कौशल विकास मंत्री मूलचंद शर्मा ने प्रशिक्षण लेने वाले विद्यार्थियों से की मुलाकात

पलवल(Abtaknews.com)04 जनवरी, 2020:श्री विश्वकर्मा कौशल विकास विश्वविद्यालय दूधौला में शनिवार को इंडस्ट्री मीट का आयोजन किया, जिसमें मुख्यातिथि के रूप में परिवहन, कौशल विकास मंत्री मूलचंद शर्मा ने शिरकत की। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि द्वारा श्री विश्वकर्मा की मूर्ति पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जलित करके किया।
कौशल विकास मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय, दूधौला (पलवल) राष्टï्र का प्रथम ऐसा विश्वविद्यालय है जो विद्यार्थियों के लिए कौशल विकास के कोर्स करवा रहा है। एसवीएसयू देश की ऐसी पहली यूनिवर्सिटी है जो प्लंबर से लेकर इलेक्ट्रिशियन के हुनर को पेशे में बदलने वाले स्किल्ड प्रोफेशनल्स तैयार कर रही है। स्किल यूनिवर्सिटी का सिलेबस इस तरीके से तैयार किया गया है कि पढ़ते-पढ़ते ही विद्यार्थी कमाई भी कर रहे हैं, जिससे वे अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए आजीविका भी अर्जित कर रहे हैं। मूलचंद शर्मा ने कहा कि श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय वर्ष 2020 में बनकर तैयार हो जाएगी तो उसके बाद हरियाणा प्रदेश की एक अलग पहचान होगी। श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय युवाओं को रोजगार प्रदान करने में मील का पत्थर साबित होगा।    
कौशल विकास मंत्री ने कार्यक्रम में पधारे उद्यमियों से विभिन्न कंपनियों में प्रशिक्षण के दौरान विद्यार्थियों के साथ किसी अप्रिय दुर्घटना घटने पर संस्थानों द्वारा दुर्घटनाग्रस्त प्रशिक्षणर्थियों को प्रदान की जाने वाली सेवा-सुविधाओं के बारे में भी जानकारी ली। इस पर उद्यमियों ने बताया कि विद्यार्थियों के लिए ग्रुप इंश्योरेंश व मेडीकल सुविधा कंपनी की तरफ से तथा कौशल विकास विश्वविद्यालय की तरफ से भी विद्यार्थियों को यह सुविधा दी जा रही है। केबिनेट मंत्री ने इस अवसर पर कई कंपनियों के साथ हस्ताक्षरित हुए एमओयू का आदान-प्रदान किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कांफ्रेस हॉल में प्रोजेक्टर द्वारा विश्वविद्यालय के भवन निर्माण की पूरी फिल्म दिखाई गई।
इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के कुलपति राज नेहरू ने कार्यक्रम में आए हुए अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि यह विश्वविद्यालय 2016 में दो कोर्सों के साथ शुरू हुआ था, जिसमें लगभग 60 विद्यार्थी थे। आज इस विश्वविद्यालय में लगभग तीन हजार बच्चे लगभग 31 प्रकार के कोर्सों में प्रशिक्षण ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि गुरूग्राम में भी विश्वविद्यालय की कक्षाएं लगाई जा रही हैं। कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों को पढाई के साथ कंपनियों में प्रशिक्षण के लिए भेजा जाता है। जहां पर बच्चें प्रशिक्षण के साथ-साथ अपना कमाई भी करते हैं।  
इस दौरान केबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, विधायक दीपक मंगला, नयनपाल रावत, नरेंद्र गुप्ता व कुलपति राज नेहरू ने विश्वविद्यालय में प्रशिक्षणार्थियों द्वारा लगाई गई स्टॉलों का निरीक्षण कर विद्यार्थियों से उनके बारे में जानकारी हासिल की। इस अवसर पर ईईएसएल कंपनी ने विश्वविद्यालय को चार इलैक्ट्रीक कार भेट की। उन्होंने बताया कि इस विश्वविद्यालय में यह पहली इलैक्ट्रीक कारें होंगी जो बिजली द्वारा चार्ज करके चलेंगी। विश्वविद्यालय के कुलपति ने सभी गणमान्य अतिथियों को विश्विद्यालय में नवनिर्मित विभिन्नों कन्स्ट्रक्शन कार्यों की जानकारी दी एवं अतिथियों को विश्वविद्यालय परिसर का दौरा करवाया।
कार्यक्रम में विश्वविद्यालय की रजिस्ट्रार डॉ. ऋतु बजाज, डीन आरएस राठौर, दूधौला के सरपंच सुंदर सिंह, पलवल निगरानी समिति के चेयरमैन मुकेश सिंगला, पलवल ब्लॉक पंचायत समिति के चेयरमैन प्रेमचंद शर्मा सहित जे.बी.एम गु्रप, शिवांस फार्मिंग, जीवा गु्रप, के.आर.वी हेल्थ केयर एंड फिजियोथेरेपी प्राईवेट लिमिटेड़, सोशियोमैट्रिक कंपनियों के प्रतिनिधि के अलावा अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

No comments

Powered by Blogger.