प्रगतिशील किसान मंच फरीदाबाद ने जिला उपायुक्त यशपाल यादव को कोरोन रिलीफ फंड के लिए सौंपा 51 हजार एक चैक

फरीदाबाद(abtaknews.com)09 अप्रैल,2020 : लगातार बढ़ते जा रहे कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज प्रगतिशील किसान मंच के प्रधान एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सत्यवीर डागर ने हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड के लिए इक्यावन हजार रुपए की राशि का एक चेक जिला उपायुक्त यशपाल यादव को सौंपा। इस मौके पर वरिष्ठ युवा कांग्रेसी नेता राजन ओझा भी श्री डागर के साथ उपस्थित थे। इस मौके पर सत्यवीर डागर ने जिला उपायुक्त को आश्वस्त किया कि प्रगतिशील किसान मंच रोजाना लगभग 500 लोगों के लिए एक समय का भोजन भी उपलब्ध कराएगा। इस विषय में अधिक जानकारी देते हुए सत्यवीर डागर ने बताया कि इस समय पूरे देश और विश्व की भांति फरीदाबाद भी कोरोना की मार झेल रहा है। ऐसे में प्रत्येक नागरिक का यह फर्ज बनता है कि वह इस महामारी के मुकाबले के लिए आगे आए और सरकार व प्रशासन का इसमें सहयोग करें। उन्होंने कोरोना के खिलाफ सार्थक प्रयास करने के लिए जिला उपायुक्त यशपाल यादव को बधाई देते हुए कहा कि जिस तरह से जिले में इस महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है उससे जिले की जनता में प्रशासन के प्रति विश्वास पैदा हुआ है। सतवीर डागर ने सभी का आभार भी व्यक्त किया कि वह भी बढ़-चढक़र इस लड़ाई में हिस्सा ले और जो भी यथासंभव सहयोग हो सके कोरोना रिलीफ फंड में करें। उन्होंने बताया कि बुधवार से ही प्रगतिशील किसान मंच के तत्वाधान में लगभग 500 लोगों के लिए एक समय के भोजन की व्यवस्था की गई है और यह भोजन उन लोगों को उपलब्ध कराया जाएगा जो की दिहाड़ी मजदूर हैं और इन दिनों लॉकडाउन के चलते काम पर नहीं जा पा रहे हैं। सत्यवीर डागर ने बताया कि प्रगतिशील किसान मंच हर प्रकार के प्रकोप के दौरान जनता के साथ खड़ा रहा है फिर चाहे यह आपका गुजरात बिहार या देश में अन्य कहीं पर भी हो प्रगतिशील किसान मंच से जो हो पाया है वह सहायता इस मंच ने हमेशा की है। उन्होंने आमजन से अपील भी की की लॉकडाउन के सभी नियमों का पालन करें और कोरोना वायरस से बचने के लिए सबसे पहले सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। सत्यवीर डागर के अनुसार यह जरूरी नहीं है कि हर कोई हैंड सैनिटाइजर का प्रयोग करें क्योंकि साबुन से भी 20 सेकेंड तक हाथ धोने के बाद कोरोना वायरस नहीं रहता है। किसान नेता ने बताया कि जरूरी नहीं है कि हम सब बाजार से जाकर मास्क खरीद कर लाए और मुंह पर लगाएं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अंचल में गमछा की पुरानी परंपरा है और यह परंपरा भी हमें कोरोना वायरस के प्रकोप से बचा सकती है। उनके अनुसार किसी भी तरह से मुंह डका होना चाहिए वही मास्क का काम करता है। श्री डागर के अनुसार कोरोना वायरस से बचाव ही इसका इलाज है इसलिए हमें घर पर रहते हुए सरकार व प्रशासन के दिशा निदेर्शों का पालन करना चाहिए।

No comments

Powered by Blogger.