फरीदाबाद में अधिक से अधिक टेस्टिंग करें और एक दिन में रिपोर्ट देना करें सुनिश्चित

चंडीगढ़(Abtaknews.com)4मई,2021:हरियाणा के वित्त आयुक्त और राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि फरीदाबाद में दो दिन के भीतर ‘‘डॉक्टर ऑन कॉल सर्विस’’ सेवा की शुरुआत,अधिक से अधिक टेस्टिंग करना और एक दिन में टेस्टिंग की रिपोर्ट देना, जिला प्रशासन द्वारा मरीजों की सुविधा के लिए कॉल सेंटर स्थापित करना, ऑक्सीमीटर सहित सभी जरूरी दवाओं की किट उपलब्ध करवाना,ऑक्सीजन सप्लाई पर लगातार नजर रखना, ऑक्सिजन व जरूरी दवाईओं की कालाबाजारी पर लगाम लगाना, प्रत्येक निजी अस्पताल के बाहर इलाज के लिए रेट लिस्ट का होना सुनिश्चित किया जाए।

अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल आज जिला फरीदाबाद में जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ कोविड-19 की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक कर रहे थे।  
उन्होंने कहा कि अगर कोई भी व्यक्ति ऑक्सीजन सप्लाई अथवा दवाओं की सप्लाई को लेकर कोई दिक्कत पैदा करता है अथवा कालाबाजारी करता है तो उसके खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाए। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए की लॉकडाउन के दौरान पूर्ण गंभीरता बरतें और बगैर किसी कार्य के बाहर निकले लोगों पर कार्रवाई भी करें। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि प्रत्येक निजी अस्पताल के बाहर इलाज के लिए रेट लिस्ट अवश्य चिपकी होनी चाहिए।प्रत्येक निजी अस्पताल मरीजों से इतनी ही फीस ले जितनी निर्धारित की गई है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार निगरानी रखें और निजी अस्पतालों को निर्देश भी जारी करें।
उन्होंने अधिक से अधिक टेस्टिंग पर बल देते हुए कहा कि जिन भी लोगों में कोविड-19 के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तुरंत उनकी टेस्टिंग करवाई जाए और समय पर टेस्ट रिपोर्ट उपलब्ध हो ताकि संक्रमण को ज्यादा फैलने से रोका जा सके। इसके साथ ही श्री कौशल ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि टेस्टिंग रिपोर्ट एक दिन के भीतर मुहैया करवाना सुनिश्चित किया जाए ताकि इस संक्रमण को फैलने से जल्द से जल्द रोकने का काम हो सके। उन्होंने टेस्टिंग के लिए माइक्रो स्तर पर जाकर काम करने के निर्देश भी दिए और कहा कि इसके लिए हमें प्रशासनिक अमले को अधिक से अधिक सक्रिय करना होगा।
उन्होंने कहा कि हमें किसी भी सूचना के लिए कॉल सेंटर को बहुत ज्यादा मजबूत करना है। इसके साथ ही मरीजों की सुविधा के लिए ‘‘डॉक्टर ऑन कॉल सर्विस’’ सेवा की शुरुआत दो दिनों के भीतर करें। इस कार्य को अमलीजामा पहनाने के लिए फरीदाबाद मेट्रोपॉलिटन प्राधिकरण की मुख्य कार्यकारी अधिकारी व नगर निगम की आयुक्त श्रीमती गरिमा मित्तल को नियुक्त किया गया है, जो इस सेवा को 2 दिनों के भीतर फरीदाबाद के निवासियों के लिए शुरू करेंगी ताकि लोगों को टेलीफोन के जरिए हर संभव मेडिकल सलाह उपलब्ध हो सके। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह घरों में आइसोलेट होकर इलाज कर रहे लोगों को ऑक्सीमीटर सहित सभी जरूरी दवाओं की किट उपलब्ध करवाएं। उन्होंने कहा कि चिकित्सक समय से प्रत्येक मरीज का फॉलोअप करें और उन्हें बताएं कि आप अपने परिवार के लिए कितने आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य की देखरेख करना हम सभी का फर्ज है और हमें इसके लिए आपदा के इस दौर में बेहतर प्रबंधन खड़ा करना है।
अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने मीटिंग में आयुष विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि वह प्रत्येक व्यक्ति तक इम्यूनिटी बूस्टर अवश्य पहुंचाएं ताकि लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा की जा सके। उन्होंने ऑक्सीजन सप्लाई पर भी लगातार नजर रखने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि कोरोना आज एक आपदा बनकर हम सभी के सामने खड़ी है। हमें अपने बेहतर प्रबंधन के जरिए लोगों को हर संभव सहायता देते हुए मनोबल बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी दिन रात अपने सेवा भाव के साथ कोरोना की इस लड़ाई में जुट जाएं।
अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि हमें कोविड-19 को खत्म करने के लिए सबसे पहले संक्रमण की चैन को तोडऩा होगा। लॉकडाउन को गंभीरता के साथ लागू करवाना है और लोगों को समझाना है कि अगर आप सभी लोग अपने घरों में नहीं रहे तो इस महामारी के फैलाव को नहीं रोका जा सकता।
उन्होंने जिला में अस्पतालों में वेंटिलेटर, ऑक्सीजन बेड व अन्य स्वास्थ्य सेवाओं की बिंदु दर बिंदु समीक्षा भी की। बैठक में उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड-19 मैनेजमेंट के लिए एकीकृत ऐप भी लॉन्च किया जाए ताकि कोविड-19 से संबंधित सभी सूचनाएं एवं आवश्यक जानकारियां संबंधित व्यक्ति वहां से प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि यह आपदा का समय है और इस समय में हमें बगैर घबराए लोगों की मदद के लिए आगे आना है। उन्होंने कहा कि सभी फ्रंटलाइन वर्करों का हौसला बढ़ाना है। स्वास्थ्य विभाग हो या पुलिस विभाग सभी मिलकर इस लड़ाई में बेहतरीन कार्य कर रहे हैं। ऐसे में हमें एक बेहतर प्रबंधन देकर कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई को जीतना है।
बैठक में मंडलायुक्त राजेश जून, पुलिस आयुक्त ओपी सिंह, उपायुक्त यशपाल, नगर निगम आयुक्त डॉ गरिमा मित्तल, एसडीएम फरीदाबाद परमजीत चहल, एसडीएम बडख़ल पंकज सेतिया, नगर निगम के संयुक्त आयुक्त नवदीप नैन, प्रशांत अटकान, सीएमओ डॉ रणदीप सिंह पुनिया, डिप्टी सीएमओ डॉ राम भगत सहित कई अधिकारी मौजूद थे।
क्रमांक-2021
 

