मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज ‘मुख्यमंत्री दूध उपहार’ योजना और ‘महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ का किया शुभारंभ

चंडीगढ़(abtaknews.com) 05 अगस्त,2020:हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं और बच्चों के सर्वांगीण विकास पर विशेष बल देने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज मुख्यमंत्री दूध उपहार’ योजना और महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ का शुभारंभ किया।मुख्यमंत्री ने सभी उपायुक्तों से कहा कि वे मुख्यमंत्री दूध उपहार योजना को फ्लैगशिप कार्यक्रमों में शामिल करें और संबंधित जिलों में महिलाओं और बच्चों में एनीमिया और कुपोषण की समस्या को दूर करने के लिए अथक प्रयास करें।

आज यहां आयोजित शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री दूध उपहार’ योजना के तहत तीन बच्चों और दो महिलाओं सहित पाँच लाभार्थियों को स्किम्ड मिल्क पाउडर के पैकेट वितरित किए। इसके अलावाउन्होंने महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ के लाभार्थियों को मुफ्त सैनिटरी नैपकिन के पैकेट भी वितरित किए।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े इस कार्यक्रम के दौरान राज्य के सभी जिलों में इन दोनों योजनाओं के तहत लाभार्थियों को स्किम्ड मिल्क पाउडर और सैनिटरी नैपकिन के पैकेट वितरित किए गए।मुख्यमंत्री दूध उपहार योजना के तहत 1 से 6 वर्ष तक के बच्चों तथा गर्भवती व दूध पिलाने वाली माताओं को फोर्टिफाइड सुगंधित स्किम्ड मिल्क पाउडर दिया जाएगा। महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ के तहत 11 लाख 24 हज़ार 871 बीपीएल परिवारों की 10-45 वर्ष तक की किशोरियों व महिलाओं को मुफ्त सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध करवाए जाएंगे।        

 कुपोषण और एनीमिया की समस्या पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में नूंह जैसे कुछ जिले हैं जहाँ महिलाओं और बच्चों में एनीमिया की समस्या अपेक्षाकृत अधिक है। उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश देते हुए कहा कि वे अपने जिलों में मुख्यमंत्री दूध उपहार’ योजना का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करें। इस योजना के तहत वितरित किए जाने वाला फोर्टिफाइड सुगंधित स्किम्ड मिल्क पाउडर कुपोषण को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस योजना के अंतर्गत आँगनवाड़ी केन्द्रों में 1 से 6 वर्ष तक के बच्चों तथा गर्भवती व दूध पिलाने वाली माताओं को  सप्ताह में 6 दिन 200 मिलीलीटर प्रतिदिन सुगंधित स्किम्ड मिल्क दिया जायेगा। यह दूध अन्य पौष्टिक तत्वों जैसे प्रोटीनकैल्शियममैग्नीशियम, बी-12 के साथ-साथ विटामिन-ए और डी से युक्त होगाजो शरीर में सूक्ष्म तत्वों व विटामिन की पूर्ति करेगा। यह दूध छ: प्रकार के स्वाद में होगा।

उन्होंने कहा कि महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’ के तहत लगभग 22.50 लाख महिलाओं और किशोरियों को एक साल तक हर महीने मुफ्त सैनिटरी नैपकिन का एक पैकेट दिया जाएगाजिसमें 6 नैपकिन होंगे। इसके अलावाशिक्षा विभाग ने भी एक योजना तैयार की है जिसके तहत 6.50 लाख छात्राओं को हर महीने छ: सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध कराए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कभी-कभी लोग अपनी समस्याओं को बताने में झिझक महसूस करते हैंलेकिन यह सरकार का कत्र्तव्य है कि वह निरंतर आमजन से संपर्क करे और उनके लिए आवश्यक व्यवस्था करे।मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के अलावामहिला एवं बाल विकास के क्षेत्र में कार्य करने वाले अन्य सरकारी और गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) भी जमीनी स्तर पर इन योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं और इस योजना के तहत लाभार्थियों को अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार 4-एस यानी शिक्षास्वास्थ्यसुरक्षा और स्वावलंबन पर ध्यान केंद्रित करते हुए काम कर रही है और आज इसमें एक और एस यानी स्वाभिमान को भी शामिल किया गया हैताकि यह सुनिश्चित हो सके कि लोग आत्मसम्मान के साथ रहें। इसके लिए कल ही उन्होंने पंचकूला से परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) का वितरण शुरू किया हैजिसके तहत लोगों को सरकारी कार्यालयों में आने की आवश्यकता नहीं होगीबल्कि सरकार उन्हें विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ प्रदान करने के लिए उनके घर द्वार पर  जाएगी।

 इससे पूर्वमुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री दूध उपहार’ योजना और महिला एवं किशोरी सम्मानयोजना का ब्रोशर और पोस्टर भी जारी किया। उन्होंने महिला और बाल विकास विभाग के सुपरवाइजर के स्थानांतरण के लिए ऑनलाइन स्थानांतरण नीति भी लॉन्च की।इस अवसर परमनोहर लाल ने सोनीपत जिले के श्री प्रदीप सिंह को यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2019 में टॉप करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि को प्राप्त करके श्री प्रदीप सिंह ने न केवल अपने परिवार बल्कि राज्य का भी नाम रौशन किया है।

 इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा आज शुरू की गई दो योजनाओं से न केवल  प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान को और बढ़ावा मिलेगा बल्कि ये योजनाएं महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की समस्या को दूर करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। उन्होंने कहा कि इन दोनों योजनाओं पर हर साल 256 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व मेंवर्तमान राज्य सरकार ने महिलाओं और बच्चों के कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं।

मुख्य सचिव केशनी आनन्द अरोड़ा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को महिलाओं और बच्चों के कल्याण के उद्देश्य से दो नई योजनाओं को शुरू करने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि यह योजनाएं कुपोषण और एनीमिया की समस्या को हल करने में फायदेमंद साबित होंगी।महिला और बाल विकास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अमित झा ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वे हमेशा महिलाओं और बच्चों के कल्याण के लिए सोचते हैं।इस अवसर पर मुख्यमंत्री की उप प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़ और हरियाणा राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की चेयरपर्सन ज्योति बैंदा भी उपस्थित थी।

No comments

Powered by Blogger.