अयोध्या के श्रीराम मंदिर हेतु 34 करोड की भूमि 18.50 करोड में मिली; भूमि घोटाला नहीं

फरीदाबाद (Abtaknews.com)21जून,2021: अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण कार्य आयताकार आकार में करने में कठिनाई हो रही थी । इसलिए निकट की भूमि खरीदी गई । वह करोड रूपए की भूमि 18 करोड 50 लाख रुपए में खरीदी गईऐसा आरोप लगाया जा रहा है । उस भूमि का मूल्य वर्ष 2011 में करोड रुपए था । प्रतिवर्ष इस मूल्य में वृद्धि होती गई । वर्ष 2019 में सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय श्री राम मंदिर के पक्ष में आने पर वहां की भूमि का मूल्य दोगुना हो गया । यदि सरकार वह भूमि बाजार मूल्य पर खरीदतीतो सरकार को 34 करोड रुपए देने पडतेपरन्तु रामजन्मभूमि ट्रस्ट द्वारा की गई विनती के कारण वह मूल्य अल्प कर 18 करोड 50 लाख रुपए किया गया । इसलिए भूमि खरीदने में कोई भी घोटाला नहीं हुआ हैऐसा स्पष्ट प्रतिपादन ‘टाइम्स’ समूह  के वरिष्ठ पत्रकार डॉविश्‍वंभरनाथ अरोड़ा ने किया ।  वे हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से आयोजित ‘श्रीराम मंदिर के दुष्प्रचार का षडयंत्र’ इस विषय पर आयोजित ऑनलाइन विशेष संवाद में बोल रहे थे । इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण समिति के जालस्थल Hindujagruti.org, यू-ट्यूब और ट्विटर पर 3,300 लोगों ने देखा ।

संवाद को संबोधित करते हुए विश्‍व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीविनोद बंसल ने कहा कि श्री. अरोड़ा द्वारा बताया गया सत्य स्थानीय जनता को पूर्णतज्ञात होने के कारण भूमि खरीदी घोटाले का आरोप तीन दिनों में ही झूठा सिद्ध हुआ । यदि आरोप सत्य हैतो आरोप लगाने वाले सर्वोच्च न्यायालय में क्यों नहीं गए इस प्रकरण में उन्होंने अपराध प्रविष्ट क्यों नहीं किया वास्तव में राम को काल्पनिक कहने वाले लोग ही विकृत मानसिकता के कारण राममंदिर के निर्माण का विरोध कर रहे हैंकिन्तु राष्ट्रविरोधी ‘टूल-किट’ का सत्य सामने आ रहा है । भारत के 60 करोड लोगों ने जिस श्रीराम मंदिर हेतु 3,500 करोड रुपए का दान किया हैवह मंदिर श्री राम की कृपा से ही बनेगा ।

इस षडयंत्र का कारण स्पष्ट करते हुए ‘सांस्कृतिक गौरव संस्थान’ के केंद्रीय कार्यालय प्रमुख श्रीसंजीव पुंडीर ने कहा कि अगले वर्ष उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव है । जिस ‘आम आदमी पार्टी’ का उत्तर प्रदेश में अस्तित्व ही नहीं हैउस दल के विधायक ने ऐसे आरोप लगाए हैं । आदरणीय चंपत राय पर झूठे आरोप लगाने वालों को कभी भी क्षमा नहीं किया जा सकता। उनके विरोध में न्यायालय में मानहानि का प्रकरण प्रविष्ट किया जाना चाहिए । हिन्दू जनजागृति समिति के दिल्ली समन्वयक श्रीकार्तिक साळुंके ने कहा किघोटाला तो बहाना हैमंदिर का काम रोकनामूल उद्देश्य है । मंदिर का काम अटकानालटकाना और जनता को भटकाना इसके लिए एक टोली कार्य कर रही है । जिन्होंने सदैव राम मंदिर का विरोध कर अल्पसंख्यकों का तुष्टिकरण कियाक्या ऐसे लोगों को राम मंदिर के विषय में आरोप लगाने का अधिकार है अयोध्या की तपस्वी छावनी के परमहंस दास महाराज ने बताया कि राम मंदिर पर आरोप लगाने के लिए उन्हें 100 करोड रुपए का प्रस्ताव दिया गया है । इसकी विस्तृत जांच होनी चाहिए ।

No comments

Powered by Blogger.