Wednesday, January 8, 2020

भारत बंद के समर्थन में उतरे कर्मचारी, फरीदाबाद में सरकारी विभागों में कर्मचारी हड़ताल पर,आम जनमानस रहा परेशान

फरीदाबाद ( Abtaknews.com ) 08 जनवरी, 2020:  केन्द्र सरकार की जन विरोधी नितियों के खिलाफ 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के राष्ट्रव्यापी हड़ताल के आह्वान पर आज फरीदाबाद में भी कई विभागों के कर्मचारी सडकों पर उतरे और सरकार के विरोध में नारेबाजी की, नगर निगम, पीडब्ल्यूडी सहित कई विभागों के सैंकडों कर्मचारियों ने बीके चैक से नीलम चैक तक विरोध मार्च निकाला, कर्मचारियों ने कहा कि सरकार ने कर्मचारियों के साथ वायदा खिलाफी की है, जो वायदे सरकार में आने से पहले घोषणा पत्र में किये थे उनमें से कोई भी वायदा उन्होंने पूरा नहीं किया है। इसलिये पूरे देश के कर्मचारियों में सरकार के प्रति गुस्सा है।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि राष्ट्रव्यापी हड़ताल के प्रमुख मांगों नई पेंशन को समाप्त कर पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने, सभी प्रकार के कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, न्यूनतम वेतन 21 हजार वेतन करने, उत्पीडऩ की तमाम प्रकार की कार्यवाही समाप्त करने, फैक्ट्रियों की ताला बंदी पर रोक लगाने एवं श्रम कानूनों में किए जा रहे बदलावों पर रोक लगानेे आदि पर सरकार बातचीत कर समाधान करें। 
ये है मुख्य मांगें-------
एनपीएस को खत्म करो, पुरानी पेेंशन स्कीम बहाल करो, श्रम कानूनों में किए जा रहे मजदूर विरोधी संशोधन पर रोक लगानेे, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों एवं रोडवेज सहित जनसेवाओं के निजीकरण पर रोक लगाने, पंजाब के समान वेतनमान एवं पेंशन देने, संघ के सुझाव अनुसार विधानसभा में बिल पारित कर केन्द्रीय परियोजनाओं सहित अन्य विभागों में कार्यरत सभी प्रकार के पार्ट.टाईम, अनुबंध कर्मचारियों को पक्का करने, पक्का होने तक सेवा सुरक्षा एवं समान काम.समान वेतन देने, कर्मचारियों एवं उनके आश्रितों को वास्तविक खर्च पर आधारित कैशलैश मेडिकल सुविधा देने, एक्सग्रेसिया रोजगार स्कीम में सेवा व उम्र की लगाई गई शर्तों को हटाने, एचआरए में की गई बढ़ोतरी को जनवरी 2016 से लागू करने व सभी प्रकार की दमन एवं उत्पीडऩ की कार्यवाहियां को समाप्त करने
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने दावा करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार के धमकी भरे पत्र और पुलिस प्रशासन के भारी दबाव के बावजूद भी फरीदाबाद के लगभग 30 हजार से ज्यादा कर्मचारी एवं मजदूर हड़ताल पर रहे।  राष्ट्रव्यापी हड़ताल का व्यापक असर सरकारी कार्यालयों, स्कूलों, निगम बोर्ड कॉरपोरेशंस, स्वास्थ जन स्वास्थ, ईरीकेशन,बिजली, हुड्डा विभाग, आशा वर्कर, आंगनवाड़ी, आंगनवाड़ी, मिड डे मील, ग्रामीण सफाई, कर्मचारियों नगर निगम कर्मचारियों सहित हजारों कर्मचारी रहे हड़ताल पर कर्मचारियों ने सुबह ही अपने-अपने कार्यालयों को ताले जड़ दिए और सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की वहीं रोडवेज पर हरियाणा सरकार और पुलिस प्रशासन द्वारा तानाशाही और जबरन तरीके से बसें चलाने को लेकर रोडवेज यूनियन व सर्व कर्मचारी संघ के नेताओं के बीच तीखी झड़पें हुई। पुलिस प्रशासन ने जबरन तरीके से बसें चलाने का पूरा प्रयास किया सभी विभागों के कर्मचारी सीआईटीयू ट्रेड यूनियनों के नेताओं एवं कर्मचारियों ने नगर निगम मुख्यालय पर इक_ा होकर जोरदार विशाल विरोध सभा की तथा इसके बाद बीके चौक से नीलम चौक तक केंद्र एवं राज्य सरकार के खिलाफ  जोरदार प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन का नेतृत्व सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपप्रधान नरेश कुमार शास्त्री, सीआईटीयू की प्रधान सुरेखा, सीटू के जिला प्रधान नरेंद्र पराशर, सर्व कर्मचारी संघ के पूर्व संगठनकर्ता विरेंद्र सिंह डंगवाल, सकसं के जिला प्रधान अशोक कुमार, बिजली विभाग के नेता शब्बीर खान, सतपाल नरवत, करतार सिंह, टूरिज्म के नेता दिगम्बर डागर, सुभाष शर्मा, युद्धवीर सिंह खत्री, नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के राज्य महासचिव सुनील चिंडालिया, नगर निगम फेडरेशन के प्रधान रमेश जागलान, महासचिव महेंद्र चौटाला, नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के जिला प्रधान गुरचरण खाण्डिया, सचिव नानक चंद खैरालिया, हुड्डा वर्कर यूनियन 550 के नेता दिनेश, नरेश कुमार आंगनवाड़ी की नेता देवेन्द्री शर्मा, आशा वर्कर की नेता सुधा, सुशीला, शिक्षा विभाग से भीम सिंह, सेवानिवृत कर्मचारियों के नेता यू एम खान आदि ने किया।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages