जेसी बोस विश्वविद्यालय कुलपति प्रो दिनेश कुमार ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल का जताया आभार

फरीदाबाद(Abtaknews.com)1मई,2020: हरियाणा सरकार द्वारा जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद को परिसर विस्तार के लिए गांव भाकरी में 18 एकड़ जमीन आवंटित करने की स्वीकृति दिये जाने के उपरांत विश्वविद्यालय ने परिसर विस्तार में अकादमिक एवं ढांचागत विकास के लिए विस्तृत कार्य योजना तैयार करने का निर्णय लिया है। 
उल्लेखनीय है कि हरियाणा मंत्रिमंडल की मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में गुरूवार को हुई बैठक में विश्वविद्यालय को परिसर विस्तार के लिए गांव भाकरी में नगर निगम, फरीदाबाद की 18 एकड़ भूमि वर्तमान कलेक्टर रेट एवं विकास शुल्क के साथ आवंटित करने के प्रस्ताव कोे स्वीकृति प्रदान कर दी गई है।
कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने विश्वविद्यालय के परिसर विस्तार के लिए भूमि आवंटन को स्वीकृति प्रदान करने पर विश्वविद्यालय की ओर से हरियाणा सरकार, विशेष रूप से मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल का आभार जताया है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल को प्रेषित संदेश में कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय भूमि आवंटन के लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल का कृतज्ञ है, जिन्होंने विश्वविद्यालय की चिरलंबित मांग को पूरा किया है। उन्होंने कहा कि अब विश्वविद्यालय अपनी भावी योजनाओं को लेकर निश्चिन्त हो गया है। विगत पांच वर्षों के दौरान विश्वविद्यालय ने अकादमिक क्षेत्र में तेजी से विकास किया है, जिसके कारण विद्यार्थियों की संख्या 2500 से बढ़कर आगामी शैक्षणिक सत्र में 5 हजार तक पहुंच जायेगी। ऐसे समय में विद्यार्थियों के व्यापक हितों में लिया गया यह बड़ा निर्णय है। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय की योजना राष्ट्रीय शिक्षा नीति का अनुसरण करते हुए विस्तारित परिसर में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के बहुःविषयक क्षेत्र के साथ-साथ लिबरल आर्ट पाठ्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए नये कार्यक्रमों शुरू करने की है।
कुलपति ने कोरोना वायरस (कोेविड-19) महामारी से उत्पन्न स्थिति तथा चुनौतियों से निपटने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की प्रशंसा की है तथा विश्वविद्यालय द्वारा राज्य सरकार के सभी निर्देशों का अक्षरसः पालन करने की प्रतिबद्धता जताई है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय परिवार के प्रत्येक सदस्य ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अपनी भागीदार सुनिश्चित की है और किसी न किसी तरह सेे राहत एवं रोकथाम गतिविधियों में अपना योगदान दे रहा है।

No comments

Powered by Blogger.