जे.सी.बोस विश्वविद्यालय,वाईएमसीए फरीदाबाद में ‘क्लाउड कम्प्यूटिंग’ पर एक सप्ताह का कार्यक्रम संपन्न

फरीदाबाद(abtaknews.com)25 अगस्त,2020: जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद के  कंप्यूटर इंजीनियरिंग और कंप्यूटर एप्लीकेशन विभागों द्वारा संयुक्त रूप से ‘क्लाउड कम्प्यूटिंग’ पर आयोजित किया जा रहा एक सप्ताह का टीईक्यूआईपी प्रयोजित ऑनलाइन मूल्य वर्धित कार्यक्रम संपन्न हो गया। कार्यक्रम में स्नातकोत्तर विद्यार्थियों, शोधकर्ताओं तथा संकाय सदस्यों सहित 125 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

इस कार्यक्रम का उद्देश्य क्लाउड कम्प्यूटिंग की अवधारणाओं, प्रौद्योगिकी तथा अनुप्रयोगों के विविध क्षेत्रों में प्रतियोगितयों को जानकारी प्रदान करना था। समापन सत्र की अध्यक्षता कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की। इस अवसर पर मिक्सोरग कंसल्टिंग सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और सीईओ श्री सचिन गौड़ मुख्य वक्ता रहे। 
इस सत्र में कुलसचिव डॉ. सुनील कुमार गर्ग, इंफोरमेटिक्स एवं कम्प्यूटिंग के डीन प्रो. कोमल कुमार भाटिया और कंप्यूटर एप्लिकेशन विभाग के अध्यक्ष प्रो. मंजीत सिंह भी उपस्थित थे। एक सप्ताह के कार्यक्रम का संचालन के विशेषज्ञ वक्ताओं में अलका टेक्नोलॉजीज के निदेशक श्री अमेय ताम्बे भी समापन सत्र में मौजूद रहे। कार्यक्रम का संयोजन डॉ. सपना गंभीर और डॉ. पारुल तोमर द्वारा किया गया था। 
कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कार्यक्रम के सफलतापूर्वक संचालन पर दोनों विभागों को बधाई दी तथा उभरती प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में ऐसे कार्यक्रमों को नियमित रूप से आयोजित करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने प्रतिभागियों को कार्यक्रम में अर्जित ज्ञान का उपयोग अपने शोध क्षेत्र में करने के लिए प्रोत्साहित किया। अपने संबोधन में सचिन गौड़ ने कंप्यूटिंग के क्षेत्र में गोपनीयता को सुरक्षित रखने के नये उपायों को विकसित करने की आवश्यकता पर बल दिया। 
कंप्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. कोमल कुमार भाटिया ने कार्यक्रम पर विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की और बताया कि किस तरह से कार्यक्रम के दौरान शामिल विषय प्रतिभागियों को उनके भविष्य के शोध कार्यों में मदद करेंगे। कंप्यूटर एप्लिकेशन के अध्यक्ष प्रो. मंजीत सिंह ने कार्यक्रम के अलावा अन्य विषयों पर प्रतिभागियों का ज्ञानवर्धन करने पर उनका आभार जताया। इस अवसर पर अलका टेक्नोलॉजीज के निदेशक अमेय ताम्बे ने भी कार्यक्रम को लेकर अपने अनुभव साझा किए। डॉ. पारुल तोमर ने विशेषज्ञ वक्ताओं, आयोजन टीम और सभी प्रतिभागियों का कार्यक्रम को सफल बनाने पर धन्यवाद दिया। 

No comments

Powered by Blogger.