जे.सी.बोस विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया,आनलाइन जुड़े 300 प्रतिभागी

फरीदाबाद ( Abtaknews.com ) 21जून, 2021: जे.सी.बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद द्वारा 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस विश्वविद्यालय परिसर में योग सत्र का आयोजन किया गया, जिसे विद्यार्थियों के लिए डिजिटल प्लेटफार्म पर प्रसारित भी किया गया। इस योग सत्र में 300 से ज्यादा प्रतिभागियों एवं विद्यार्थियों ने आयुष मंत्रालय द्वारा जारी सामान्य योग प्रोटोकॉल का पालन करते हुए योगिक क्रियाओं में हिस्सा लिया। कार्यक्रम का आयोजन विश्वविद्यालय के डीन स्टूडेंट वेलफेयर के कार्यालय द्वारा किया गया, जिसमें कम्युनिटी कॉलेज द्वारा तकनीकी सहयोग दिया गया। 

विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित योग सत्र में शिक्षाविद् एवं समाजसेवी डाॅ. देव प्रसाद भारद्वाज मुख्य अतिथि रहे। इस अवसर पर कुलपति प्रो. दिनेश कुमार, कुलसचिव डॉ. एस. के. गर्ग तथा डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. लखविंदर सिंह सहित निरामयं योग क्लब से जुड़े सदस्यों ने सामाजिक दूरी बनाये रखते हुए योग सत्र में हिस्सा लिया और अन्य सभी विद्यार्थी तथा संकाय सदस्य डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से सत्र में सम्मिलित हुए। योग अभ्यास सत्र का संचालन योग आचार्य श्री तरून रावत द्वारा किया गया है। कार्यक्रम का संपूर्ण संचालन डिप्टी डीन डॉ. अनुराधा पिल्लाई की देखरेख में संपन्न हुआ। योग सत्र के उपरांत निदेशक युवा कल्याण डॉ. प्रदीप डिमरी ने ‘आनंद के दृष्टिकोण से योग’ विषय पर चर्चा की तथा प्रतिभागियों को आनंद प्राप्ति के लिए योग साधना के महत्व से अवगत करवाया।

इस अवसर पर बोलते हुए मुख्य अतिथि डॉ. देव प्रसाद भारद्वाज ने कहा कि योग विश्व को भारत की प्राचीन परंपरा की एक अमूल्य देन है। उन्होंने स्वस्थ जीवन शैली और व्यक्तित्व विकास में योग के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने स्वस्थ जीवन शैली के लिए योग अभ्यास की आवश्यकता पर बल दिया। प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव में योग मददगार साबित हुआ है। योग श्वसन प्रणाली की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जो वायरस से लड़ने में मदद करती है। इसलिए, महामारी के समय में योग और भी अधिक महत्वपूर्ण बन गया है। विद्यार्थी जीवन में योग के महत्व पर बोलते हुए कुलपति ने कहा कि योग मन को शांत करके एकाग्रता और ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है, जिससे जीवन में जटिल समस्याओं को हल करने के लिए एक अभिनव दृष्टिकोण विकसित होता है। उन्होंने आह्वान किया कि योग को केवल एक दिन की गतिविधि न बनाये, अपितु इसे अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाये। कार्यक्रम के समापन पर कुलसचिव डॉ. एस. के. गर्ग ने कार्यक्रम को सफल बनाने पर सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद किया।
------------------------------------------
JC Bose University celebrates International Day of Yoga
Faridabad(Abtaknews.com)21 June,2021: J.C. Bose University of Science and Technology, YMCA, Faridabad celebrated 7th International Day of Yoga in a befitting manner. About 300 participants performed yoga in the session arranged by the University in the campus as well as on the digital platform following the Common Yoga Protocol issued by the Ministry of AYUSH. The event was organised by the office of Dean Student Welfare and technical support provided by University’s Community College for Skill Development (CCSD).

Educationist and social reformer Dr. Dev Prasad Bhardwaj was Chief Guest in the session. The session was attended by Vice-Chancellor Prof. Dinesh Kumar, Registrar Dr. S.K. Garg and Dean Student Welfare Dr. Lakhwinder Singh along with members of Niramayam Yoga Club participated in yoga sessions at University by maintaining social distance and all other students and faculty members joined it through digital platforms. The programme commenced with lamp lighting followed by performance of various yogasanas conducted by Yoga Acharya Sh. Tarun Rawat. The programme was well coordinated by Dy. Dean Dr. Anuradha Pillai.

After the yoga session, Director, Youth Welfare Dr. Pradeep Dimri gave an informative talk on the topic ‘Happiness – A Yogic Perspective’ and explained the yogic approach to happiness, and how to make it work.Speaking on this occasion, Dr. D.P. Bhardwaj said that Yoga is an invaluable gift of India's ancient tradition to the world, and highlighted the importance of Yoga and the pivotal role it plays in rejuvenating our mind and the body, leading to a healthier lifestyle and personality development.

Addressing the programme, Vice-Chancellor, Prof. Dinesh Kumar emphasised the need for yoga practice for a healthy and holistic lifestyle. Referring to the importance of yoga during pandemic, Prof. Dinesh Kumar said that yoga has helped to cope with COVID-19. Improving immunity is the only way to fight the virus, therefore, yoga has become even more important in the times of the pandemic as it boosts immunity of the respiratory system and helps fight the virus, he added.

Explaining the importance of yoga in student’s life, the Vice Chancellor said that Yoga helps in improving concentration and focus by calming the mind, thereby, it develops an innovative approach to solve complex problems in life, he added. He urged yoga as a part of daily life rather than making it a one day event. The event concluded with a vote of thanks by Registrar Dr. S.K. Garg.

No comments

Powered by Blogger.