Wednesday, October 23, 2019

नेहरू कॉलेज में "गरिमामय वृध्दावस्था और अन्तरपीढ़ी सामन्जस्य" विषय पर सेमीनार का आयोजन

फरीदाबाद(abtaknews.com)राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद में नेशनल इन्स्टीट्यूट ऑफ़ सोशल डिफेंस ,(सामजिक न्याय एवं अधिकारिता  मंत्रालय  के अधीन) ने "गरिमामय वृध्दावस्था और अन्तरपीढ़ी सामन्जस्य" आज के समय के संवेदनशील  विषय पर एनजीओ  अनुग्रह के तत्वधान मे ,डॉ  प्रीता कौशिक के सौजन्य मे एक  सेमिनार  आयोजित किया जिस  की मुख्याअतिथि चीफ़ जुडिसियल मजिस्ट्रेट ,फरीदाबाद  मोना सिंह रही और प्रमुख वक्ता के रूप मे "अनुग्रह" एन जी ओ की चेयरमैन  डॉ आभा चौधरीऔर एडवोकेट रविन्दर गुप्ता मौजूद थे।इस सेमिनार मे  डॉ  आभा चौधरी ने वीडियो क्लिप्स के माध्यम से विधार्थियों को आज के समय  मे नई  पीढी की संवेदनहीनता के कारण वृध्दावस्था  मे कुण्ठा,अकेलापन,अपनों की बेरुखी से आहत वृध्द  सम्मज की संवेदनशील स्थिति को उजागर किया और  विधार्थियों को संदेश दिया कि  वो उन्हे अपनापन और थोडा वक़्त दे,उसी से उन की जिन्दगी की अन्तिम सांसे सुकून भरी होंगी ,वही  रविन्दर गुप्ता ने सुरक्षित बुढापे के लिए वेधनिक  जानकारियां दी  और हैल्प लाईन बताई जिस पर वृध्दावस्था सम्बन्धित लीगल  जानकारियां ले सकते है । सी जी एम मोना सिंह ने विद्यार्थियों को संदेश दिया कि  वृध्दजनों का सम्मान समाज व संस्कृति की रक्षा का परिचायक है। प्राचार्या प्रीता कौशिक जिन के सौजन्य मे कार्यक्रम हुआ उन्होनें कहा इस कार्यक्रम की सफलता तभी है जब विधार्थी आज बड़ों के सम्मान और सेवा की शपथ ले कर जायें।कार्यक्रम का संचालन कर रही प्रतिभा चौहान ने कहा कि घर के बड वृक्ष रुपी बड़ों की  जड़ों को विकास की दौड मे ना उखाडे वर्ना समाज का जीवन ध्वस्त हो जायगा।सेमिनार को सफल बनाने मे लीगल लिट्रेसि की इंचार्ज सुप्रिया दिनोदिया, विमल गौतम अंशु  नय्यर,मोनिशा चौधरी, राकेश पाठक ने महत्वपूर्ण  भूमिका  निभाई।अन्त मे डॉ  नरेंदर कुमार ने प्राचार्या प्रीता कौशिक व सी जी एम मोना सिंह, डॉ  आभा चौधरी, रविन्दर गुप्ता और सभी स्टाफ सदस्यों को धन्यवाद किया।




No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages