हरियाणा में राजकीय तथा निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में ऑनलाइन दाखिला 7 सितंबर से शुरू होंगे

चंडीगढ़(Abtaknews.com)5 सितंबर,2020: हरियाणा में स्थित सभी राजकीय तथा निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में चलाए जा रहे इंजीनियरिंग एवं गैर-इंजीनियरिंग ट्रेडों में सत्र 2020-2021 के दाखिले हेतु ऑनलाइन पंजीकरण विभाग की वेबसाइट www.itiharyana.gov.in पर 7 सितंबर से आरंभ किया जा रहा है।विभाग के एक प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि दाखिले से संबंधित दिशा-निर्देशों बारे विवरण पत्रिकाजिलेवार संस्थानों की सूचीट्रेडवार तथा संस्थानवार उपलब्ध सीटों से संबंधित सूचना इस वेबसाइट पर उपलब्ध है। ऑनलाइन दाखिला फार्म 7 सितंबर से 22 सितंबर, 2020 तक भरे जा सकेंगे।
उन्होंने बताया कि विभिन्न दाखिला चरणों के लिए मेरिट एवं सीट अलॉटमेंट जारी होने के पूर्ण कार्यक्रम बारे सूचना विभाग की वेबसाइट पर ही उपलब्ध करवाई जाएगी। इसलिए प्रार्थियों से अनुरोध है कि वे दाखिला वेबसाइट का नियमित अवलोकन करते रहें। प्रवक्ता ने बताया कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सावधानी बरतते हुए प्रार्थियों से शैक्षणिक योग्यताआरक्षण एवं स्थाई निवासी इत्यादि मूल प्रमाण पत्रों की स्कैन की हुई प्रतियां तथा फीस दाखिला फार्म में ही ऑनलाइन ली या अपलोड करवाई जाएगी ताकि दाखिला कार्य हेतु प्रार्थियों को संस्थान जाने की आवश्यकता न पड़े। ट्रेडों एवं संस्थानों की नवीनतम जानकारी प्राप्त करने के लिए प्रार्थी विभाग की ITI Haryana ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।
उन्होंने बताया कि दाखिले हेतु प्रार्थियों की सुविधा के लिए हेल्पलाइन सेवा मोबाइल नंबर 7888490270-74 पर प्रात: 9:00 से सायं 5:30 बजे तक उपलब्ध रहेगी। दाखिला फार्म भरने के इच्छुक प्रार्थियों के पास अपनी निजी ई-मेल आईडीमोबाइल नंबर और आधार नंबर होना जरूरी है।
-------------------------------------
चंडीगढ़, 5 सितंबर- हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला ने आज शिक्षक दिवस के अवसर पर भाखड़ा ब्यास मैनेजमैंट बोर्ड के चीफ इंजीनियर श्री गुलाब सिंह नरवाल द्वारा रचित काव्य-संग्रह सुराही’ का विमोचन किया। इस अवसर पर हरियाणा की मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनंद अरोड़ा भी उपस्थित थीं ।
उपमुख्यमंत्री ने श्री नरवाल को बधाई देते हुए कहा कि साहित्य समाज का आईना होता हैमुझे उम्मीद है कि इसमें भी आपने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज को बेहतर राह दिखाने का प्रयास किया होगा। काव्य-संग्रह के रचयिता श्री गुलाब सिंह नरवाल ने बताया कि इस पुस्तक में कुल 100 कविताएं हैं जो मनुष्य की जीवन-शैली व सामाजिक सरोकारों पर आधारित हैं।

No comments

Powered by Blogger.