कोरोना से ज्यादा खतरनाक है कंडम बिल्डिंग,बड़े हादसे के इंतजार में बिजली विभाग, कर्मचारियों में आक्रोश

फरीदाबाद(Abtaknews.com)10मई,2020:हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर्स यूनियन बिजली निगम अधिकारियों के समक्ष कर्मचारियों की आवाज को उठा उनकी समस्याएँ हल कराने में हरसंभव प्रयासरत व अग्रसर रही है और इसी कड़ी में आज यूनिट बल्लभगढ़ के बिजली कर्मचारी प्रधान कर्मवीर यादव ने बिजली निगम अधिकारियों की घोर निन्दा करते हुए बताया कि बल्लभगढ़ (सीही) स्तिथ ए-5 पावर हाउस कॉलोनी में रहने वाला बिजली कर्मचारी लाल किशन लाइनमैन क्वार्टर नम्बर बी-34 में परिवार सहित रहता है । जिसके मकान की आज सुबह तड़के अचानक छत का लेन्टर भरभरा कर गिर पड़ा । हालांकि गनीमत यह रही कि कुछ देर पहले ही उसी छत के नीचे बच्चे खेल रहे थे । ये तो भगवान का शुकर है कि छत के गिरने में और बच्चों के खेलते खेलते वहाँ से बाहर निकल कर आ जाने के दौरान करीबन कुछ ही सेकंड समय का फासला रहा, नही तो एक बड़ा भयानक हादसा होना लाज़मी था । जो परिवार के लिये काल साबित हो सकता था । जिससे वह बच्चे बाल बाल बचे व इसी कॉलोनी के और अन्य क्वार्टर जिनके नम्बर ए-9 पवन कुमार लाइनमैन, बी-36 ठाकुरदास लाइनमैन, बी-38 सियाराम लाइनमैन आदि के क्वार्टरों की हालत भी लाल किशन क्वार्टर के जैसी ही है । जो कभी भी हादसे का रूप ले सकते हैं । लेकिन बिजली निगम अधिकारियों के कान पर जूं के ना रेंगने की ऐसी लापरवाही बार बार सामने आई है । जिसको लेकर वह अभी गम्भीर नही हैं । जबकि बिजली कर्मियों ने ऐसे अनेकों ज्वलन्त मसलों पर अपने कर्मचारी नेताओं को अवगत कराया है । जिस पर कड़ाई से संज्ञान लेते हुए एचएसईबी वर्कर्स यूनियन की ओर से 10 फरवरी 2020 को लिखित में एचवीपीएन डिवीजन सेक्टर-23 के कार्यकारी अभियन्ता एमएल गर्ग को कर्मचारियों की इन्ही समस्याओं से घिरा एक अनेक सूत्रीय एजेन्डा सौंपा गया । जिसके बाद एक्सईएन एमएल गर्ग ने अपनी ओर से कर्मचारी नेताओं को एजेन्डे की समीक्षा हेतू बुलाकर आश्वासन दिया था । कि यह सभी काम जल्द से जल्द निपटा लिये जायेंगे । लेकिन फिर भी समय रहते एक्शन गर्ग की तरफ से कोई सकारात्मक कदम नही उठाये गये । और जिसके बाद सेक्टर-18 की पावर हाउस कॉलोनी में 24 अप्रैल 2020 को बिजली कर्मचारी जयभगवान के घर की छत का छज्जा भी इसी तरह भरभरा कर गिर गया व एक बार फिर बाद हादसा होते होते बचा । तब भी इसकी सूचना निगम अधिकारियों को दे दी गई थी । इस कॉलोनी में रहे सैंकड़ों बिजली कर्मचारियों के परिवार गुजर बसर करते हैं । जिन्हे ऐसी ही अनेकों समस्याओं से रूबरू होना पड़ता है । इन जर्जर इमारतों के गंभीर हादसों से शायद कोई भी अधिकारी अभी चेता नही है । लगता है अधिकारी वर्ग किसी बड़े हादसे के इन्तजार में मूक दर्शक बने बैठे हैं । जिससे कर्मचारियों के परिवारों में खस्ताहाल बिल्डिंग से भय के साथ साथ भारी गुस्से का माहौल बना हुआ है । जिसमें फिलहाल लॉक डाउन की पालना पर अपना कर्तव्य बताते हुए उन्होंने कहा है । इसके खुलने के बाद ऐसे बहरे अधिकारियों का घेराव किया जायेगा ।

No comments

Powered by Blogger.