Monday, March 23, 2020

फरीदाबाद में 390 सर्विलांस पर है, हाई रिस्क जोन में हैं हमसभी, 31मार्च तक घर से बाहर ना निकले

फरीदाबाद(Abtaknews.com )23 मार्च, 2020: उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 390 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 30 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 360 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 389 होम आइसोलेशन पर है तथा एक संदिग्ध पाजीटिव महिला को अस्पताल में दाखिल किया गया है, जिसकी एनआईवी पुणे से रिपोर्ट आनी बाकी है। अब तक 15 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 6 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 8 की रिपोर्ट आनी शेष है। 
उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए जिला में सरकारी व निजी अस्पतालों में 12 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं, जिनमें 194 बेड की क्षमता की गई है। उन्होंने बताया कि सीओवीआईडी-19 के संदिग्ध व कंफर्म मामलों के परिवहन के लिए सभी सुविधाओं से युक्त दो एम्बुलेंस तैयार की गई हैं। जिला स्तर पर सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को सीओवीआईडी-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगांें को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों। 

फरीदाबाद, 22 मार्च।जिलाधीश यशपाल ने लोगों की सुरक्षा व स्वास्थ्य के मद्देनजर महामारी रोग अधिनियम-1897 के तहत आदेश पारित कर जिला की सीमा में जिम, स्वीमिंग पुल, नाइट क्लब, सिनेमा हाल व 20 से अधिक व्यक्ति की भीड़ के साथ किसी भी प्रकार का कोई आयोजन करने पर प्रतिबंध लगाया है तथा स्वीकृत सूची में शामिल सभी निजी, कारपोरेट संस्थान व फैक्ट्री को छोड़कर अन्य को बंद रखने के आदेश दिए हैं। यह आदेश 31 मार्च तक लागू रहेंगे। 
जिलाधीश ने आदेशों में बताया है कि जिला की सीमा में सभी लांज, बार, मल्टीप्लेक्स, पारिवारिक मनोरंजन सेंटर, फन फेयर व किसी भी प्रकार की भीड़ जमा करने पर प्रतिबंध लगाया है। इसके अलावा सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक, खेल, सेमिनार, कांफ्रेंस जैसे कार्यक्रमों में 20 से अधिक लोग जमा नहीं हो सकते। धार्मिक कार्यक्रमों में भी भीड़ जमा नहीं की जा सकती। इस दौरान स्कूल कालेज, विश्वविद्यालय, कोचिंग सेंटर व अन्य शिक्षण संस्थान भी बंद रहेंगे। होटल, होम स्टे, शार्ट टर्म रेंटल में होम डिलीवरी सर्विस, रूम सर्विस आदि को छोड़कर सभी रेस्टारेंट, ढाबा, कैफे की सेवाएं निलंबित रहेंगी। बहुत जरूरी सेवाएं या टाइम बाउंड कार्यों को छोड़कर सरकारी कार्यालयों में पब्लिक डीलिंग के कार्य कम से कम किए जाएं। सैलून, ब्यूटी पार्लर, ग्रूमिंग सेंटर अपने स्थानों व सामान को सेनेटाइज रखें तथा बाहर से आने वाले व्यक्ति के हाथों को एंट्री गेट पर ही सेनेटाइज करें। कैब चालक कैब को नियमित रूप से सेनेटाइज व साफ करें व हैंड सेनेटाइजर कैब में भी रखें। निर्माण स्थलों पर रहनी वाली लैबर के स्थानों पर निरंतर सफाई करवाई जाए, अन्यथा उन साइटों को बंद कर दिया जाएगा। सिविल सर्जन द्वारा घोषित आइसोलेशन सेंटर व क्वारंटाइन सेंटर के पास वाहनीय गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी। स्वीकृत सूची के अलावा सभी निजी, कारपोरेट संस्थान व उद्योग बंद रहेंगे। सभी साप्ताहिक बाजार, शोपिंग माॅल, शोपिंग सेंटर व लोकल मार्केट बंद रहेंगी। इसके अलावा जरूरी सामान व सेवाओं से संबंधित संस्थान सोशल सिस्टेंसिंग व निरंतर शुद्धिकरण की सावधानी के साथ चालू रखने की अनुमति होगी, जिसमें पेयजल, सीवरेज सेवाएं, बैंक, टेलिफोन व इंटरनेट सेवाएं, रेल व यातायात सेवाएं, खाद्य पदार्थ, सब्जियां व किरयाना की दुकानें, अस्पताल, मेडिकल सेंटर, मेडिकल स्टोर, बिजली, तेल, पेट्रोलियम, मीडिया, आईटी सेवाओं से संबंधित सेंटर शामिल हैं। इसी प्रकार जरूरी वस्तुओं के निर्माण व उत्पादन से संबंधित संस्थान 50 प्रतिशत स्टाफ के साथ चलते रहेंगे, बशर्तें वे सोशल सिस्टेंसिंग व साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देंगे। जन सुविधाएं जैसे पेयजल, सीवरेज, यातायात व रोड से संबंधित निर्माण कार्य जारी रहेंगे। इस दौरान बहुत जरूरी सामाान जैसे खाद्य पदार्थ, दवा, कीटनाशक, मेडिकल उपकरण का उत्पादन, ट्रांसपोर्ट व इनकी आपूर्ति कड़ी व ई-कामर्स गतिविधियां जारी रहेंगी तथा किरयाना व अनाज के भंडार खुले रहेंगे। जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक, मार्केटिंग बोर्ड के सचिव, ड्रग कंट्रोलर बाजार में जरूरी सामान की कीमतों व डुप्लीकेसी पर नजर रखेंगे। फैक्ट्री, उत्पादन साइट्स व वाणिज्यिक स्थानों पर सुरक्षा एवं फायर फाइटिंग के लिए कर्मचारी रखने की अनुमति होगी। पुलिस आयुक्त सभी थाना अध्यक्षों को निर्देश दें कि वे अपने एरिया में इन सभी आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करें। इन आदेशों की उल्लंघना पर भारतीय दंड संहिंता की धारा-188 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। 

