Saturday, April 25, 2020

किसान हितैषी होने का दम भरने वाली खट्टर सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित : राकेश भड़ाना

फरीदाबाद ( abtaknews.com ) 25अप्रैल, 2020 : अखिल भारतीय किसान कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पश्चिमी उत्तरप्रदेश के प्रभारी राकेश भड़ाना ने प्रदेश की मनोहर सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि खुद को किसानों का हितैषी बताने वाली खट्टर सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। गेहूं व सरसों की खरीद के दौरान किसानों को मंडियों में हो रही परेशानियां के दौरान भी सरकार व सरकार में बैठे मंत्री चुप्पी साधे हुए है। किसानों की वर्षभर की फसल को सरकार खरीदने के बजाए उन्हें नियम-कानून लगाकर परेशान कर रही है। सरकार के पास इतना इंतजाम भी नहीं है कि वह किसानों के गेहूं को बारिश से भी बचा सके, गुरूवार को हुई बरसात में फरीदाबाद की मंडियों में कई टन गेहूं गीला होकर खराब हो गया परंतु सरकार व प्रशासनिक अधिकारी इस मामले में पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए है, सरकार का यह दोहरा चेहरे उनकी नीति और नीयत को साफ दर्शाता है। यहां जारी एक प्रेस बयान में राकेश भड़ाना ने कहा कि एक तरफ किसानों को लॉकडाउन के चलते अपने फसल खेतों से काटकर मंडियों तक पहुंचाने में भारी खर्चा करना पड़ा परंतु मंडियों में उनके साथ दोहरा व्यवहार बरता जा रहा है और उनकी फसल को लेने में अधिकारी अड़चन लगा रहे है, जो पूरी तरह से गलत है। राकेश भड़ाना ने कहा कि उन्होंने सरकार को अवगत कराया था कि किसानों की सरसों/गेहूं की फसलों को खेतों से ही खरीदा जाए तो किसानों, व्यापारियों और खरीद एजेंसी के अधिकारियों को अनावश्यक परेशानियों से बचाया जा सकता है परंतु सरकार ने सुझाव पर उपयुक्त रवैया अपनाने में उत्सुकता नहीं दिखाई। उल्टा सरकार किसानों को कभी 25 तो कभी 40 क्विंटल सरसों व गेहूं आदि मंडियों में लाने बारे बरगलाती रही है जिससे किसानों की परेशानियां और ज़्यादा बढ़ रही हैं। सरकार ने किसान व आढती के बीच की दरार को बढ़ा कर गेहूं व सरसों की खऱीद में अनावश्यक विवाद खड़ा कर दिया है। वहीं राकेश भड़ाना ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान प्रशासन व सरकार द्वारा जो खादय सामग्री वितरित की जा रही है, वह गरीब व जरूरतमंद लोगों की पहुंच से बाहर है, प्रशासन ऐसे जगहों को चिन्हित ही नहीं कर पाया, जहां वास्तविक रूप से गरीब व जरूरतमंद लोग रहते है, यही कारण है कि आज भी जिले में सैकड़ों की संख्या में लोग खाने से महरूम है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद जिले के कांग्रेसी नेता अपने दायित्व का बखूबी निर्वहन करके अपने-अपने क्षेत्रों में लोगों को खाने-पीने की सामग्री उपलब्ध करवा रहे है, जबकि भाजपा के नेता घरों में दुबके बैठे है और लोगों के दुख-दर्द को जानने के लिए बाहर तक नहीं निकल रहे, इससे साबित होता है कि यह लोग केवल वोट की राजनीति करते है, जिन्हें जनता के दुख=-दर्द से कोई लेना देना नहंी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी संकट के इस दौर में किसानों व गरीब लोगों के साथ खड़ी है और लॉकडाउन खुलने के बाद सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल बजाने का काम करेगी।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages