पलवल उपायुक्त नरेश नरवाल ने आईएमए प्रतिनिधियों की बैठक में चिकित्सकों की कार्यशैली की सराहना की

पलवल(abtaknews.com)24 अप्रैल,2020: उपायुक्त नरेश नरवाल ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के लिए चिकित्सकों का योगदान अतुलनीय है। वैश्विक महामारी रूपी आपदा की इस चुनौती का सामना करने के लिए चिकित्सकों के साथ पलवल जिला का हर शख्स अपनी जिम्मेवारी बखूबी निभा रहा है। उपायुक्त शुक्रवार को जिला सचिवालय सभागार में पलवल जिला की इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए)इकाई व अन्य मेडिकल संगठनों के प्रतिनिधियों की बैठक ले रहे थे। उन्होंने सभी चिकित्सकों की कार्यशैली की सराहना की। एसपी दीपक गहलावत, अतिरिक्त उपायुक्त वत्सल वशिष्ठ व सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रतिनिधियों के साथ बैठक में सांझा की।
उपायुक्त ने कहा कि वैश्विक महामारी की रोकथाम के लिए जहां पलवल जिला की जनता पूरे धैर्य व दृढ़ संकल्प हो घर पर रहकर सुरक्षात्मक कवच अपनाए हुए है, ठीक उसी प्रकार कोरोना संघर्ष सेनानी की भूमिका में हमारे चिकित्सक दिन रात स्वास्थ्य सेवा में जुटे हैं। चिकित्सकों की लग्न व निष्ठïापूर्वक निवर्हन किए जा रहे दायित्व से हम कोविड-19 से बचाव की ओर हैं और निश्चित रूप से सभी के सहयोग से इस महामारी के संकट से निजात मिलेगी।
उन्होंने आईएमए के पदाधिकारियों व निजी अस्पताल चिकित्सकों से कहा कि कोविड-19 से बचाव का सबसे बड़ा उपाय जागरूकता है। ऐसे में वे अस्पताल में आने वाले मरीजों को कोरोना से बचाव के उपाय अवश्य बताएं। साथ ही जिन भी मरीजों में संक्रमण के लक्ष्ण दिखे उन्हें तुरंत नागिरक अस्पताल में जांच के लिए भिजवाएं। उन्होंने कहा कि पलवल जिला में अब तक कोरोना संक्रमण के 34 मामले सामने आए है। जिला प्रशासन विशेषकर स्वास्थ्य विभाग की सजगता से अधिकतर मामलों में कांटेक्ट्स को तुरंत ट्रेस आउट किया गया जिससे कम्यूनिटी संक्रमण को रोका जा सका।  ऐसे में हमें और अधिक सजगता के साथ इस वैश्विक महामारी को रोकना है। सभी प्रभावी ढंग से अपना योगदान देते हुए एक बार फिर से पलवल को स्वस्थ बनाए रखने में आगे आएं। उन्होंने आईएमए प्रतिनिधियों को आवश्यक दवाओं व उपकरणों की आपूॢत के लिए मूवमेंट पास तुरंत उपलब्ध कराने की बात भी कही।
स्वास्थ्य कॢमयों को मिलेगी पूर्ण सुरक्षा - एसपी
आईएमए प्रतिनिधियों द्वारा सुरक्षा संबंधी मांग पर पुलिस अधीक्षक दीपक गहलावत ने आश्वस्त करते हुए कहा कि सरकार ने भी स्वास्थ्य सेवा से जुड़े चिकित्सकों व अन्य कॢमयों की सुरक्षा के लिए नए नियम जारी किए है। जिसके चलते स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी थाना प्रभारियों को इस संदर्भ में निर्देश जारी कर दिए जाएंगे साथ ही डीएसपी मुख्यालय को भी इस कार्य के लिए नोडल अधिकारी बनाया जाएगा।
कोविड-19 आपदा की इस घड़ी में सभी सहयोगी - सीएमओ
सिविल सर्जन डा. ब्रहमदीप सिंह ने कहा कि वैश्विक आपदा की इस स्थिति में पलवल जिला के सरकारी व निजी अस्पतालों में कार्यरत हर चिकित्सक व पैरा मेडिकल स्टाफ का पूर्ण सहयोग है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य टीमें निरंतर हेल्थ मोबाइल के रूप में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में दस्तक दे रही हैं। इन मोबाइल टीमों को विस्तार दिया जा रहा है जिसके लिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सहयोग की आवश्यकता है। आईएमएम के प्रतिनिधियों ने सिविल सर्जन को पूर्ण सहयोग का भरोसा दिया।  
जिला प्रशासन का मिला पूरा सहयोग, स्वास्थ्य विभाग की करेंगे मदद : आईएमए