फरीदाबाद, 22 मार्च। जिलाधीश यशपाल ने आपराधिक प्रक्रिया संहिंता 1973 की धारा 144 के तहत आदेश पारित कर सार्वजनिक स्थानों, सामाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रमों या फिर धरना व जुलूस के रूप में 20 से अधिक लोगों की भीड़ जमा करने पर पाबंदी लगाई है। 
जिलाधीश ने आदेशों में स्पष्ट किया है कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर कोरोना को महामारी घोषित किया गया है, इसलिए लोगों की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य के खतरे से बचाने के लिए 20 से अधिक व्यक्तियों के एक स्थान पर इक्ट्ठा होने पर प्रतिबंध लगाया है। कोरोना वायरस खांसी व छींकने से एक व्यक्ति से दूसरे में जाने का अंदेशा बना रहता है, इसलिए अधिक भीड़ के रूप में इक्ट्ठा होने से बचें। हालांकि, सार्वजनिक परिवहन में लोगों की आवाजाही जैसे ट्रेन, बस आदि या परिवहन के अन्य साधनों में विशेष सावधानी के साथ तथा चिकित्सा आपातकाल की स्थिति में भी पर्याप्त ध्यान दिया जाए। इन आदेशों की अनुपालना के लिए पुलिस आयुक्त, नगर निगम आयुक्त,  सभी सब डिविजनल मजिस्ट्रेट, एस्टेट आफिसर एचएसवीपी, जिला उच्च शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, रेलवे अधीक्षक फरीदाबाद व रोडवेज के महाप्रबंधक जिम्मेवार होंगे। आदेशों की उल्लंघना करने पर भारतीय दंड संहिंता की धारा-188 के तहत कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। 

फरीदाबाद 22 मार्च उपायुक्त यशपाल ने जिलावासियों से अपील की है कि वे आज रात 9 बजे के बाद भी अपने घरों से बाहर न निकलें। यह संयम बरतने का समय है। इम्तिहान की इस घड़ी में सभी जिला वासियों से सहयोग की अपेक्षा है। इस समय जितनी सोशल डिस्टेंसिंग रहेगी, उतना ही लोगों की सुरक्षा व स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहेगा। कोरोना वायरस के संक्रमण चक्र को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है इसे इस समय निरंतर बनाए रखें।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages