तात्रेय ने देश और प्रदेशवासियों को आजादी के 75वें वर्ष में अमृत महोत्सव के अवसर पर कोविड टीकाकरण में 75 करोड़ खुराक का लक्ष्य हासिल करने पर भी बधाई व शुभकामनाएं दी है। यह देशवासियों के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा टीकाकरण का सबसे बड़ा कार्यक्रम चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा ने भी टीकाकरण मामले में विशेष उपलब्धि प्राप्त की है। प्रदेश में अभी तक एक करोड़ 90 लाख कोविड वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान 75 करोड़ का लक्ष्य पार करना केन्द्र व राज्य सरकार की गम्भीरता व प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि देश में कोविड टीकाकरण के अभियान की विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी सराहना की है।
उन्होंने इतने बड़े लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सभी कोरोना योद्धाओं को बधाई दी है और आम-जन से अपील की है कि वे स्वयं ही टीकाकरण के लिए आगे आएं और देश को वायरस से मुक्त रखते हुए ट्रांसमिशन चेन को तोड़े।
--------------------------------------
चंडीगढ़, 14 सितंबर- हरियाणा के फरीदाबाद स्थित जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, के कंप्यूटर इंजीनियरिंग विभाग द्वारा ‘इंटरनेट ऑफ थिंग्स’ विषय पर आयोजित एक सप्ताह का ऑनलाइन फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम शुरू हो गया। एआईसीटीई ट्रेनिंग एंड लर्निंग (अटल) द्वारा प्रायोजित इस कार्यक्रम में हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, गुजरात, महाराष्ट्र, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, झारखंड और केरल सहित 15 से अधिक राज्यों से 195 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं ।
विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने बताया कि कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की जबकि आईआईआईटी सोनीपत के निदेशक प्रो. एम.एन. दोजा बतौर मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए।
-----------------------------------------------

श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय ने जारी किया प्री-पीएचडी व प्री-पीएचडी री-अपीयर का परिणाम
 
चंडीगढ़, 14 सितंबर- श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र की परीक्षा शाखा ने प्री-पीएचडी आयुर्वेदा का शेष परीक्षा परिणाम जारी कर दिया है। इसके साथ ही विश्वविद्यालय ने प्री-पीएचडी री-अपीयर का परीक्षा परिणाम भी घोषित किया है।

इस बारे में विश्वविद्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि  परीक्षा शाखा ने प्री-पीएचडी आयुर्वेद का वार्षिक और प्री-पीएचडी आयुर्वेद में री-अपीयर के विद्यार्थियों का रिजल्ट जारी कर दिया है। परिणाम विश्वविद्यालय के पोर्टल पर अपलोड है। जहां से विद्यार्थी अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर परिणाम की जांच कर सकते हैं ।  

उन्होंने बताया कि प्री-पीएचडी आयुर्वेदा और प्री-पीएचडी री-अपीयर परीक्षाएं सितंबर महीने में ही आयोजित की गई थी, जो निर्धारित समय अवधि में सम्पन्न हुई। वैसे प्री-पीएचडी वार्षिक की परीक्षाएं और री-अपीयर की साल में दो बार होती हैं । पीएचडी अध्येताओं के कार्यकाल में हानि न हो इसलिए विश्वविद्यालय द्वारा दोनों वार्षिक/पूर्ण परीक्षाएं साथ-साथ कराई गई।

प्रवक्ता ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा हाल ही में बीएएमएस, बीएचएमएस और डी-फार्मा आयुर्वेदा की वार्षिक और री-अपीयर की परीक्षाएं कराई गई है, जिनका परिणाम परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार जारी किया जाएगा। सभी महाविद्यालयों द्वारा प्रायोगिक परीक्षाएं कोविड प्रोटोकॉल के साथ करवाई जा रही हैं, जिनका संचालन विश्वविद्यालय से सम्बन्धित कॉलेज द्वारा सितंबर माह में ही करवा लिया जायेगा।
----------------------------------------------

चंडीगढ, 14 सितंबर-हरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से छ: सिविल सर्जन/ प्रिंसिपल मेडिकल अधिकारियों (पीएमओ) के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी किये है।सिरसा के पीएमओ डॉ जय किशोर को सोनीपत का सिविल सर्जन लगाया है।सोनीपत के सिविल सर्जन डॉ जे.एस. पुनिया को रोहतक का सिविल सर्जन नियुक्त किया है।इसी प्रकार, कुरूक्षेत्र के पीएमओ डॉ रघुवीर सिंह को भिवानी का सिविल सर्जन लगाया है।

भिवानी की सिविल सर्जन डॉ सपना गहलावत को पंचकूला मुख्यालय में डीजीएचएस कार्यालय में डीडी (एसएस) नियुक्त किया है।ऐसे ही, जींद के पीएमओ डॉ मंजीत सिंह को सिरसा का पीएमओ लगाया है।रोहतक के सिविल सर्जन डॉ अनिल बिरला को जींद में पीएमओ नियुक्त किया है।
------------------------------------------

चंडीगढ़, 14 सितंबर- हरियाणा के खाद्य, नागरिक एवं उपभोक्ता मामले विभाग के एक उप-निरीक्षक द्वारा डिपो होल्डर को लाइसेंस जारी करने की एवज में 10 हजार रूपए रिश्वत लेने का दोषी पाए जाने पर कोर्ट ने सजा सुनाई है व जुर्माना लगाया है।हरियाणा राज्य चौकसी ब्यूरो के एक प्रवक्ता ने बताया कि गुरूग्राम जिला के गांव हेलीमंडी निवासी सोनू सिंह पुत्र बजरंग सिंह ने शिकायत दी थी कि खाद्य, नागरिक एवं उपभोक्ता मामले विभाग का उप-निरीक्षक नितेश रोहिल्ला उसको डिपो होल्डर का लाइसेंस देने की एवज में 10 हजार रूपए की रिश्वत मांग रहा है। शिकायत मिलने पर राज्य चौकसी ब्यूरो ने नितेश को 10 हजार रूपए लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया था। गुरूग्राम के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश श्री अश्वनी कुमार की कोर्ट ने नितेश को उक्त मामले में दोषी पाते हुए उसे धारा 7 पी.सी एक्ट के तहत 4 वर्ष की कैद व 25 हजार रूपए जुर्माना तथा धारा 13 पी.सी एक्ट के तहत 6 वर्ष की सजा व 25 हजार रूपए जुर्माना की सजा सुनाई है।
----------------------------------------

चंडीगढ़, 14 सितंबर- हरियाणा के उच्चतर शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी महाविद्यालयों के प्राचार्यों, विश्वविद्यालयों के रजिस्ट्रारों,एनसीसी यूनिट्स के कमांडिंग ऑफिसरों तथा जिला/उपमंडल पुस्तकालयों के पुस्तकालय-अध्यक्षों को निर्देश दिए हैं कि वे ‘सैंट्रलाइज्ड पब्लिक ग्रीवेंस रिड्रेस एंड मॉनिटरिंग सिस्टम’ में आने वाली जनशिकायतों का निस्तारण शीघ्र करें।
एक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उक्त पोर्टल पर आने वाली शिकायतों के निस्तारण का अधिकतम समय सरकार द्वारा अब वर्तमान 60 दिन की अवधि से घटाकर 45 दिन कर दिया है। अगर किसी सब-ज्यूडियश अथवा पॉलिसी-मैटर के कारण निर्धारित समय में शिकायत का निपटारा नहीं होता है तो पोर्टल पर अंतरिम जवाब देना होगा। इसके अलावा, कोविड-19 से संबंधित शिकायतों को वरियता देते हुए अधिकतम 3 दिन में उनका समाधान करना होगा। विभाग की ओर से नोडल अधिकारी को बकाया शिकायतों की साप्ताहिक रिपोर्ट भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं।

No comments

Powered by Blogger.