Sunday, December 1, 2019

महावतपुर में राजपूतों ने दलितों की बारात नहीं निकलने दी जिससे गुस्साए दलितों का भोपानी थाने पर हंगामा

फरीदाबाद (Abtaknews.com)1 दिसंबर, 2019; महावतपुर में राजपूतों ने दलितों की बारात नहीं निकलने दी जिससे गुस्साए दलितों का भोपानी थाने पर हंगामा। पीडितो मे आक्रोश ।फरीदाबाद के भूपानी थाना क्षेत्र के महावतपुर गांव के दबंगों ने एक अनुसूचित जाति की लड़की की शादी के लिए आई बारात को गाँव में घुसने नहीं दिया। परिजनों ने आरोप लगाया कि गांव के दबंगों ने रास्ते में ट्रैक्टर लगाकर बारात को रोक दिया। दबंगों ने खुले शब्दों में चेतावनी दी कि राजपूतों के गांवों में सिर्फ क्षत्रियों की बारात चढ़ेगी। अन्य जातियों के ना बैंड बजेगा ना बारात चढ़ेगी। 
गांव के चार युवकों ने अनुसूचित जाति के घर आ रही बारात को रास्ते से वापस कर दिया। वही इसके बाद किसी तरह से दूल्हे को घर तक लाकर परिजनों ने अपने बेटी की शादी कराई। घटना के बाद से गांव में तनाव का माहौल है। इस घटना से नाराज ग्रामीण रविवार सुबह दर्जनों की संख्या में भूपानी थाना पहुंचे और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए जमकर हंगामा किया। पुलिस ने आनन फानन में एसीपी महेन्द्र वर्मा ने भूपानी थाना पहुँच कर पूरे मामले को जानकारी लेकर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने व न्यायिक की जाँच  आश्वासन दिया। एसीपी महेंद्र वर्मा का कहना है आरोपियों को जल्द करेंगे गिरफ़्तार।
लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह हैं कि क्या आज भी पुरानी कुरीतियों को समाज में लोगों ने जगह दे रखा है जिसे आज भी आपसी भाईचारा कायम करने में कहीं ना कहीं बाधक साबित हो रहा है जिसे समाज में विघटन को जन्म देता है जिसे हमारा समाज विकास करने की जगह अंधकार में चला जाएगा। आखिर क्या था क्या एक बाप को अपनी बेटी का शादी करने का हक नहीं है क्या समाज इसका अधिकार नहीं देता है तो फिर बरात को आखिर क्यों रोका जाता है जब सरकार खुद कहती है कि सबका साथ और सबका विकास तो फिर कौन छोटा और कौन बड़ा सबका अधिकार है सबकी खुशियां हैं फिर क्यों रोक टोक। भस्कोला सरपंच सत्यवती के पति भानसिंह चौहान का कहना है की बात का बतंगड़ बना दिया गया। हाई वॉलीयम डी जे की आवाज को कम करने के लिए बोला गया क्योंकि कुछ बुजुर्ग हार्ट पेसेंट थे जिन्हे परेशानी हो रही थी। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages