Tuesday, December 3, 2019

फरीदाबाद के संतोष कुमार अग्रवाल 12 सदस्यीय "अंतर्राष्ट्रीय किकबॉक्सिंग तकनिकी समिति" में हुए शामिल

चंडीगढ़/ फरीदाबाद (abtaknews.com- दुष्यंत त्यागी ) 03 दिसंबर, 2019: फरीदाबाद जिला किकबॉक्सिंग संघ' के जिलाध्यक्ष श्री राज कुमार अग्रवाल ने बताया की 'फरीदाबाद जिला किकबॉक्सिंग संघ' एवं 'हरियाणा किकबॉक्सिंग संघ' के संस्थापक महासचिव  संतोष कुमार अग्रवाल को अंताल्या, टर्की में आयोजित 'विश्व किकबॉक्सिंग प्रतियोगिता' के दौरान "विश्व किकबॉक्सिंग महासंघ" के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष रॉय बेकर ने "अंतर्राष्ट्रीय किकबॉक्सिंग तकनिकी समिति" में बतौर सदस्य शामिल किया है. संतोष कुमार अग्रवाल के नेतृत्व में 10 सदस्यीय भारतीय टीम विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए गए थी जो आज ही भारत वापस लौटी हैं। 'वाको इंडिया किकबॉक्सिंग महासंघ' के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की यह पहला मौका है जब किसी भारतीय को यह सम्मान मिला है. अग्रवाल ने बताया की उक्त समिति के चेयरमैन क्रोएशिया के रोमियो डेसा हैं एवं उक्त समिति में विभिन्न देशों के केवल 12 सदस्य शामिल किये गए हैं। 

संतोष कुमार अग्रवाल के "अंतर्राष्ट्रीय किकबॉक्सिंग तकनिकी समिति" में सदस्य बनने पर 'हरियाणा किकबॉक्सिंग संघ' के प्रदेश अध्यक्ष आनंद मोहन शरण, आई. ऐ. एस. प्रधान सचिव खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग हरियाणा सरकार ने बधाई दी है और कहा है की इससे भारत में किकबॉक्सिंग खेल के विकास में एक नई दिशा मिलेगी। वाको इण्डिया किकबॉक्सिंग महासंघ के राष्ट्रीय महासचिव श्री तारकेश मिश्रा, कोषाध्यक्ष श्री अभिषेक जैन, हरियाणा ओलिंपिक संघ के महासचिव श्री बिजेन्दर सिंह लोहान, 'हरियाणा किकबॉक्सिंग संघ' के कार्यकारिणी सदस्य श्री तरुण गुप्ता, श्री अरुण बजाज, श्री कामेश्वर सिंह, श्रीपाल शर्मा, श्री अशोक गोयल, श्री अशोक चौधरी, श्री संजय चतुर्वेदी, श्री निष्ठाकर आर्य, श्री अजय अदलखा, श्री सुदर्शन नागर, श्री राजेश गोस्वामी, श्री पवन कुमार नागपाल ने बधाई एवं अपनी शुभकामनायें दी है। 

