आशा वर्करों की न्यूनतम मजदूरी सुनिश्चित करें सरकार : सचिन तंवर 

फरीदाबाद (Abtaknews.com)09अगस्त,2020: जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय सचिव युवा सचिन तंवर ने हरियाणा सहित देशभर में अपनी मांगों को लेकर हड़ताल कर रही आशा वर्करों का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार को तुरंत आशा वर्करों से बातचीत करके इनकी मांगों को स्वीकार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार आशा वर्करों की समस्याओं के प्रति उदासीन रवैया अपना रही है, जबकि कोविड-19 महामारी के इस दौर में आशा वर्कर अपनी जान जोखिम में डालकर जमीनी स्तर पर काम कर रही हैं। कोरोना महामारी के दौरान आशा वर्करों के लिए जो आवश्यक कदम सरकार को उठाने चाहिए थे, उनके प्रति सरकार टालमटोल का रवैया अपना रही है, जिससे मजबूर होकर आशा वर्करों को हड़ताल पर जाना पड़ा है। सचिन तंवर ने कहा कि पूरे देश में 10 लाख और हरियाणा में 20 हजार आशा वर्कर कोरोना योद्धा के रूप में लोगों की सेवा कर रही हैं। जनस्वास्थ्य विभाग का भी कहना है कि कोरोना वायरस की रोकथाम में आशा वर्करों ने बेहतरीन कार्य करके संकमण की रफ्तार को कम किया है। आशा वर्कर में शामिल सभी महिलाएं कोरोना महामारी से लडऩे और संक्रमण को रोकने में अपनी महत्वपूर्ण जिम्मेवारी निभा रही हैं। गांव-गांव, लोगों के घर-घर जाकर परिवार के एक-एक सदस्य की स्वास्थ्य से जुड़ी अहम जानकारी एकत्रित करती हैं और इसी आधार पर सरकार बीमारियों को बेहतर तरीके से समझ पाती है। आशा वर्कर की मदद से ही देश ने पोलियो जैसी गंभीर बिमारियों पर विजय पाई है। आशा वर्करों की सुरक्षा, बीमा, जोखिम भत्ता, समय पर वेतन दिए जाने, न्यूनतम मजदूरी सुनिश्चित करने जैसी मांगों को सरकार को तुंरत स्वीकार करना चाहिए।

No comments

Powered by Blogger.