Friday, December 6, 2019

दलित-राजपूत विवाद को कौन दे रहा है हवा, किसके इशारे पर सामाजिक समरसता को बिगाड़ने पर तुली हरियाण पुलिस

फरीदाबाद (abtaknews.com दुष्यंत त्यागी ) दलित-राजपूत विवाद को कौन हवा दे रहा है? आखिर  किसके इशारे पर हरियाणा पुलिस सामाजिक समरसता को बिगाड़ने पर तुली हुई है? जाति सम्बंधित विवादों में नेताओं के साथ-साथ पुलिस एवं प्रशासन को बहुत धैर्य एवं गंभीरता से कार्य करना होता है। उनका एक गलत कदम किसी बड़ी घटना का कारण बन सकता है। ऐसा ही कुछ महावतपुर गांव में होने के आसार बने हुए हैं। बीते शनिवार दलित समाज की लड़की की शादी में बारात को निकलने से रोकने का एक मामला सामने आया जिसमें पीड़ित पक्ष ने राजपूत समाज को आरोपी बनाते हुए थाना भूपानी में शिकायत दी थी कि राजपूतों ने दलितों की लडकी की बारात को गांव में नहीं निकलने दिया। 
इस पूरे विवाद को प्रिंट मीडिया ने अपने अपने अखबारों के प्रथम पृष्ठ पर छाप कर सुर्खियां बना दिया। मामले ने तूल पकड़ा और इसमें दलित संगठन सक्रिय हो गए। दलित और दबंग का मामला हरियाणा में जैसे ही जोरशोर से उछला तो प्रदेश का गृहमंत्रालय भी हरकत में आ गया।  बिना पूरी जांच-पड़ताल के पुलिस सक्रिय हो गई और आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी करनी शुरू कर दी। राजपूत अभी तक भी समझ नहीं पाए कि जो दलित लोग रात दिन उनके साथ उठते-बैठते थे, विवाह शादी में आना जाना था आखिर वो मामूली सी बात का बतंगड़ कैसे बना रहे हैं? कौन है जो इस चिंगारी को सुलगा रहा है ?
आरोपी राजपूतों ने इस मामले में जब स्वयं को घिरता देखा तो वे सरपंच भान सिंह चौहान के साथ स्थानीय नेताओं और पुलिस के उच्च अधिकारीयों के पास न्याय की गुहार करने पहुंचे लेकिन अधिकारीयों ने उनकी एक ना सुनी उल्टा धमका कर भगा दिया। हरियाणा पुलिस की सीआईए टीम बृहस्पतिवार की रात आरोपी परिवार को उठाने पहुंची। पुलिस ने आरोपी परिवार की महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार किया। पुलिस की इस तालिबानी हरकत से आक्रोशित ग्रामीणों ने सीआईए टीम को खदेड़ दिया।
क्या हुआ बृहस्पतिवार की रात...... महावतपुर गांव में बीते शनिवार को दलितों की बारात में डीजे को लेकर राजपूत समाज से हुए वादविवाद पर पुलिस द्वारा दर्ज केस में नामित व्यक्तियों के परिजनों को बृहस्पतिवार की रात दल बल सहित जबरन घरों से उठाने को लेकर भारी कार्यवाही की जिसमें महिलाओं को भी नहीं बख्शा। पुलिस की इस अमानवीय कार्यवाही में एक गर्भवती महिला घायल हो गई जिसे सिविल अस्पताल(बी के)  में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने गांव को छावनी बना दिया। 200 पुलिस कर्मियों ने रात 8 बजे घरों में घुस कर तलाशी की कार्यवाही की। रातभर ग्रामीणों और पुलिस में तनातनी चलती रही। गांव के राजपूत परिवार रात की इस घटना से दहशत में हैं। मीडिया कर्मियों से सच्चाई दिखाने की गुहार कर रहे हैं, शायद मीडिया इस मामले की तह तक जाकर सच्चाई का पता लगा सके। अन्यथा गांव का सामाजिक समरसता का माहौल ख़राब होने में देर नहीं लगेगी। ग्रामीण अंचल की सामाजिक मर्यादा भंग हुई तो फरीदाबाद जिले के साथ साथ हरियाणा प्रदेश के भाई चारे को फिर से संभाल पाना मुश्किल हो जाएगा। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages