हरियाणा में कोरोना प्रभावितों के लिए साइको-सोशल हेल्पलाइन 1075 पर स्वयंसेवकों की अतिउत्साहजनक प्रतिक्रियाएं

चंडीगढ(abtaknews.com)10 अप्रैल,2020:कोरोना वायरस प्रभावितों के लिए शुरू की गई साइको-सोशल हेल्पलाइन 1075 पर स्वयंसेवकों की अतिउत्साहजनक प्रतिक्रियाएं प्राप्त हो रही है और लॉकडाउन से प्रभावित व्यक्तियों की मनोवैज्ञानिक परामर्श के लिए अपनी सेवाएं देने के इच्छुक स्वयंसेवकों से अभूतपूर्व और जबरदस्त प्रतिक्रियाएं मिलने के साथ-साथ अब तक 110 से अधिक स्वयंसेवकों ने कोरोनोवायरस प्रभावित लोगों की टेली-काउंसलिंग के लिए अपनी सेवाओं की पेशकश की है।
इस संबंध में जानकारी देते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा में पहली बार स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई पहल के तहत इस हेल्पलाइन की घोषणा की गई। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजीव अरोड़ा के प्रयासों से कोरोनो वायरस महामारी से प्रभावित व्यक्तियों को स्वास्थ्य संबंधी व मनोचिकित्सा संबंधी सहायता देने के उद्देश्य से यह हैल्पलाईन शुरू की गई है।
उन्होंने बताया कि इसके अलावापूरे राज्य में राहत शिविरों में रह रहे प्रवासी श्रमिकों के बीच तनाव और चिंता को कम करने में मदद करने के लिए स्वास्थ्यशिक्षामहिला एवं बाल विकास और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जैसे विभिन्न विभागों के परामर्शदाताओं की टीम परामर्श और अन्य मनोचिकित्सा सहायता गतिविधियों को दैनिक आधार पर अंजाम दे रही हैं।
प्रवक्ता ने बताया कि तथ्य यह भी है कि इतने सारे स्वयंसेवकों ने इस संकट के समय में जरूरतमंदों की मदद करने के लिए कदम उठाया हैनिश्चित रूप से मनुष्य के सहज अच्छे स्वभाव का संकेत हैजो जरूरत के समय में एक-दूसरे की मदद करते हैं और स्वास्थ्य और अन्य श्रमिकों के मनोबल को बढ़ाते हैं। स्वास्थ्य विभाग पूरी कोशिश कर रहा है कि इस खतरे से निपटने में कोई कसर न छोड़े।
उन्होंने बताया कि वायरस के प्रसार को रोकने के लिए किए गए उपायों के तहत विभाग ने मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों की एक अलग सेल स्थापित की हैजिनसे हेल्पलाइन नंबर 1075 पर डायल करके संपर्क किया जा सकता है। इस संबंध मेंआज स्वास्थ्य विभाग में एक बैठक आयोजित की गई जहां दो छात्रोंसुश्री उज्ज्वला और सुश्री श्रेया ने जॉन हॉपकिंस रैपिड मॉडल पर मनोवैज्ञानिक प्राथमिक चिकित्सा पर एक प्रस्तुति दी। इस बैठक में  सभी परामर्शदाता और नैदानिक मनोवैज्ञानिक उपस्थित थे। उन्हें कोविड-19 स्थिति पर संवेदी बनाया गया और हेल्पलाइन नंबर 1075 के लिए स्वयंसेवक बनने के लिए प्रेरित किया गया। प्रवक्ता ने बताया कि परामर्श और चिकित्सा का लक्ष्य न केवल लोगों को संकट के क्षण में मदद करेगा बल्कि उन्हें इससे आगे बढऩे के लिए सीखने में मदद भी करेगा। 


No comments

Powered by Blogger.