भारतीय मजदूर संघ ने केंद्र सरकार के द्वारा श्रम कानूनों में बदलाव पर जताया विरोध, सौंपा मांगपत्र


फरीदाबाद(Abtaknews.com)18मई, 2020: कोविड-19 प्रकोप के चलते सोशल डिस्टेंसिग का ध्यान रखते हुए बीएमएस ने ग्यापन सौंपा। सेक्टर 12 स्थित लघुसचिवालय में जिला उपायुक्त कार्यालय में पहुंचे श्रमिक नेताओं में भारतीय मजदूर संघ के आर सी कटोच, अशोक कुमार, जिला मंत्री नीरज त्यागी, टूरिज्म कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष बाबू आर्य, ग्रूप-4 के प्रधान शैलेश चौधरी, भवन निर्माण जिला अध्यक्ष नीरज मावई, महेश यादव मुख्य रूप से उपस्थित रहे। दिए गए मांग पत्र में स्वास्थ्य कर्मचारी संघ हरियाणा  सदैव स्वास्थ्य कर्मचारी की आवाज को उठाया है। अब केंद्र सरकार के द्वारा कर्मचारियों श्रमिकों मजदूरों का शोषण करने की मंशा से नए श्रम कानून पारित किए जा रहे हैं जिसमें कर्मचारियों से 8 घंटे की बजाए 12 घंटे काम लेना यूनियन बनाने का अधिकार समाप्त करना केंद्र सरकार के इस फरमान का विरोध मजदूर संघ के द्वारा किया गया है। केंद्र सरकार अपने इस निर्णय को वापस नहीं लेती तो संघ ने चेताया समस्त संबंधित संगठन राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेवारी केंद्र सरकार की होगी  सभी ट्रेड यूनियनो को एक होने की आवश्यकता है मातृत्व संगठन भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय नेतृत्व आदरणीय प्रतिनिधियों के द्वारा जो केंद्र स्तर पर श्रम कानूनों में बदलाव का जो कड़ा विरोध किया भारतीय मजदूर संघ  एक गैर राजनीतिक संगठन है देशहित  कर्मचारी हित उद्योग हित के प्रति  समर्पित है  इस आपदा में ठेका प्रथा ,एन.एच.एम एंबुलेंस सेवा 108 कर्मी स्वास्थ्य विभाग में विभिन्न स्कीमो मे कार्यरत कर्मचारी इस महामारी के दौरान अपनी सेवाएं दे रहे हैं। केंद्र सरकार कर्मचारियों को सेवा सुरक्षा रेगुलराइजेशन पॉलिसी पुरानी पेंशन स्कीम बहाली करने  व कर्मचारियो को प्रोत्साहित करे ना कि शोषण केंद्र सरकार ऐसे कानूनों को तुरंत प्रभाव से रद्द करने की मांग की इस कोरोना महामारी के दौरान देश का मीडिया जोकि चौथा स्तंभ माना जाता है जो निष्ठा से देश की सेवा में लगे हैं । सुरेंद्र देशवाल स्वास्थ्य कर्मचारी संघ हरियाणा ने आश्वासन दिया संगठन सदैव मातृत्व संगठन के दिशानिर्देशों के प्रति दृढ़ संकल्पित रहेगा।   

No comments

Powered by Blogger.