Saturday, February 1, 2020

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 34वें अंतर्राष्ट्रीय हस्तशिल्प मेला सूरजकुंड का किया उद्घाटन

फरीदाबाद ( Abtaknews.com ) 01फरवरी, 2020: सूरजकुंड में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे सूरजकुंड। रिबन काटकर किया 34वें अंतर्राष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले का उद्घाटन। साथ हैं हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर। इस दौरान हरियाणा के पर्यटन मंत्री कंवरपाल और उज़्बेकिस्तान दूतावास के राजदूत रहाद आरएिव मौजूद रहे। फरीदाबाद के सांसद एवं केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा, हरियाणा पर्यटन निगम के अध्यक्ष रणधीर गोलन और स्थानीय विधायक सीमा त्रिखा भी उपस्थित रही।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उदघाटन के उपरांत सूरजकुंड मेला परिसर में तैयार किए गए हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध भीमकाली मन्दिर के प्रारूप का अवलोकन। राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी साथ हैं ।
 मेेला की चौपाल पर थीम स्टेट हिमाचल प्रदेश के कलाकारों ने मुख्य चौपाल के मंच पर दी लोक शैली से सांस्कृतिक नृत्य की प्रस्तुति। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का सम्बोधन हिमाचल प्रदेश आने का सभी को निमंत्रण दिया।  हिमाचल एक छोटा लेकिन बहुत सुंदर प्रदेश हिमाचल में नए टूरिस्ट डेस्टिनेशन विकसित किए जा रहे है। सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय मेले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि इस वर्ष मेले का थीम स्टेट देवभूमि हिमाचल प्रदेश है। यह मेला हिमाचल के बुनकरों, शिल्पकारों को समर्पित है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल का सम्बोधन
हरियाणा की अढ़ाई करोड़ जनता की ओर से राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद का अभिनन्दन प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद, राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का भी अभिनन्दन आज का स्थान, समय और अवसर तीनों महत्वपूर्ण मुख्यमंत्री ने कहा कि सूरजकुंड शिल्प मेले में 30 से अधिक देश इस मेले का हिस्सा बने हैं, जिसमें उज्बेकिस्तान ,नेपाल, अफगानिस्तान, न्यूजीलैंड, उजबेकिस्तान, किर्गिस्तान, ट्यूनीशिया, जिम्बाब्वे, बुरूंडी, सेनेगल, जाम्बिया, कोमोरोस, तुर्की, मिस्र, सीरिया, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड, श्रीलंका, अर्जेंटीना, नाइजर, ताजिकिस्तान ,बांग्लादेश, लेबनान, घाना, सेशेल्स, इथियोपिया, मोरक्को, फिलिस्तीन, भूटान, युगांडा, आर्मेनिया, मालदीव, सूडान, केन्या और लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो शामिल है।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल अपने सम्बोधन में बोले कि 26 देशों के कलाकार अपनी दस्तकारी लेकर आए सदैव प्रयास रहा कि भारतीय सँस्कृति का प्रसार किया जाए और अन्य देशों की संस्कृति के साथ तालमेल किया जाए ताकि वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को बढ़ावा मिले।मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणवी संस्कृति की कला को हम विदेशों तक पहुंचा रहे हैं।मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि कुरुक्षेत्र को तीर्थ के रूप में अलग पहचान देने के लिए विकसित किया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages