पलवल जिला में 11015 डिस्ट्रेस राशन टोकन से मिलेगा 38565 व्यक्तियों को निशुल्क राशन

पलवल(Abtaknews.com)13मई,2020:पलवल जिला में कोविड-19 वैश्विक महामारी से बचाव के लिए राष्ट्रीय लॉकडाउन में जरूरतमंद परिवारों के लिए अच्छी खबर है। हरियाणा सरकार द्वारा जरूरतमंद परिवारों को डिस्ट्रेस राशन टोकन जारी करने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है, जिसके तहत पलवल जिला में अब तक 11,015 परिवारों की डिस्ट्रेस राशन टोकन के लिए पहचान भी कर ली गई है। जिला के विभिन्न राशन डिपो पर इन टोकन की मैपिंग करते हुए पहले चरण में 2416 परिवारों के लिए नि:शुल्क गेहूं व दाल भी एलोकेट कर दी गई है, जिसके चलते 2416 डिस्ट्रेस राशन टोकन पर 9664 व्यक्तियों को निशुल्क गेहूं व दाल मिलेगी।
गौरतलब है कि कोरोना वैश्विक महामारी से उत्पन्न हुई आपात स्थिति व लॉकडाउन की वजह से गरीब व जरूरतमंद लोगों सहित प्रवासी श्रमिकों को मई व जून माह 2020 के लिए डिस्ट्रेस राशन टोकन जारी किए जा रहे हैं। इन टोकन के माध्यम से जरूरतमंद परिवारों व व्यक्तियों को 5 किलोग्राम गेहूं प्रति व्यक्ति तथा एक किलोग्राम दाल प्रति परिवार प्रति माह निशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है।
483 क्विंटल 20 किलोग्राम गेहूं तथा 24 क्विंटल 20 किलोग्राम दाल हुई प्राप्त
जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक राम अवतार सिंह ने बताया कि पलवल जिला में विभिन्न योजनाओं के पात्र लोगों व परिवारों सहित अब तक विभागीय स्तर पर 11015 डिस्ट्रेस राशन टोकन की मैपिंग हो चुकी है तथा 2416 डिस्ट्रेस राशन टोकन पर 9664 सदस्यों के लिए 483.20 क्विंटल गेहूं तथा 24.20 क्विंटल दाल प्राप्त हुई है। उक्त प्राप्त राशन को विधानसभा अनुसार जरूरतमंद टोकन धारकों को राशन डिपो के माध्यम से निशुल्क राशन दिए जाने की प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है। उन्होंने बताया कि उपायुक्त नरेश नरवाल के मार्गदर्शन में पलवल जिला में उक्त राशन वितरण की पूरी योजनाबद्ध तरीके से कार्य किया जा रहा है। डिस्ट्रेस राशन टोकन का वितरण संबंधित एसडीएम की देखरेख में किया जाएगा। उसके उपरांत टोकन प्राप्त परिवार अथवा व्यक्ति राशन प्राप्त करते समय डिपोधारक को केवल डिस्ट्रेस राशन टोकन व आधार पहचान पत्र दिखाने पर राशन ले सकता है।
लॉकडाउन में नहीं रहेगा कोई व्यक्ति भूखा : उपायुक्त
उपायुक्त नरेश नरवाल का कहना है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण सरकार की ओर से स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिगत किए गए लॉकडाउन में कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति अथवा परिवार भूखा न रहे इसके लिए हरियाणा सरकार पूरी मददगार बन रही है। उन्होंने खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले की ओर से जारी किए गए निर्देशों की जानकारी देते हुए बताया कि ऐसे परिवार अथवा व्यक्ति जिनके द्वारा गरीबी रेखा से नीचे अर्थात बीपीएल राशन कार्ड हेतू आवेदन किया हुआ है और वे जिला स्तरीय कमेटी द्वारा वैरिफाइड किए जा चुके हैं परंतु बीपीएल कार्ड अभी जारी नहीं हुआ है, साथ ही मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत जिनकों पूर्व में एपीएल कार्ड जारी किए गए थे, जिला प्रशासन द्वारा गठित लोकल कमेटी द्वारा किए गए सर्वे उपरांत चयनित परिवार, व्यक्तियों की सूची तथा मुख्यमंत्री ट्वीटर हैंडल के माध्यम से प्राप्त आवेदनों की सूची जो जिला प्रशासन से प्राप्त हुई है, की श्रेणियों के परिवारों अथवा व्यक्तियों को ही डिस्ट्रेस राशन टोकन जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग को पूरी गंभीरता से कार्य करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।
-------------------------------------------------------------
पलवल, 13 मई।सिविल सर्जन डॉ. ब्रह्मदीप ने कहा कि जिले में टी.बी. के मरीजों का अब कोविड-19 टेस्ट भी किया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग पलवल ने तैयारी शुरू कर दी है। अब जो भी टी.बी. का नया मरीज आएगा स्वास्थ्य विभाग उसका कोरोना टेस्ट करवाएगा।
सिविल सर्जन ने बताया कि टी.बी. व कोरोना के लक्षण काफी मिलते जुलते है। इन दोनों प्रकार की बीमारियों में मरीजों को खांसी व बुखार आता है। इसलिए बीमारी का ठीक प्रकार से पता लगाने के लिए टी.बी. मरीजों का अब कोरोना टेस्ट होगा। उन्होंने बताया कि अभी पुराने मरीजों का टेस्ट नहीं होगा। कोविड-19 टेस्ट केवल नए मरीज का ही होगा। इसके साथ-साथ पुराने मरीजों पर भी नजर रखी जाएगी। अगर उनकी हालत गंभीर है तो उनका भी टेस्ट किया जाएगा।
टी.बी. कंट्रोल प्रोग्राम अधिकारी डॉ. अजय माम के अनुसार टी.बी. मरीजों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। इसलिए उसे कोई दूसरी बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है। अगर किसी टी.बी. मरीज में कोरोना की पुष्टि होती है तो इलाज भी दोनों बीमरियों को ध्यान में रखकर ही किया जाएगा। इसलिए विभाग ने टी.बी. के मरीजों का कोविड-19 टेस्ट करवाने के लिए निर्देशित किया है। उन्होंने कहा अभी तक जिले में कोरोना के जो पॉजिटिव केस आ रहे है, उनकी टी.बी. की भी जांच कराई जा रही है।
उप सिविल सर्जन डॉ. अजय माम के अनुसार जिले में इस साल अभी तक टी.बी. के कुल 805 मरीजों का ईलाज चल रहा है। कोरोना के संक्रमण के दृष्टिïगत हाल ही में प्रशासन की ओर से पूरे जिले में सर्वे चलाया गया है। उन्होंने बताया की इस तरह के सर्वे से सभी मरीजों तक पहुंचना आसान हो जाता है।

No comments

Powered by Blogger.