निर्माणाधीन मंझावली पुल की दरार,प्रदेश व देश की ईमानदार सरकार पर सवालिया निशान

चंडीगढ़(Abtaknews.com)07मई,2020: निर्माणाधीन मंझावली पुल की दरार,प्रदेश व देश की ईमानदार सरकार पर सवालिया निशान है। उक्त मामला केन्द्रीय सड़क,परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की बेदाग छवि पर बहुत बडा खतरा है। फरीदाबाद और ग्रेटर नोएडा को जोड़ने वाले यमुना नदी पर बन रहे मंझावली पुल का निर्माण कार्य अगस्त 2014 में शुरू हुआ था। मतलब 6 साल होने को आये हैं इस 315 करोड़ के प्रोजेक्ट को। पहला वायदा 18 महीनों में पूरा होने का था। लेकिन ये अब भी पूरा होता नजर नहीं आ रहा। फरीदाबाद के विकास के पहियों की रफ्तार में रोड़ा बन हुआ ये पुल एक और सदमा लेकर आया है।
आखरी डेडलाइन इसके निर्माण कार्य की जून 2020 रखी गयी थी थी। लेकिन बात अब इसकी डेडलाइन की नहीं है। इससे गुजरना कितना खतरनाक हो सकता है, कितने लोगों की जान जा सकती है बात उसकी है। देश में पहली बार कोई फ्लाईओवर नहीं बन रहा जो की ये कहा जाए कि निर्माण में खामियां आ सकती हैं। पुल का हिस्सा निर्माण कार्य के दौरन ही टूट रहा है। खम्बों पर पुल का हिस्सा रखने के दौरान हिस्से टूट रहे हैं। सिर्फ दरार नहीं आ रही। ये बड़ी खबर है। सूत्रों के अनुसार इससे पहले भी पुल के एक हिस्से को लाकर जब रखा जा रहा था तब भी ऐसा ही हुआ था और अब फिर ऐसा ही हुआ है। पुल की गुणवत्ता को लेकर बड़ा सवाल है।

अभी तक सभी इंतजार कर रहे थे कब मंझावली पुल बने। कब फरीदाबाद से नोएडा और नोएडा से फरीदाबाद आना आसान हो। लेकिन जिस हाल में ये बन रहा है वो डरा रहा है। तस्वीरें डरा रही हैं। और कितने साल चाहिए इसे बनने में और सही गुणवत्ता के साथ बनने में। क्या ये जनता के साथ धोखा नहीं? वो क्यों दिल्ली में धक्के खा समय बर्बाद करें, तेल फूकें और बदरपुर टोल दे कब तक नोएडा जाए? जबकि उसे महज एक फ्लाईओवर से गुजरना था। 18 महीने में पूरा होना था महज इस प्रोजेक्ट को? बदरपुर टोल वसूली के कारण देरी तो नहीं हुई?

कारण चाहे जो भी हो 600 मीटर लंबे इस पुल के प्रोजेक्ट की हरियाणा सरकार को उच्च स्तरीय जांच करानी चाहिए। ये आम जन की सुरक्षित यात्रा के साथ बड़ा खिलवाड़ हो सकता है और घटिया निर्माण सामग्री का इस्तेमाल कर बड़ा घोटाला भी।                                                                            क्या कहतें हैं बाबा रामकेवल: फरीदाबाद के प्रखर वक्ता एवं समाजसेवी अनशनकारी बाबा रामकेवल जो कि लाकडाऊन के चलते रायबरेली उत्तर प्रदेश में फंसे हुए हैं। फोन पर जब उन्हें उपरोक्त मामला बताया तो बाबा रामकेवल ने कहा कि मैं बहुत दिनों से चिल्ल रहा हूँ कि नेताओं की मिलीभगत से भ्रष्ट अधिकारी प्रदेश और देश में लूट मचाए हुए हैं। जिसे जहां मौका मिल रहा है वो अपना खेल कर रहे हैं। कुछ तो राष्ट्रवाद और ईमानदारी के नाम पर जमकर भ्रष्टाचार करने में जुटे हैं। राम भरोसे है अपना देश।

No comments

Powered by Blogger.