हरियाणा में लॉकडाउन के चलते ई-स्किलिंग ( अब घर से पढ़ाओ ) अनूठा कार्यक्रम शुरू: डॉ राकेश गुप्ता

चंडीगढ़(abtaknews.com)10 अप्रैल,2020: कोरोना महामारी के इस मुश्किल दौर में लॉकडाउन के चलते प्रशिक्षुओं का बेशकीमती समय नष्ट न होइसके लिए हरियाणा के कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग ने प्रासंगिक अध्ययन सामग्री के साथ प्रशिक्षुओं को जोडऩे के उद्देश्य से ई-स्किलिंग (अब घर से पढ़ाओ) के नाम से एक अनूठा कार्यक्रम शुरू किया है।
विभाग के महानिदेशक डॉ. राकेश गुप्ता ने आज एक यूट्यूब लाइवस्ट्रीम सत्र में इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया जिसमें विभाग केअधिकारियों तथा आईटीआई स्टाफ समेत 2200 से अधिक लोगों ने भाग लिया। उन्होंने यूट्यूब के माध्यम से इस कार्यक्रम में शामिल अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए उन्हें अपने घरों से प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित करने में सक्रिय भूमिका निभाने का आग्रह किया।
उन्होंने कहा कि ई-स्किल संचार की रीढ़ भारत में अत्यंत लोकप्रिय मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप पर निर्भर करती है और यह सुनिश्चित करने के लिए एक त्रि-स्तरीय संचार चैनल स्थापित किया गया है कि सही ढंग से क्यूरेट की गई सामग्री समय पर प्रशिक्षुओं तक पहुंच सके। उन्होंने बताया कि सिर्फ एक दिन के रिकॉर्ड समय में 45 हजार से अधिक छात्रों को 1800 से अधिक व्हाट्सएप गु्रप में जोड़ा गया है।
उन्होंने बताया कि वर्तमान हालात के दृष्टिïगत अध्ययन के नियमित तरीके पर वापस जाने के लिए एक लंबा समय लग सकता है। इसलिए ट्रेड अनुदेशकों ने ऑनलाइन सामग्री का एक व्यापक पूल बनाने के उद्देश्य से भारत स्किल पोर्टायूट्यूबएनआईएमआईऑनलाइन संसाधनों जैसे विभिन्न चैनलों और संसाधनों के माध्यम से ट्रेड से संबंधित सामग्री की क्यूरेटिंग शुरू की है। अब तक 1600 से अधिक कंटेंट पीस की क्यूरेटिंग की जा चुकी है और यह सूची बढ़ती जा रही है तथा जहां भी प्रासंगिक सामग्री उपलब्ध नहीं है वहां ट्रेड अनुदेशकों ने अपने मोबाइल उपकरणों का उपयोग करके वर्कशीट और डेमो पाठ बनाना शुरू कर दिया है।
डॉ. गुप्ता ने कहा कि दिन भर में एक निश्चित समय अवधि पर संदेश भेज कर प्रशिक्षुओं को तैयार करने के लिए एक सुव्यवस्थित सामग्री प्रसार तंत्र विकसित किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षुओं को दिन में तीन बारप्रात: 11 बजेबाद दोपहर एक बजे और सायं चार बजे सक्रिय रूप से जोड़ा जाएगा और उसके बाद साप्ताहिक आकलन किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग ने रोजगारपरक कौशल अनुदेशकों को प्रशिक्षण दिलाने के लिए मेधा तथा उद्यम फाउंडेशन्स के साथ भागीदारी की है और उन्होंने भी कंटेंट निर्माण में प्रमुख भूमिका निभाई है। इसके अलावाक्वेेस्ट एलायंसजिसे डिजिटल इंटरएक्टिव एम्प्लॉयबिलिटी स्किल्स ट्रेनिंग मॉड्यूल विकसित करने में महारत हासिल हैको एम्प्लॉयबिलिटी स्किल्स और अंग्रेजी संचार पर छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए तैयार किया गया है।
