लाभार्थी पैसे निकालने के लिए सरकार द्वारा जारी क्रम अनुसार ही बैंक में आएं ताकि सोशल डिस्टेंसिग बनी रहे

फरीदाबाद(Abtaknews.com)2 अप्रैल। कोविड-19 के चलते लगे लॉकडाउन के दौरान जिले में बैंक संबंधी सेवाओं व सुविधाओं का लाभ आसानी से लोगों तक पहुंचाने के उद्देश्य से उपायुक्त यशपाल की अध्यक्षता में जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक सहित विभिन्न बैंक प्रबंधकों की बैठक हुई। 
उपायुक्त ने बताया कि जनता की सुविधा के लिए सरकार के निर्देशानुसार अब  बैंकिंग सुविधाएं प्रातः 10 बजे से सायं चार बजे तक दी जाएंगी। बैंक खाताधारक इस दौरान सामाजिक दूरी भी बनाए रखें। इस दौरान खाताधारक बैंक मित्र तथा ग्राहक सुविधा केंद्र जैसी सुविधाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाएं। लोक डाउन के दौरान बैंकों में केवल जमा तथा निकासी की सुविधाएं, फंड ट्रांसफर, चेक क्लीयरिंग एवं सरकारी बिजनेस जैसे कार्य ही किए जा रहे हैं।
उपायुक्त ने कहा कि प्रधानमंत्री जनधन बचत खाता के महिला लाभार्थी व अन्य प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के लाभार्थियों को अप्रैल माह से सरकार की ओर से 500 रूपए प्रतिमाह प्रदान किए जाएंगे। बैंकों में भीड़ से बचने के लिए सरकार द्वारा इन खातों में पैसे निकालने का एक क्रम जारी किया गया है, जो खाते के अंतिम नंबरों के आधार पर होगा।
जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक अल्भ्य मिश्रा ने बताया कि जिन खाताधारकों के खाते के अंतिम नंबर 0 व 1 है, वह 3 अप्रैल को, खाता संख्या के अंतिम नंबर 2 व 3 वाले 4 अप्रैल को, अंतिम नंबर 4 व 5 वाले 7 अप्रैल को, अंतिम नंबर 6 व 7 वाले 8 अप्रैल को तथा अंतिम नंबर 8 व 9 वाले 9 अप्रैल को अपनी संबंधित बैंक शाखा या बैंक मित्र ग्राहक सुविधा केंद्र पर जाकर पैसे निकाल सकते हैं। उन्होंने खाता धारकों से अपील की कि सभी लाभार्थी पैसे निकालने के लिए सरकार द्वारा जारी क्रम अनुसार ही बैंक में आएं ताकि बैंकों में लॉक डाउन के अंतर्गत सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की अनुपालना हो सके।
उपायुक्त ने बताया कि जिला पुलिस को निर्देश दिए जा चुके हैं कि बैंकों द्वारा अपने कर्मचारियों तथा बैंक मित्रों को जारी किए गए पहचान-पत्रों से बैंक ड्यूटी के लिए आने जाने के लिए मान्य रखा जाए।
----------------------------------------------------------
फरीदाबाद, 2 अप्रैल उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 1086 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 148 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 938 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 1080 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 153 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 103 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 44 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 6 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं जिनमें से ठीक होने के बाद एक को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है तथा पांच अस्पताल में दाखिल हैं।
उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए जिला में सरकारी व निजी अस्पतालों में 34 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं, जिनमें 1040 बेड की क्षमता की गई है। उन्होंने बताया कि ब्व्टप्क्-19 के संदिग्ध व कंफर्म मामलों के परिवहन के लिए सभी सुविधाओं से युक्त दो एम्बुलेंस तैयार की गई हैं। जिला स्तर पर सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को ब्व्टप्क्-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।

No comments

Powered by Blogger.