विजय वर्धन ने हरियाणा के 34वें मुख्य सचिव के तौर पर अपना पदभार किया ग्रहण

चंडीगढ़(abtaknews.com)0अक्तूबर,2020: हरियाणा के नवनियुक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन ने आज अपना पदभार ग्रहण करते हुए कहा कि सरकारी अधिकारी एवं कर्मचारी अपना कार्य ईमानदारीसहानुभूति और निश्चित समय अवधि में पूरा करें।विजय वर्धन ने आज 34वें मुख्य सचिव के तौर पर अपना पदभार ग्रहण किया है।  उन्होंने कहा कि यह बहुत गौरव की बात है कि वे हरियाणा के मुख्य सचिव के पद पर आसीन हुए हैं। विजय वर्धन ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सोच के अनुरूप सरकारी विभागों की कार्यशैली में पारदर्शिता के साथ नागरिकों को सरकारी योजनाओं का लाभ त्वरित पहुंचाना सुनिश्चित करने के लिए अधिकारी व कर्मचारी मुस्तैदी से कार्य करें।

उन्होंने कहा कि आमजन की समस्याओं का त्वरित निपटान तथा भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना प्रदेश सरकार की प्राथमिकता है। इसलिए मुख्यालय स्तर एवं जिला प्रशासन के अधिकारी व कर्मचारी आमजन की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर सुनें और तुरंत उनका निपटान सुनिश्चित करें और कार्यशैली में तेजी लाएं।

उल्लेखनीय है कि श्री विजय वर्धन दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफन कॉलेज से इतिहास में स्नातक और स्नातकोत्तर हैं। वर्ष 1984 में भारतीय पुलिस सेवा में आने से पहले उन्होंने बैडमिंटन, स्क्वैश, बॉक्सिंग और एथलेटिक्स में अपने कॉलेज का प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1985 में, वह भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुए। श्री विजय वर्धन हरियाणा के राज्यपाल के सचिव, हरियाणा पर्यटन निगम के अध्यक्ष, हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष और पर्यटन तथा नवीकरणीय ऊर्जा विभागों के प्रमुख सचिव जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रहे।

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरणगुरुग्राम और पंचकुला के प्रशासक के रूप में उन्होंने इन शहरों और हरियाणा के अन्य शहरों के औद्योगिकआवासीय और वाणिज्यिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। फरीदाबाद के उपायुक्त और नगर निगम आयुक्त के पद पर रहते हुए उन्होंने शहरी क्षेत्र के विकास में कई अहम पहलें कीं

विजय वर्धन संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) द्वारा सिंगापुरमलेशिया और इंडोनेशिया में शहरी विकास और उत्थान में एक एडवांस कोर्स के लिए चुने गए। उन्होंने प्रदेश की विरासत के संरक्षण के लिए पिंजौर हेरिटेज फेस्टिवलराजा नाहर सिंह के महलबल्लभगढ़फरीदाबाद में कार्तिक उत्सव के प्रचार-प्रसार में योगदान दिया। इसके अलावा माता मनसा देवी मंदिरपंचकूला और मुगल गार्डनपिंजौर का जीर्णोद्धार करने के लिए भी  कार्य किया।

विजय वर्धन ने मुख्य सचिव के पद पर आसीन होने से पहले राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं वित्तायुक्त तथा गृहजेलआपराधिक जांच और न्याय-प्रशासन विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव के रूप में अपनी सेवाएं दी।एक सरकारी अधिकारी होने के साथ-साथ श्री विजय वर्धन बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी हैं। उन्होंने एक इतिहासकार के रूप में अब तक सात पुस्तकें लिखी हैं।  अंग्रेजी में सूफी हाइकु कविताओं के उनके संग्रह, 'बियॉन्ड द ग्रेट बियॉन्ड’ और इबादत द ब्रेथ ऑफ माय सॉल’ शीर्षक को आलोचकों और पाठकों ने समान रूप से सराहा है।

उन्होंने हरियाणा के इतिहास और विरासत के बारे में तीन शोध किए गए मोनोग्राफ को भी लिखा हैजिनका शीर्षक है बुद्धास ट्रेल इन हरियाणा’, ‘द मैगनिफिशियंट मॉन्यूमेंटस ऑफ नारनौल’ और राखीगढ़ी-रिडिस्कवर’ है। उनकी नवीनतम पुस्तक हैपनिंग हरियाणा’  हड़प्पा युग से वर्तमान दिनों तक हरियाणा के इतिहास को दर्शाती है।

-------------------------------------


चंडीगढ़, 1 अक्तूबर- पूरे देश में अखिल भारतीय स्तर पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 से संबंधित स्कूली बच्चों की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा हैइसी कड़ी में हरियाणा के स्कूली बच्चों की विभिन्न प्रतियोगिताएं खंड स्तर पर अक्तूबर 2020 तक करवाई जाएंगीजिसके लिए प्रतिभागियों को अक्तूबर 2020 तक अपनी प्रविष्टियां वैबसाइट www.mynep.in पर अपलोड करनी होंगी।

हरियाणा स्कूली शिक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि भारत सरकार ने बच्चों के सर्वांगीण विकास की दृष्टि से राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू किया है। इस संदर्भ में पूरे देश में मेरी नई शिक्षा नीति प्रतियोगिता’ का 13 भाषाओं में आयोजन किया जा रहा है। ये प्रतियोगिताएं भारत केंद्रित शिक्षा’, ‘समग्र शिक्षा’, ‘ज्ञान आधारित समाज’ तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा’ विषयों पर होंगी।

प्रवक्ता के अनुसार कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए दो मिनट का भाषणहस्तनिर्मित पोस्टरप्रधानमंत्री के नाम पत्र, 300 शब्दों का निबंध तथा मीम बनाओ’ प्रतियोगिताएं होंगी। इसमें प्रथमद्वितीयतृतीय एवं विशेष उल्लेखनीय पुरस्कार के रूप में क्रमश : 10 हजार, 5 हजार, 3 हजार एवं 1,000 रूपए दिए जाएंगे। हर भाषा में ये पुरस्कार अलग-अलग दिए जाएंगे तथा सभी प्रतिभागियों को सहभागिता प्रमाण-पत्र भी दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य के सभी जिला शिक्षा अधिकारियोंजिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों व जिला परियोजना समन्वयकों को खंड स्तर पर करवाई जाने वाली प्रतियोगिताओं की विस्तृत रिपोर्ट culturalfesthry@gmail.com पर भिजवाने के निर्देश दिए गए हैं।

No comments

Powered by Blogger.