पलवल में 22 दिसंबर को राहगिरी कार्यक्रम के संबंध में अधिकारियों एवं समाजसेवियों की बैठक का आयोजन

पलवल(Abtaknews.com)20 दिसंबर। पलवल जिला में जनभागीदारी से लगातार लोकप्रिय साबित हो रहें राहगीरी-मिल कर रहो-खुल कर जियो कार्यक्रम का आगामी रविवार 22 दिसम्बर की सुबह 8 बजे कैम्प कॉलोनी स्थित सर्वानन्द चौक पर आयोजन होगा। पुलिस अधीक्षक सुनील कादियान ने शुक्रवार को लघु सचिवालय स्थित अपने कार्यालय में राहगिरी कार्यक्रम के संबंध में संबंधित अधिकारियों एवं समाजसेवियों की एक बैठक का आयोजन किया। उनहाने बताया कि इस बार राहगीरी कार्यक्रम का थीम सुशासन (गुड गवर्नेन्स) होगा। इसके अतिरिक्त कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण योगा, डांस, रस्सा-कस्सी, जुम्बा डांस, सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा अन्य खेल शामिल होंगें। पलवल प्रशासन व पुलिस विभाग ने पलवल के लोगों से आह्वïान किया है कि वे अधिक से अधिक संख्या में राहगीरी कार्यक्रम में पहुंचकर कार्यक्रम का हिस्सा बनें।
बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी अशोक बघेल, प्रबन्धक थाना यातायात उप निरीक्षक रविन्द्र, मुख्यमंत्री की सुशासन सहयोगी मैमूना शाहर, आईसीए राजबीर सिंह, मानव सेवा समिति की चेयरपर्सन सीता वर्मा, उपाध्यक्ष जयश्री जिंदल, करूणामयी सोसायटी से प्रधान मनोज छाबड़ा व राकेश चौधरी, उत्तमवंति सोसायटी के प्रधान सतीश भूटानी, रोड सेफटी ओमनी फाउन्डेशन से देवेन्द्र सिंह व राकेश कुमार, सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।      ‐--------------------------------------------- ------------------------------उपायुक्त यशपाल ने कहा कि पलवल जिला में आपराधिक घटनाओं में पीडि़त महिलाओं को संरक्षण व सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक छत के नीचे सभी सुविधाएं वन स्टॉप सेंटर के माध्यम से दी जाएंगी। पीडि़त महिलाओं को विधिक सहायता, चिकित्सा सहायता, खान-पान, पुलिस सुरक्षा आदि अनेक प्रकार की सुविधाए प्रदान करने के लिए तथा उनसे संबंधित मामलों के निपटान में परामर्श प्रदान कराने के लिए वन स्टाप सेन्टर का निर्माण नागरिक अस्पताल पलवल के द्वितीय तल पर करवाया गया है। उन्होंने यह बात शुक्रवार को लघु सचिवालय स्थित सभागार में वन स्टॉप सेंटर को लेकर अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कही।
श्री यशपाल ने बताया कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों की पालना में जिला प्रशासन पलवल द्वारा किसी भी प्रकार से  यह वन स्टाप सेन्टर 24 घन्टे खुला रहता है। बैठक में पुलिस, स्वास्थ्य विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग को उन्होंने वन स्टाप सेन्टर में आने वाली पीडि़त महिलाओं को पर्याप्त पुलिस सुरक्षा, आवश्यक चिकित्सा सुविधा तथा विधिक परामर्श उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए ताकि पीडि़ता अपना आगामी जीवन यापन ठीक प्रकार से कर सके। अब तक वन स्टाप सेन्टर में कुल 71 पीडि़त महिलाओं के केस प्राप्त हुए है, जिनमें से अधिकतर का निपटान वन स्टाप सेंटर द्वारा करवाया जा चुका है।  इसके अतिरिक्त जो केस न्यायालय में विचाराधीन है उनकी पैरवी समय पर की जा रही है।                                                            

No comments

Powered by Blogger.