क्या है किकबॉक्सिंग: किकबॉक्सिंग मार्शल आर्ट की एक आधुनिक हाइब्रिड शैली है जिसे पूर्व में फुल कांटेक्ट कराटे के नाम से जाना जाता था. कराटे की तकनीकों के साथ - साथ पश्चिमी मुक्केबाजी के आधार पर द्वितीय विश्व युद्ध के उपरांत विकसित हुई यह आधुनिक युद्धक कला आज एक विश्व व्यापी खेल का रूप ले चूका है. मार्शल आर्ट की इस आधुनिक शैली के विस्तार एवं नियंत्रण हेतु वर्ष 1977 में "वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ़ किकबॉक्सिंग ऑर्गनाइज़ेशन (वाको)" की स्थापना हुई जिसका मुख्यालय इटली में स्थित है. वाको द्वारा इस युद्धक कला के खेल प्रारूप को कुशलता पूर्वक विकसित किया गया जिसे युवाओं ने काफी तेजी से अपनाया और परिणाम स्वरुप आज विश्व के पाँचों महाद्वीपों के लगभग सभी देशों में वाको की राष्ट्रीय इकाइयां कार्यरत है. इसकी लोकप्रियता को देखते हुए 30 नवंबर 2018 को टोक्यो, जापान में आयोजित 'इंटरनेशनल ओलम्पिक कमिटी' की एग्जीक्यूटिव बोर्ड मीटिंग के दौरान वाको किकबॉक्सिंग खेल को मान्यता प्रदान कर दी गई जबकि 'इंटरनेशनल वर्ल्ड गेम्स एसोसिएशन (आई.डब्लू.जी.ए.)', 'ओलम्पिक कौंसिल ऑफ़ एशिया (ओ.सी.ए)', 'वर्ल्ड एंटी- डोपिंग एजेंसी (वाडा)', इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स फेडरेशन (फिसु)', तथा ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ़ इंटरनेशनल स्पोर्ट्स फेडरेशन (जी.ए.आई.एस.एफ.) जैसी अंतर्राष्ट्रीय खेल संस्थाओं से किकबॉक्सिंग को पूर्व से ही मान्यता प्राप्त है। 
भारत में किकबॉक्सिंग: भारत में वाको से सम्बंधित 'किकबॉक्सिंग खेल' की शरुआत वर्ष 1994 हुई और धीरे - धीरे इसने अपनी गति पकड़ी, अन्य देशों की तरह भारत में भी वाको की सम्बद्ध संस्था "वाको इंडिया किकबॉक्सिंग फेडरेशन" के नाम से कार्यरत है जिसके नेतृत्व में देश के 32 राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों में किकबॉक्सिंग की सम्बद्ध इकाइयां कार्य कर रही है । वर्तमान में भारत में किकबॉक्सिंग खेल को स्कूली खेलों एवं विश्वविद्यालय खेलो में शामिल कर लिया गया है। "वाको इण्डिया किकबॉक्सिंग फेडरेशन" के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं भारत में "वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ़ किकबॉक्सिंग ऑर्गनाइज़ेशन (वाको)" के प्रतिनिधि श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने बताया की पिछले दो वर्षों में किकबॉक्सिंग खेल के तकनिकी स्वरूप में काफी सुधार आया है, देश के खिलाडियों ने अंतररष्ट्रीय प्रतियोगिताएं में पदक जीतना शुरू कर दिया है यह एक अच्छा संकेत है. यदि एशिया महाद्वीप की बात की जाए तो पिछले दो वर्षों में 'भारतीय टीम' का अंतर्राष्टीर्य प्रतियोगिताओं में पुरे एशिया महाद्वीप के अन्य देशों के मुकाबले सबसे ज्यादा पार्टिसिपेशन एवं मैडल जीते हैं। 
अब भारतीय रेफ़री भी अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन कर अपने तकनिकी ग्रेड में और अधिक सुधार कर वाको विश्व के सामने अपनी अलग छाप छोड़ रहे हैं। इसी वर्ष से भारत में होने वाली सभी राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में "ऑनलाइन सपोर्टडॉटा" सॉफ्टवेयर के माध्यम से इलक्ट्रोनिक ऑनलाइन एंट्री / स्कोरिंग / रिजल्ट्स एवं पुरे इवेंट्स के सभी डाटा को सही तरीके से संचालित किया जा रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री संतोष कुमार अग्रवाल ने यह भी बताया की भारत में किकबॉक्सिंग खेल का भविष्य काफी सुनहरा है और आने वाले समय में भारत में भी अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन जल्द किया जाएगा. 'खेल मंत्रालय भारत सरकार' एवं 'भारतीय ओलिंपिक संघ' जल्द ही इस खेल को मान्यता प्रदान करेगा इस हेतु लगातार हम संपर्क बनाये हुए हैं.

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages