जे.सी.बोस विश्वविद्यालय वाईएमसीए फरीदाबाद में अब विदेशी छात्रों को भी दाखिले का मौका

फरीदाबाद(Abtaknews.com)02 सितम्बर,2020: अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा का विस्तार करने की दिशा में कदम उठाते हुए जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने पहली बार विदेशी विद्यार्थियों को दाखिला देने की शुरूआत की है। विश्वविद्यालय ने विदेशी राष्ट्र की श्रेणी में शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए विदेशी विद्यार्थियों से दाखिले के लिए 15 सितम्बर, 2020 तक आनलाइन आवेदन आमंत्रित किये है।

कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने आज शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए विदेशी विद्यार्थियों की दाखिला विवरणिका (प्रोस्पेक्टस) को जारी किया। इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. एस. के. गर्ग भी उपस्थित थे।

कुलपति ने कहा कि अकादमिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक सहयोग बढ़ावा देते हुए विश्व स्तर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराना विश्वविद्यालय की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय विद्यार्थी, संकाय तथा अनुसंधान के क्षेत्र में पारस्परिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देने के लिए अंतरराष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थानों के साथ निरंतर सहयोग को बढ़ावा दे रहा है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय ने इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में 15 प्रतिशत सीटें और अन्य पाठ्यक्रमों में 5 प्रतिशत सीटें विदेशी विद्यार्थियों के लिए आरक्षित की है। इसके अलावा, अंतर्राष्ट्रीय विद्यार्थी के लिए अलग से छात्रावास की सुविधाएं भी विकसित की जा रही है। उन्होंने कहा कि शुरूआती चरण में विश्वविद्यालय सार्क देशों से विद्यार्थियों की अपेक्षा करता है।

विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय मामलों की निदेशक डॉ. शिल्पा सेठी ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा विदेशी राष्ट्र के विद्यार्थियों के लिए विज्ञान, इंजीनियरिंग, पत्रकारिता और प्रबंधन के विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिले की पेशकश की गई है, जिसके लिए इच्छुक विद्यार्थी विश्वविद्यालय की वेबसाइट jcboseust.ac.in/foreign-students पर आनलाइन आवेदन कर सकते है तथा प्रोस्पेक्टस प्राप्त कर सकते है। इसके अलाव, विद्यार्थी ia@jcboseust.ac.in पर भी संपर्क कर सकते है।

विदेशी राष्ट्र की श्रेणी में दाखिला के लिए पात्रता के बारे में जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय मामलों के उप निदेशक  डॉ. राजीव साहा ने बताया कि भारत के अलावा किसी अन्य देश का वैध पासपोर्ट और नागरिकता रखने वाला उम्मीदवार अथवा ओवरसीज सिटीजन आफ इंडिया ( ओसीआई) या पर्सन आफ इंडियन आरिजन (पीेआईओ) अथवा खाड़ी देशों में भारतीय श्रमिकों के बच्चे दाखिले के लिए पात्र है। उन्होंने स्पष्ट किया कि एआईसीटीई के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रवासी भारतीय (एनआरआई) तथा ऐसे भारतीय नागरिक जिन्होंने योग्यता परीक्षा किसी अंतर्राष्ट्रीय बोर्ड या विदेशी विश्वविद्यालय से की है, विदेशी राष्ट्र की श्रेणी के अंतर्गत दाखिले के पात्र नहीं है।

विश्वविद्यालय में किसी भी पाठ्यक्रम में दाखिला लेने वाले विदेशी उम्मीदवार को वैध स्टूडेंट वीजा या रिसर्च वीजा प्राप्त करना होगा और मूल दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे, जिसके बिना दाखिला नहीं दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि विदेशी विद्यार्थियों का दाखिला योग्यता परीक्षा की मेरिट के आधार पर किया जायेगा और इसके लिए अलग से कोई प्रवेश परीक्षा आयोजित नहीं की जायेगी।

No comments

Powered by Blogger.