----------------------------------------------- 
चंडीगढ़, 10 अप्रैल- हरियाणा के बिजली तथा जेल मंत्री श्री रणजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश में इस समय पर्याप्त बिजली हैइसलिए रात को कहीं भी बिजली नहीं काटी जाएगी। हालांकिकिसानों की समस्या को देखते हुए कहीं-कहीं दिन में बिजली रोकी जा सकती है। उन्होंने बिजली विभाग की सराहना करते हुए कहा कि अभी तक कहीं भी ब्रेकडाउन नहीं हुआ है और अगर कहीं ऐसा होता है तो सम्बन्धित एसडीओ 15 मिनट में वरिष्ठï अधिकारियों को रिपोर्ट करेंगे।इसके साथ हीश्री रणजीत सिंह ने कोरोना वायरस का प्रभाव पूरी तरह से समाप्त होने तक अपना पूरा वेतन मुख्यमंत्री कोरोना रिलीफ फंड में देने का एलान किया है। उन्होंने अपने विवेकाधीन कोटे भी 3 करोड़ रुपये मुख्यमंत्री कोरोना राहत कोष में देने की घोषणा की है।
रणजीत सिंह ने कहा कि अभी तक लगभग 4 हजार कैदियों और बंदियों को पैरोल दी जा चुकी है जबकि आने वाले एक-दो दिन में लगभग 500 कैदियों व बंदियों को भी पैरोल दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की प्रत्येक जेल को सेनिटाइज किया गया है। इसके अलावासामाजिक संस्थाओं के सहयोग से जेलों में खाना तैयार करके जरूरतमंद लोगों में बांटा जा रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में स्थिति के हिसाब से कैदियों व बंदियों की पैरोल बढ़ाई जा सकती है। यह सब इसलिए किया जा रहा है क्योंकि इस वक्त लोगों की जान बचाना सबसे महत्वपूर्ण है।
बिजली मंत्री ने कहा कि उपभोक्ता किसी भी तरह की शिकायत के लिए उनके ऑफिसियल ट्विटर हैंडल www.twitter.com/Ch_RanjitSingh पर ट्वीट कर सकते हैं जिस पर तुरन्त कार्यवाही की जाएगी। गौरतलब है कि ऊर्जा मंत्री खुद अपने ट्विटर हैंडल को नियमित रूप से देखते हैं और काफी सक्रिय हैं।
उन्होंने कहा कि इस समय जहां सारी चीजें बंद हंैकिसान की उपज पककर तैयार है जिसके लिए कल मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में चर्चा की गई जिसमें विपक्ष ने भी पूरा सहयोग दिया। उन्होंने कहा कि देश में आई किसी भी प्रकार की विपदा के समय किसान हर तरह की मदद के लिए हमेशा आगे रहे हैं। इसलिए किसानों आवश्यकताओं को पूरा करने और उनकी समस्याओं को प्राथमिकता आधार पर दूर किया जाना चाहिए। उन्हें समय पर उर्वरकों की आपूर्ति की जाए और कम्बाइन इत्यादि कृषि  उपकरण उपलब्ध करावाए जाएं। उन्होंने कहा कि किसानों को अपनी फसल बेचने में किसी तरह की कोई समस्या न आयेइसके लिए प्रत्येक 3 से 5 गांवों पर एक मंडी निश्चित की गई है।
बिजली मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ही सबसे बेहतर उपाय है और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने समय रहते यह फैसला लिया है। इसलिए लोगों को भी चाहिए कि वे इसका पालन करें। उन्होंने मीडिया कर्मियों के काम की सराहना करते हुए कहा कि मीडिया भी फ्रंटलाइन योद्धा की तरह समाचारों को आम लोगों तक पहुँचाने में अपनी जिम्मेदारी निभा रहा है।

No comments

Powered by Blogger.