यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास के साथ ड्यूल डिग्री पाठ्यक्रम शुरू करेगा जे.सी. बोस विश्वविद्यालय

फरीदाबाद(Abtaknews.com) 24 सितम्बर,2020: जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने वैश्विक परिवेश में अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी एवं शोध के क्षेत्र में रोजगार के लिए विद्यार्थियों की बढ़ाती मांग को देखते हुए यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास, अमेरिका के साथ अकादमिक क्षेत्र में मिलकर काम करने के लिए समझौता किया है, जिसमें रणनीतिक साझेदारी, अनुसंधान सहयोग, शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के लिए एक्चेंज प्रोग्राम के अलावा ड्यूल डिग्री पाठ्यक्रम शुरू करना शामिल हैं। जे.सी. बोस विश्वविद्यलय जल्द ही यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास के साथ ड्यूल डिग्री पाठ्यक्रम शुरू करने तथा विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को अमेरिका के टेक्सास स्थिति कैंपस में अध्ययन करने की संभावनाओं पर काम करेगा। 

इस समझौता पर यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास की प्रोवोस्ट तथा अकादमिक मामलों की वाइस प्रेजीडेंट डाॅ. जेनिफर इवांस-काउली ने हस्ताक्षर किए गए हैं और दोनों विश्वविद्यालयों के बीच अकादमिक क्षेत्र में परस्पर सहयोग बढ़ाने की इच्छा व्यक्त की है। जे.सी. बोस विश्वविद्यालय की ओर से कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने समझौते पर हस्ताक्षर किये। 
इस अकादमिक समझौते पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास अमेरिका में सरकारी क्षेत्र के सबसे बड़ा अनुसंधान विश्वविद्यालयों में से एक है। यह साझेदारी हमारे शिक्षकों तथा विद्यार्थियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अध्ययन का अनुभव प्राप्त करने का अवसर प्रदान करेगी। शुरूआती चरण में विश्वविद्यालय क्लाउड कंप्यूटिंग, आईओटी, बिग डेटा एनालिटिक्स, ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी, रोबोटिक्स और ऑटोमेशन, साइबर सुरक्षा, मशीन लर्निंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट सिस्टम और लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट सिस्टम जैसे क्षेत्रों में अनुसंधान के लिए सहयोग को आगे बढ़ाने का इच्छुक है। कुलपति ने समझौते को सफल बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मामलों की निदेशक डॉ. शिल्पा सेठी और उनकी टीम के निरंतर प्रयासों की सराहना की। 
यह साझेदारी इसी वर्ष जनवरी में जे.सी. बोस विश्वविद्यालय द्वारा फ्यूजन ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईएसएफटी 2020) पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के दौरान दोनों विश्वविद्यालयों के अधिकारियों के बीच हुए विचार-विमर्श का परिणाम है। कुलपति ने दोनों विश्वविद्यालयों के बीच सहयोग को आगे बढ़ाने में कुलसचिव डॉ. एस.के. गर्ग और दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय के प्रो. नवीन कुमार के योगदान की भी सराहना की।
उल्लेखनीय है कियूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ टेक्सास का एक प्रतिनिधिमंडल जिसमें प्रतिनिधिमंडल ग्रेजुएट एजुकेशन के वाइस प्रोवोस्ट और टूलूज ग्रेजुएट स्कूल के डीन डॉ. विक्टर प्राइबटोक और हेल्थ सर्विसेज एडमिनिस्ट्रेशन में एमएस कोऑर्डिनेटर एवं फैकल्टी डॉ. गेल प्राइबटोक शामिल थे, ने इस वर्ष जनवरी में विश्वविद्यालय का दौरा भी किया था और दोनों विश्वविद्यालयों के बीच संभावित शैक्षणिक सहयोग पर चर्चा की थी।
-------------------------------------------------------

जे.सी. बोस विश्वविद्यालय में एनएसएस दिवस मनाया
फरीदाबाद, 24 सितम्बर - जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने आज एनएसएस दिवस मनाया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय ने नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया। साथ ही, विश्वविद्यालय की एनएसएस इकाई ने इस उपलक्ष्य में ‘एक भारत - श्रेष्ठ भारत’ के तहत तीन दिवसीय ई-शिविर की शुरूआत की। 
एनएसएस की शुरूआत औपचारिक रूप से 24 सितंबर, 1969 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म शताब्दी वर्ष पर की गई थी। तब से 24 सितंबर का दिन हर साल एनएसएस दिवस के रूप में मनाया जाता है।कार्यक्रम की शुरुआत एनएसएस गीत तथा विश्वविद्यालय के एनएसएस समन्वयक डॉ. प्रदीप डिमरी द्वारा स्वागतीय भाषण से हुई। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति प्रो दिनेश कुमार ने की। डॉ. डिमरी ने सभी स्वयंसेवकों को कर्मयोगी बताते हुए एनएसएस स्वयंसेवकों से श्रीमद गीता से प्रेरणा लेने का आह्वान किया।
इस अवसर पर कुलपति प्रो दिनेश कुमार ने एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की और समाज सेवा में उनकी भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। 
कार्यक्रम को पुणे से एनएसएस वालंटियर्स दीपेश विजयसिंह दिनेगर, रोहतक से पूजा सांवरिया, अरुणाचल प्रदेश से आजाद तापक और झारखंड से अमन हेमब्रोम ने भी संबोधित किया। विभिन्न राज्यों के एनएसएस स्वयंसेवकों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया जो डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आयोजित किया गया था। इस मौके पर डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. लखविंदर सिंह भी मौजूद थे। कार्यक्रम का समन्वयन डॉ. बिन्दु मंगला, डॉ. उमेश और नितिन पंवार द्वारा किया गया।

No comments

Powered by Blogger.