श्री सिद्धदाता आश्रम के ब्रह्मोत्सव के ऑनलाईन होंगे दर्शन, भक्त सशरीर नहीं होंगे शामिल

 फरीदाबाद(abtaknews.com)उत्तर भारत में रामानुज संप्रदाय के तीर्थ क्षेत्र श्री सिद्धदाता आश्रम एवं श्री लक्ष्मीनारायण दिव्यधाम का तेरहवां ब्रह्मोत्सव आज से प्रारंभ हुआ। इन 13 वर्षों में यह पहली बार होगा कि इस पांच दिवसीय उत्सव में भक्तों को शामिल होने की इजाजत नहीं है। आश्रम ट्रस्ट ने बताया कि अधिपति अनंतश्री विभूषित इंद्रप्रस्थ एवं हरियाणा पीठाधीश्वर श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज के सान्निध्य में इस उत्सव को साधारण रूप में मनाया जाएगा। जिसमें मंदिर के ही याचक पूजा अर्चना करेंगे। आज पहले दिन सविधि पूजन प्रारंभ हुआ। यह कार्यक्रम पांच दिन चलेगा जिसमें 29 अप्रैल को रामानुजाचार्य जयंती और 30 अप्रैल को भगवान का महाभिषेक होगा। हालांकि इन सभी कार्यक्रमों में आम भक्तों को शामिल होने की इजाजत नहीं होगी।
कार्यक्रमों में ऑनलाइन हो सकेंगे शामिल श्री सिद्धदाता आश्रम ने भक्तों की इच्छा को देखते हुए इन सभी कार्यक्रमों की ऑनलाइन स्ट्रीमिंग की तैयारी की है। करीब 10 लाख फॉलोवर्स वाले आश्रम के फेसबुक पेज श्री सिद्धदाता आश्रम पर कार्यक्रमों की लाइव स्ट्रीमिंग में भक्त शामिल हो सकते हैं और अपने विचार कमेंट के रूप में प्रस्तुत कर सकेंगे।आज पहले दिन भी हजारों भक्तों ने ब्रह्मोत्सव में लाइव भागीदारी की।
कोरोना संकट में शासन प्रशासन के साथ आश्रम प्रशासन कोरोना संकट काल की शुरुआत से ही श्री सिद्धदाता आश्रम ने भक्तों के लिए लॉकडाउन कर दिया था और आश्रम में मौजूद याचकों सहित कुछ सेवादारों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग व सेनिटाइजेशन के साथ समाज की सेवा करनी प्रारंभ कर दी थी। आश्रम द्वारा नित्य ही करीब 1200 लोगों को भोजन करवाया जा रहा है। वहीं पीएम एवं सीएम फंड में भी मदद दी गई है।

No comments

Powered by Blogger.