उपायुक्त नरेश नरवाल ने कोरोना पॉजीटिव केस मिलने पर जिला में किए कंटेनमेंट जोन घोषित

पलवल(Abtaknews.com)15 जुलाई।उपायुक्त नरेश नरवाल ने उपमंडल पलवल के नगर परिषद क्षेत्र के गांव फिरोजपुर वार्ड नंबर-1, मोहन नगर वार्ड नंबर-4, कैलाश नगर नजदीक हनुमान मंदिर वार्ड नंबर-4, राजीव नगर वार्ड नंबर-5, खाटू श्याम कॉलोनी सरकारी अस्पताल के पिछे नजदीक लोहागढ वार्ड नंबर-8, जवाहर नगर व जवाहर नगर कैंप वार्ड नंबर-12, न्यू कॉलोनी वार्ड नंबर-13, कृष्णा कॉलोनी वार्ड नंबर-17, प्रकाश विहार कॉलोनी नजदीक बी.एन. मॉडल स्कूल वार्ड नंबर-18, श्याम नगर कॉलोनी वार्ड नंबर-20, जवाहर नगर हरियाणा ट्रैडर्स के सामने (पहले से ही कंटेनमेंट जोन घोषित) एवं गली नंबर-2 ट्रैक्टर मार्किट रसूलपुर चौक वार्ड नंबर-23, टॉवर नंबर-6 ओमेक्स सिटी वार्ड नंबर-24, कालडा कॉलोनी वार्ड नंबर-25, बास मौहल्ला हथीन रोड वार्ड नंबर-26, हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी वार्ड नंबर-31 और गांव बिल्लौचपुर, प्रहलादपुर, ताराका, सिहोल नजदीक साद मौहल्ला, देवली नजदीक ओल्ड ऐज होम में कोविड-19 पॉजीटिव केस मिलने पर संबंधित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है।
इसी प्रकार होडल उपमंडल के नगर परिषद क्षेत्र के अवस्ती सराय वार्ड नंबर-13, सैनिक कॉलोनी, वॉटर वक्र्स कॉलोनी नजदीक अनुपम वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय, मौहल्ला नजदीक हनुमान मंदिर (पहले से ही कंटेनमेंट जोन घोषित), आटा मिल नजदीक आर्शीवाद बैंकटहॉल तथाा गांव गढीपट्टïी, गांव दीघोट, पतली गली पंजाबी मौहल्ला हसनपुर, गुधराना नजदीक अंबेडकर भवन, नगला अहसानपुर नजदीक मस्जिद और हथीन उपमंडल के गांव बहीन, रींडका, भंगूरी, नाटोली व गांव कलसाडा में में कोविड-19 पॉजीटिव केस मिलने पर संबंधित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। जिला कंटेनमेंट प्लान (स्वास्थ्य विभाग) के प्रोटोकॉल के अनुसार इन क्षेत्रों में आवाजाही नियंत्रित कर दी गई है। साथ ही कोविड-19 संक्रमण से क्षेत्रवासियों के बचाव के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।
उपायुक्त के जारी आदेशों के तहत इन क्षेत्रों में पॉजीटिव केस मिलने पर कोविड-19 के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए पर्याप्त आशा व आंगनवाड़ी वर्कर की टीमें डोर टू डोर स्क्रीनिंग व थर्मल स्कैनिंग करेंगी। इन क्षेत्र को पूर्णतया सेनेटाइज करने का कार्य संबंधित बीडीपीओ व नगर परिषद की ओर से किया जाएगा। एक आंगनवाड़ी सुपरवाइजर तथा संबंधित क्षेत्र की सीडीपीओ की निगरानी में यह कार्य होगा। निर्धारित किए गए कंटेनमेंट व बफर जोन के लिए संबंधित उपमंडल के एसडीएम ओवरऑल मजिस्ट्रेट होंगे।
कंटेनमेंट प्लान के अनुरूप सभी विभाग अपने-अपने कार्य करेंगे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से संक्रमण से बचाव के लिए सभी आवश्यक कार्य किए जाएंगे। इन आदेशों का उल्लंघन करने वाले अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 56 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

No comments

Powered by Blogger.