सूरजकुंड के रास्ते फरीदाबाद आए सैंकड़ों मज़दूरों को पुलिस ने ओल्ड फरीदाबाद राजीव गांधी चौक पर रोका

फरीदाबाद(Abtaknews.com)21अप्रैल, 2020: गुरूग्राम और दिल्ली का बार्डर तोडक़र सूरजकुंड के रास्ते आए सैंकड़ों मजदूर, पुलिस को पता ही नहीं। ओल्ड फरीदाबाद के राजीव गांधी चौक हाइवे पर चौराहे पर मजदूरों को पुलिस ने रोक लिया है। ओल्ड फरीदाबाद राजीव गांधी चौक पर पुल के नीचे सभी मजदूर विश्राम कर रहे हैं ।
2 राज्यों की पुलिस को चकमा देकर दिल्ली और गुड़गांव बॉर्डर से सैकड़ों प्रवासी मजदूर बॉर्डर तोड़ने के बाद फरीदाबाद पहुंच गए, फरीदाबाद में सैकड़ों मरीजों की तादाद सड़क पर देखने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में ओल्ड फरीदाबाद के पास सभी प्रवासी मजदूरों को नेशनल हाईवे पर ही रोक दिया गया।  सभी के नाम पते दर्ज किए गए और आने और जाने का कारण भी पूछा गया, जिस पर खुद एसीपी महेंद्र वर्मा ने सभी प्रवासी मजदूरों से जानकारी ली और बताते हुए कहा कि यह सभी प्रवासी मजदूर मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं और दिल्ली व गुड़गांव के आसपास काम करते हैं देर रात को इन्होंने बॉर्डर क्रॉस किया और मध्यप्रदेश के लिए फरीदाबाद के रास्ते निकल दिए, अब पुलिस वापिस इन्हें दिल्ली और गुड़गांव भेजने की तैयारी कर रही है।
मजदूरों नें बताया कि जहां वह रह रहे हैं वहां उन्हें खाने-पीने की सुविधा नहीं मिल रही है उन्होंने पहले चरण के 21 दिन लॉक डाउन का पालन किया और उसके बाद दूसरे चरण के 6 दिनों का भी पालन किया मगर अब उनकी मजबूरी है कि उन्हें अपने अपने गांव लौटना पड़ रहा है आधा परिवार उनका गांव में है और आधा परिवार यहां दिल्ली एनसीआर में फंसा हुआ है खाने पीने की किल्लत सामने आने लगी है ऐसे में वह चाहते हैं कि वह अपने अपने घर पहुंच जाएं । मजदूरों ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि दिल्ली और गुड़गांव बॉर्डर से आते वक्त किसी पुलिसकर्मी ने उन्हें नहीं रोका मगर यहां फरीदाबाद पहुंचने पर रोक दिया गया है ।

No comments

Powered by Blogger.