ठिठुरन बढाती सर्दी, सांस के रोगी और बुजर्गों को हो रही है ज्यादा परेशानी

फरीदाबाद(Abtaknews.com)19 दिसंबर, 2019: लगातार सर्द हवाओं ने ठंड बढ़ा दी है। हाड़ कपकपा देने वाली सर्दी ने दिल्ली एनसीआर सहित फरीदाबाद में निरंतर गिरते तापमान के चलते लोग गर्म कपड़ों से लदकर अलाव ( आग-अंगीठी ) का सहारा ले रहे हैं। अधिकतर लोगों ने अपने अपने काम काज से छुट्टी कर ली है। जिसके चलते सरकारी कार्यालय सूने-सूने लग रहे हैं। ठंड ने सांस के मरीजों और बुजुर्गों की परेशानी बढा दी है। पहाड़ी इलाके में बर्फ़बारी और बरसात के बाद मैदानी क्षेत्र में ठंड लगातार बढ़ रही है। ठंड बढ़ने से मूंगफली, रेवड़ी और गज्जक की मांग बढ़ गई है। इसी  के साथ गर्म कपड़ों की खरीददारी में भी तेजी आई है। सर्दी से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने भी रैन बसेरों को दुरुस्थ कर दिया है। कॉलेज छात्र एवं छात्राएं गर्म टोपी वाली जैकेट पहनकर ठंड से बचते दिखाई दिए। 

क्या कहते हैं जिला उपायुक्त  अतुल  कुमार-- रैन बसेरों का प्रयोग कोई भी बेघर व्यक्ति कर सकता है। रेड क्रॉस सोसाइटी एवं नगर निगम द्वारा शहर में जगह जगह रैन बसेरे स्थापित किए गए हैं जिसमें सर्दी  के मौसम  में बेघर  व्यक्तियों  को  ठंड  से बचाने  के  लिये  व्यवस्था की गई है। 

शहर में कहां कहां हैं रैन बसेरे -- नशा  मुक्ति  केन्द्र  सेक्टर  14 फरीदाबाद,  रैडक्रास  भवन  सेक्टर  12,  ओल्ड  फरीदाबाद  पुल  के  नीचे,  न्यू जनता  कालोनी,  डबुआ सब्जी  मंडी,  एनआईटी  बस अड्डे  के  पास, बल्लभगढ़  बस अड्डे  के  पास  कुल मिलाकर 7 रैन  बसेरों  में  बेघर व्यक्तियों  के लिए  रात्रि निवास  की  समुचित व्यवस्थाये  की गयी है। इन रैन बसेरों का उपयोग  करने वाले व्यक्तियों  हेतु सर्दी से बचाव के लिये रजाईया एवं सुबह की चाय जैसे सुविधायें भी प्रदान की जाती हैं। खुले में सड़क किनारे सो रहे व्यक्तियों को रैन बसेरों तक पहुचाने के लिये रैडक्रास सोसायटी द्वारा गठित टीम एवं विभिन सामाजिक संगठन के प्रतिनिधि रात  को  शहर  के  विभिन्न  संभावित स्थानों  का  दौरा करके  बेघर  व्यक्तियों  को  रैन  बसेरों  तक  पहुचानें  का  कार्य करते हैं ।

No comments

Powered by Blogger.