चंडीगढ़, 4 मई - हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमण चक्र को तोडऩे के लिए सरकार गंभीरता से कार्य कर रही है और इस मुहिम में अब सभी को सजग प्रहरी के रूप में अपना दायित्व निभाना होगा।
ये बात आज उन्होंने झज्जर में उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक व अन्य स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।
उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभिन्न प्रकार की कालाबाजारी को रोकने के लिए सख्त कदम उठाए जाएं। उन्होंने निजी क्षेत्र के चिकित्सकों से भी आह्वान करते हुए कहा कि मरीजों को रियायती दरों पर स्वास्थ्य सेवाएं दें ताकि कोविड संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सके । उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सरकार व जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए विभिन्न दिशानिर्देश और मानक संचालन प्रक्रियाओ को लागू करवाना सुनिश्चित किया जाए।
डा.बनवारी लाल ने कहा कि कोरोना से दूरी बनाने के लिए शासन-प्रशासन के साथ-साथ आमजन को स्वयं जागरूक होकर कोरोना बचाव गाइडलाइन की अनुपालना करनी होगी।  सहकारिता मंत्री ने कहा कि सरकार व प्रशासन की ओर से कोरोना संक्रमित लोगों के स्वास्थ्य लाभ के लिए हर संभव सहयोग दिया जा रहा है। ऐसे में आपदा की इस स्थिति का मुकाबला घबराकर नहीं बल्कि डटकर सुरक्षात्मक रूप से किया जाए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निरंतर अपडेट रहने को कहा और मानवीय आधार पर ड्यूटी करते हुए उनकी कार्यशैली की सराहना की व उन्हें प्रोत्साहित भी किया। डा.बनवारी लाल ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि कोरोना से पीडि़त मरीजों व उनके परिजनों के साथ व्यवहार कुशलता का परिचय दें।  
बैठक में पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल ने सरकार के आदेशों को प्रभावी रूप से लागू करने का आश्वासन सहकारिता मंत्री को दिया और कहा कि सरकार व जिला प्रशासन द्वारा समय-समय पर जारी किए गए विभिन्न दिशा निर्देशों का पालन किया जाएगा। इस अवसर पर उप- सिविल सर्जन डा.रणबीर सिंह सहित भाजपा जिलाध्यक्ष विक्रम कादियान भी मौजूद रहे।
क्रमांक-2021
विनोद

  
चंडीगढ़, 4 मई - हरियाणा बिजली वितरण निगमों के बिलिंग सॉफ्टवेयर में आई तकनीकी त्रुटि के कारण, 16 अप्रैल, 2021 से 26 अप्रैल, 2021 की अवधि के दौरान लगभग 1.40 लाख उपभोक्ताओं के स्पॉट बिल गलत बकाया राशि के साथ जारी हो गए थे। इस त्रुटि के कारण कई शहरों में उपभोक्ताओं को पिछले बिलों का भुगतान करने के बावजूद गलत
बकाया राशि मिली यद्यपि बिलिंग सिस्टम में उपरोक्त बिल बिल्कुल ठीक बने हैं और जो उपभोक्ता ऑनलाइन या विभाग के काउंटर पर जाकर बिल भरते हैं, वहां दिखाई गई बिल की राशि में बकाया संबंधित कोई त्रुटि नहीं है।
उक्त जानकारी देते हुए बिजली निगम के प्रवक्ता ने बताया कि इस त्रुटि के कारण उपभोक्ताओं को हुई असुविधा के मद्देनजर बिजली निगमों द्वारा प्रभावित उपभोक्ताओं केे बिजली बिल भरने की तारीख को आगे बढ़ाकर नए बिल जारी कर दिए गये हैं। इस संबंध में किसी भी अन्य जानकारी/स्पष्टीकरण के मामले में उपभोक्ता ‘ग्राहक सेवा केंद्र’ से संपर्क करने के लिए यूएचबीवीएन के टोल फ्री नंबर 1912/18001801550 तथा डीएचबीवीएन के टोल फंी नंबर 18001804334 पर कॉल कर सकते हैं या यूएचबीवीएन के उपभोक्ता व्हाट्सएप नंबर 9815961912 और डीएचबीवीएन के उपभोक्ता व्हाट्सएप नंबर 8813999708 पर मैसेज कर सकते हैं।
हरियाणा के बिजली वितरण निगम अपने उपभोक्ताओं के हितों के प्रति सदैव तत्पर हैं और प्रदेश में निरंतर निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए वचनबद्ध हैं।
क्रमांक-2021
शालू शर्मा
 

चंडीगढ़, 4 मई- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की सरकारी कार्य में पारदर्शिता लाने की मुहिम में आज एक और अध्याय जुड़ गया जब लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग ने इंजीनियरिंग कार्यों के लिए प्रकाशित हरियाणा की दर अनुसूची-2021 का नया संस्करण जारी किया।
हरियाणा की दर अनुसूची-2021 का विमोचन करने उपरांत मुख्यमंत्री ने विभाग के अधिकारियों को कड़ी मेहनत से इतना विशाल संस्करण तैयार करने के लिए बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इससे इंजीनियरिंग कार्यों में पारदर्शिता आएगी तथा ठेकेदारों के लिए नई दरें उपलब्ध होंगी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री को यह जानकारी दी गई कि शीघ्र ही इस संस्करण की अधिसूचना जारी की जाएगी और इसके साथ ही नई निविदाओं में ये नई दरें लागू हो जाएंगी। इस बात की भी जानकारी दी गई कि हरियाणा की दर अनुसूची का पहला संस्करण वर्ष 1962 में प्रकाशित किया गया था। बाद में समय-समय पर आवश्यकतानुसार आधार दरों पर अधिकतम प्रीमियम निर्धारित किये जाते रहे। अंतिम बार वर्ष 1988 में इसे संशोधित किया गया था। हरियाणा की दर अनुसूची-1988 को अपडेट करना ही पर्याप्त नहीं था। जीएसटी लागू होने के बाद नई कर व्यवस्था की अवधारणा आ गई थी और इसे संशोधित करना आवश्यक था।  
सरकार के निर्देश पर 12 नवम्बर, 2019 को लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग के सलाहकार श्री राकेश मनोचा की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया गया था और लोक निर्माण, सिंचाई एवं जलसंसाधन तथा जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभागों के इंजीनियरिंग-इन-चीफ को इस कमेटी में सदस्य के रूप में शामिल किया गया।
वर्तमान में निर्माण कार्यों में नई-नई तकनीकी तथा सामग्रियों का इस्तेमाल होने लगा है और इसी के अनुरूप कई नये कार्य मदों को भी इसमें शामिल किया गया है तथा इसवके अलावा दरों को संशोधित करना भी जरूरी था। संस्करण का डिजिटल प्रारूप भी उपलब्ध रहेगा और डीएनआईटी और ठेकदारों के बिल ऑनलाइन तैयार करने की सुविधा होगी। साथ ही इंजीनियरिंग कार्यों से जुडें विभागों के कार्यों के निष्पादन में निश्चित रूप से पारदर्शिता आएगी, जो मुख्यमंत्री का विजन भी है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रमुख प्रधान सचिव श्री डी.एस.ढेसी, लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अलोक निगम तथा उप-प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़, लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग के अभियंता प्रमुख, श्री जी.डी.गोयल के अलावा अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।
क्रमांक-2021
सत्यव्रत


चंडीगढ़, 4 मई - हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने गुरुग्राम की इम्पीरियल लाइफ साइंस और जीन्स 2मी नामक कंपनियों द्वारा सरकार को 15 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दान करने पर आभार प्रकट किया है।
श्री विज ने कहा कि कंपनी के मालिक एसके गुप्ता ने उन्हें ये कंसन्ट्रेटर भेंट किये। गुरुग्राम की इन दोनों कंपनियों द्वारा दान किये कंसंट्रेटर से कोरोना मरीजों की बड़ी सहायता होगी। उन्होंने कहा कि इससे कंपनियों ने कोरोना मरीजों को सांसे देने का काम किया। कोरोना के दौरान ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मरीजों के इलाज में कारगर साबित होंगे। उन्होंने ये सभी कंसंट्रेटर स्थानीय उपायुक्त को सौंप दिये हैं जोकि जरूरत के अनुसार अस्पतालों में भिजवा देंगे।
स्वास्थ्य मंत्री ने 50 से अधिक बिस्तरों वाले सभी अस्पतालों को अपना आक्सीजन जनरेटर प्लांट लगाने के निर्देश दिए हैं ताकि भविष्य में किसी प्रकार की परेशानी न हो।

No comments

Powered by Blogger.