कलकत्ता 12वी  वेबैठक  में  ट्रॉली दत्ता  का सरोद वादन


कलकत्ता (Abtaknews.com)28अगस्त,2020:कोविड-19 के कठिन समय में  लोगों  को संगीत  से सराबोर करके कला और कलाप्रेमियों  के बीच का माध्यम  बनकर प्राचीन कला केंद्र  समाज के  प्रति  अपने कर्त्तव्य  का निर्वाह  निरंतर करने में प्रयासरत है। इस भयावह समय में  लोगों को संगीत  से सुकून देने का  प्रयास करके  केंद्र जखम पर मरहम लगाने जैसा कार्य कर रहा है इसी सोच के साथ आज केंद्र की 12  वेबैठक में कलकत्ता की युवा और प्रतिभावान सरोद वादक ट्रॉली दत्ता ने अपनी प्रस्तुति पेश की इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण प्राचीन कला केंद्र के  अधिकृत यूट्यूब चैनल एवं फेसबुक तथा ट्विटर पेज पर किया गया
 कलकत्ता की ट्रॉली का सरोद  के साथ पहला परिचय जाने माने सरोद वादक कमाल मालिक ने करवाया जो खुद  उस्ताद अकबर अली खान साहिब के शिष्य थे।  गुरु शिष्य परंपरा के तहत उन्होंने ने कमाल साहिब से सीखा  उपरांत पंडित संजय बंद्योपाध्याय और पंडित   पार्थो सारथी से  सरोद की बारीकियां सीखी।  दूरदर्शन एवं स्पिकमैके की इम्पैनलड कलाकार ट्रॉली  आल इंडिया रेडियो की बी हाई ग्रेड आर्टिस्ट भी हैं। ट्रॉली के प्रतिभा के फलस्वरूप उन्हें २०१७ में  हैदराबाद में माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से समक्ष प्रस्तुति देने का अवसर प्राप्त हुआ।  इसके इलावा इन्होने ने देश ही नहीं विदेशों  में भी अपनी कला का बखूबी  प्रदर्शन करके तालियां बटोरी हैंआज के कार्यक्रम का आरम्भ इन्होने ने राग दिवाबती से किया  जिस में उन्होंने आलाप   जोड़ के बाद विलम्बित झपताल में एक रचना का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम के अगले भाग में ट्रॉली ने  राग चारुकेशी में मध्य लय से सजी रचना को  झपताल में  प्रस्तुत किया कार्यक्रम का समापन उन्होंने ने द्रुत तीन ताल में निबद्ध  झाले से किया।  ट्रॉली के साथ तबले पर  पिंटू दास  ने बखूबी संगत की। इन प्रस्तुतियों के माध्यम से ट्रॉली ने रागों की शुद्धता और तंत्रकारी अंगों पर अपनी महारत को बखूबी दर्शाया

No comments

Powered by Blogger.