बैठक में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की जिला इकाई के प्रधान डा. रितेश कुमार व महासचिव डा. गुलशन अरोड़ा ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में जिला प्रशासन का पूरा सहयोग मिला है। जिला में आवश्यक वस्तुओं की नियमित आपूॢत हो रही है तथा आईएमए ने भी अपने अस्पतालों की सुविधाओं को स्वास्थ्य विभाग के साथ सांझा किया है। भविष्य में भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से जो भी सहयोग मांगा जाएगा उसमें उनका संगठन पूरा सहयोग करेगा।इस अवसर पर एसडीएम पलवल कंवर सिंह, सीटीएम जितेंद्र कुमार, एसएमओ डा. सुरेश कुमार, डा. उमा शर्मा, आईएमए से डा. दिनेश बंसल, डा. सुनील ग्रोवर, डा. राजीव गुप्ता सहित अन्य प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।
---------------------------------------------
पलवल जिला में 2.55 लाख क्विंटल गेहूं व 2079 मीट्रिक टन सरसों की हुई खरीद: नरेश नरवाल
पलवल, 24 अप्रैल। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बावजूद पलवल जिला में किसानों के गेहूं की खरीद करने के व्यापक प्रबंध के चलते गेंहू खरीद प्रक्रिया के आरंभ होने के तीन दिन में ही मंडियों में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखकर अब तक लगभग दो लाख 55 हजार 175 क्विंटल अधिक गेहूं खरीदा जा चुका है। वहीं हथीन व पलवल अनाज मंडी में सरसों के लिए बनाए गए विशेष खरीद केंद्रों पर 2079 मीट्रिक टन सरसों खरीदी जा चुकी है।उपायुक्त ने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने एक दिन पहले खरीद कार्य में शामिल सभी किसानों, आढ़तियों, मजदूरों और सरकारी कर्मचारियों चाहे वह नियमित हो या आउटसोर्सिंग, को 10 लाख रुपये के जीवन बीमा देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि मंडियों में सोशल डिस्टेंस की पालना को लेकर अभी सीमित संख्या में किसानों को बुलाया जा रहा है लेकिन जिला के किसान निश्चिंत रहें उनकी फसलों का एक-एक दाना खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि 1925 रुपये प्रति क्विंटल की दर से गेहूं की कीमत मंडियों से गेहूं की उठान होने के साथ ही किसानों के खातों में जमा करा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि गेंहू की खरीद के लिए 34 खरीद केन्द्र व सरसों के 2 खरीद केन्द्र स्थापित किए हैं। इन खरीद केन्द्रों में व्यवस्था बनी रहे, हर खरीद केन्द्र को सेनिटाईजेशन के अलावा हर किसान व कर्मचारी के लिए मास्क का प्रबंध किया गया है व हैंड सेनिटाइजर और थर्मल स्कैनिंग के भी प्रबंध किए गए हैं।        
उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि पलवल जिला में गेहूं की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद 20 अप्रैल को आरंभ हुई थी। जिला की मुख्य मंडियों व अतिरिक्त खरीद केंद्रों पर पहले दिन 16506 क्विंटल, दूसरे दिन 58911 क्विंटल, 22 अप्रैल को तीसरे दिन 71018 क्विंटल तथा 23 अप्रैल को एक लाख आठ हजार 740 क्विंटल गेहूं खरीदा जा चुका है। उन्होंने बताया कि इस बार मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकृत किसानों की उपज खरीदी जा रही है। सरकार ने किसानों की सुविधा के लिए पोर्टल पर पंजीकरण की प्रक्रिया को पुन: आरंभ कर दिया है। जिला में गेहूं व सरसों की सरकारी खरीद प्रक्रिया को सुचारू बनाए रखने के लिए 107 सरकारी स्कूलों में मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर नि:शुल्क पंजीकरण किया जा रहा है। किसानों को इस सुविधा का अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए

No comments

Powered by Blogger.