Wednesday, October 23, 2019

फरीदाबाद सड़क सुरक्षा के नोडल अधिकारी डॉ एमपी सिंह ने बस-कंडक्टर, ड्राइवर को किया जागरूक

फरीदाबाद(abtaknews.com)23अक्टूबर,2019:ट्रांसपोर्ट कमिश्नर चंडीगढ़ के आदेसानुसार अतिरिक्त उपायुक्त एवं सचिव क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण फरीदाबाद के दिशा निर्देशानुसार सुरक्षित स्कूल वाहन पॉलिसी के तहत सड़क सुरक्षा के नोडल अधिकारी डॉ एमपी सिंह ने बस कंडक्टर ड्राइवर को बाटा फ्लाईओवर पर ट्रैफिक पुलिस के एएसआई सुरेश कुमार की टीम के साथ जागरूक किया और डॉ एमपी सिंह ने कहा कि सेंट जॉन एंबुलेंस इंडिया के द्वारा अधिकृत प्राथमिक सहायता बॉक्स सभी बसों में होना चाहिए उसमें चिपकने वाली पट्टी, रोलर बैंडेज, तिकोनी पट्टी,  प्लास्टिक चिमटी, दस्ताने ,कॉटन, जालीदार  कपड़ा, कैंची, डिटॉल, बर्फ की टोपी, हाइड्रोजन पर ऑक्साइड, दर्द की दवाइयां, पिन, टेप,गॉज, बैंडेज, स्पलेंट, टॉर्च, गर्म पानी की बोतल, प्राथमिक चिकित्सा पुस्तिका, डॉक्टर और अस्पतालों के आपातकालीन नंबर आदि होने चाहिए सभी बस कंडक्टर और ड्राइवरों के पास लाइसेंस के साथ वैलिड फर्स्ट एड सर्टिफिकेट का होना जरूरी है डॉ एमपी सिंह ने बताया कि आजकल अधिकतर विद्यार्थियों को प्रदूषण की वजह से अस्थमा की बीमारी है इसलिए फर्स्ट एड किट में अस्थलीन या सालबुटामोल भी होनी चाहिए जब विद्यार्थियों को उल्टी दस्त अधिक मात्रा ना होने लगे तो ओआरएस देते रहना चाहिए घाव की पट्टी पर रखने के लिए प्रोविडीन आयोडीन लगाकर बेहतर उपचार किया जा सकता है यातायात पुलिस अधिकारी एएसआई सुरेश कुमार के निरीक्षण करने पर पाया गया कि किसी भी बस में नॉर्म के आधार पर फर्स्ट एड किट और नेम प्लेट के साथ निर्धारित ड्रेस नहीं थी और उनको 15 दिन का समय इस कार्य को पूरा करने के लिए दे दिया गया इस अवसर पर होमगार्ड के जवान संदीप रावत, रामवीर, राकेश कुमार भी मौजूद रहे आरटीओ फरीदाबाद की तरफ से सभी स्कूल संचालकों को दिशा-निर्देश किए जाते हैं कि सुरक्षित स्कूल वाहन पॉलिसी की गाइडलाइन को अति शीघ्र पूरा करें और सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा में अपना सहयोग प्रदान करें घटना कहीं भी ,कभी भी, किसी के साथ भी घटित हो सकती है इसलिए संभावित नुकसान से बचने के लिए पूर्व की तैयारियों को पूरा कर लेना उचित है। 


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages