Friday, June 5, 2020

कोरोना महामारी न आती तो 867 बसें हरियाणा रोडवेज के बेड़े में शामिल हो जाती ; मूलचंद शर्मा

चंडीगढ़(abtaknews.com)05जून,2020 हरियाणा सरकार के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि आज कोविड-19 जैसी महामारी के कारण पैदा हुए हालात ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है। विभाग के कर्मचारियों ने मुश्किल की इस घड़ी में जिस निष्ठा के साथ अपना फर्ज निभाया हैउसके लिए वे सभी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि अगर यह कोरोना महामारी न आती तो 867 बसें हरियाणा रोडवेज के बेड़े में शामिल हो चुकी होती।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा रोडवेज तालमेल कमेटी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार 273 मार्गों पर स्टेज कैरेज स्कीम के तहत निजी ऑपरेटरों को बसों के संचालन की अनुमति देनेविभाग के बेड़े में बसों की संख्या बढ़ानेएस्मा के तहत की गई कार्रवाई को वापस लेनेकंडक्टर के पे-स्केल संशोधित करनेयार्ड मास्टर के पदों की स्वीकृति और वर्कशॉप की छुटि9टयों समेत विभिन्न मुद्दों पर बड़े ही सौहार्दपूर्ण माहौल में चर्चा की गई। बैठक के दौरान तालमेल कमेटी के प्रतिनिधियों की तरफ से कई रचनात्मक सुझाव दिए गएश्री मूलचंद शर्मा ने कर्मचारियों की मांगों को बड़े गौर से सुना और उनकी सभी जायज मांगों को जल्द से जल्द पूरा करवाने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि मेरे लिए विभाग और इसके कर्मचारियों के हित सर्वोपरि हैं और इनके हितों पर हरगिज आंच नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि विभाग में अगर किसी की पदोन्नति होनी है तो इसमें किसी भी तरह का विलंब उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि विभाग में यार्ड मास्टर के 82 पद स्वीकृत करवाए गए हैं जिन पर परिचालकों की पदोन्नति हो सकेगी। कर्मचारियों के लंबित भुगतान के संबंध में उन्होंने संबंधित महाप्रबंधक के माध्यम से कर्मचारियों के बकाया की सूची मुख्यालय भिजवाने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ हीउन्होंने बसों में चालक-परिचालक के लिए अलग से केबिन बनवाने के भी निर्देश दिए।
विभाग के अधिकारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बदले हालात में हर व्यक्ति की भूमिका बदल गई है। यही वजह है कि पुलिसकर्मियों ने अपनी ड्यूटी से अलग हटकर जरूरतमंदों को राशन बांटने का काम किया है। डॉक्टरों और पैरा-मेडिकल स्टाफ ने विषम परिस्थितियों में अपना फर्ज निभाया है और विभिन्न सामाजिक संगठनों ने भी इस दौरान  अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग का कार्य मुनाफा कमाना नहीं बल्कि लोगों की सेवा करना है।
विभाग के प्रधान सचिव श्री अनुराग रस्तोगी ने कहा कि निजी ऑपरेटरों को रूट परमिट देने का कार्य सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के उपरांत किया जा रहा है। उन्होंने स्पष्टï किया कि हरियाणा रोडवेज के बगैर सार्वजिनक परिवहन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। इसलिए रूट परमिट देते समय विभाग के हितों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही आरटीए सचिवों की एक बैठक बुलाई जाएगी जिसमें बसों का टाइम-टेबल बनानेरूट निर्धारित करने और सरकार के आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करवाने से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा कि डिपो महाप्रबंधकों की भी शीघ्र ही एक वीडियो कॉफ्रेंसिंग बुलाई जाएगी।
बैठक में राज्य परिवहन विभाग के महानिदेशक श्री वीरेंद्र सिंह दहियापरिवहन आयुक्त श्री एस.एस. फुलिया और अतिरिक्त निदेशक राज्य परिवहन श्री सम्वर्तक सिंह के अलावा विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।
----------------------------------------
चंडीगढ़,05जून।कोविड-19 के दौरान विभिन्न संगठनों पर पड़े व्यावसायिक प्रभाव को कम करने के उद्देश्य से हरियाणा सरकार ने स्टार्टअप इंडिया के सहयोग से वर्चुअल मेंटरशिप वर्कशॉप सीरीज की शुरुआत की है। राज्य सरकार समय-समय पर विभिन्न लाभ प्रदान करके उद्यमियों और युवाओं की सहायता के लिए एक गतिशील स्टार्टअप इकोसिस्टम को स्थापित करने के लिए पर्याप्त कदम उठा रही है।
इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के एक प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि विभाग ने स्टार्टअप इंडिया के साथ मिलकर शुरुआती चरण के स्टार्टअप के लिए एक वर्चुअल मेंटरशिप वर्कशॉप सीरिज की शुरुआत की है जिसका उद्देश्य संकट के समय में अपने-अपने स्थानों से मेंटर्स और स्टार्टअप को एक-दूसरे के साथ जुडऩे का एक सुरक्षित सलाह मंच प्रदान करना है।
        प्रवक्ता ने बताया कि वर्चुअल मेंटरशिप वर्कशॉप सीरीज़ का उद्देश्य स्टार्टअप्स के दृष्टिकोण को व्यापक बनाने और विशेष रूप से वैश्विक संकट के मद्देनजर उनका आत्मविश्वास बढ़ाने में उनकी मदद करना है। उन्होंने बताया कि यह तीन महीने का कार्यक्रम हैजो शुरुआती चरण के स्टार्टअप के लिए उद्योग के विशेषज्ञों के साथ बातचीत करनेउनके ज्ञान और विशेषज्ञता से सीखने तथा अपने कारोबार में तेजी लाने के लिए रणनीति तैयार करने का एक अवसर प्रदान करता है।
          उन्होंने बताया कि कार्यक्रम में समूह सत्र और व्यक्तिगत सत्र शामिल हैं। समूह सत्र स्टार्टअप को मेंटर्स के ज्ञान और अनुभव से सीखने और अन्य स्टार्टअप के साथ बातचीत करने का अवसर प्रदान करते हैंजबकि व्यक्तिगत सत्र स्टार्टअप को उनके स्टार्टअप से जुड़े विशेष मुद्दों पर मेंटर्स के साथ बातचीत करने में मदद करते हैं।
        उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में व्यवसाय मॉडलिंगउत्पादों / सेवा का आवश्यकता विश्लेषणकराधानकानून और वित्त पोषण की मूल बातोंडिजिटल विपणनव्यापार निरंतरता आदि जैसे विषयों पर सत्र शामिल हैंजो शुरुआती दौर में स्टार्टअप्स के लिए उपयोगी होते हैं।
        उन्होंने बताया कि विभाग ने कोविड-19 संकट के दौरान 8 मई, 2020 को व्यापार निरंतरता’ विषय पर पहला सत्र आयोजित किया था। उसके बाद 18 मई, 2020 को कराधान / कानूनी आधार विषय पर दूसरा सत्र आयोजित किया गया था।
        प्रवक्ता ने बताया कि जून और जुलाई महीनों के सत्र भी निर्धारित किए गए हैंजिनमें डिजिटल मार्केटिंग आवश्यकताफंडिंग टिप्सपिच डेक प्रिपरेशननिवेशक संबंध प्रबंधनकराधान / कानूनी रणनीतियाँ और अन्य प्रासंगिक विषयों को कवर किया जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages