Tuesday, August 20, 2019

बिजली निगम के डायरेक्टर बंसल से अधिकारियों के रवैये से आक्रोशित होकर मिलने पहुँचे कर्मचारी नेता

फरीदाबाद(abtaknews.com)20अगस्त,2019: बाटा चौक स्तिथ एफआईए दफ्तर पर अधिकारियों की मीटिंग में हिसार से आये बिजली निगम के डायरेक्टर एसके बंसल से मिलने पहुँचे एचएसईबी वर्कर यूनियन के सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा की अगुआई में भारी संख्याबल में कर्मचारियों ने फरीदाबाद के बिजली अधिकारियों के रविये से खफा होकर मिलने की पहल की लेकिन मीटिंग में व्यस्त डायरेक्टर से मिलने नही दिया गया जिस पर कर्मचारियों का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया और सभी ने लामबन्द होकर निगम प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर अपना विरोध जाहिर किया । सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा ने कहा कि आज एनआईटी फरीदाबाद के एक्शन जितेंदर ढुल व बिजली निगम के एसई पीके चौहान का अपने बिजली कर्मचारियों के प्रति रविया ठीक नही है । एक्शन व एसडीओ आयेदिन डायरेक्टर बंसल के नाम पर अपने कर्मचारियों को टॉर्चर करते रहते हैं व प्रताड़ित करते हैं । जबकि आज बिजली निगम में कर्मचारियों का अभाव है व इसके बावजूद प्रताड़ना का शिकार किया जा रहा है जिसे हमारी यूनियन कतई बर्दाश्त नही करेगी । कर्मचारी नेता सुनील खटाना ने बताया कि फरीदाबाद सर्कल से पाँच बिजली कर्मचारियों को सरप्लस बता कर एसई फरीदाबाद ने नौकरी से बाहर निकाल दिया है लेकिन जब इस बाबत यूनियन ने एसई चौहान से बात की तो उन्होंने डायरेक्टर एसके बंसल के आदेश बता कर कर्मचारियों को बाहर निकालने का फरमान जारी कर दिया जबकि यूनियन के शीर्ष नेतृत्व को पहले ही प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आश्वस्त कर गत 20 जुलाई 2019 को साफ कह दिया था कि  प्रदेश के विभाग से एक भी कर्मचारी का रोजगार नही छिना जायेगा व निकाला नही जायेगा । जिसके लिये आज कर्मचारियों ने डायरेक्टर से मिलकर इस बाबत बात करने की कोशिश की लेकिन फरीदाबाद के अधिकारियों ने यूनियन के नेताओं को डायरेक्टर से मिलने से रोका तो कर्मचारियों ने अधिकारियों खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया जिसके बाद एसई फरीदाबाद ने डायरेक्टर से मिलवाने का आश्वासन दिया । इस मौके पर ग्रेटर फरीदाबाद के प्रधान सुनील चौहान व ओल्ड फरीदाबाद के प्रधान लेखराज चौधरी ने बताया कि यदि आगामी समय मे बिजली निगम के इन अधिकारियों ने अपने रविये में बदलाव नही किया तो यूनियन अपने स्तर पर एक बड़े निर्णायक आंदोलन को छेड़ने में पीछे नही रहेगी  । आज कर्मचारी सम्मान के साथ नौकरी करना चाहता है ना कि तनाव की स्तिथि में कुछेक यही कारण भी बिजली दुर्घटनाओं को होने में आशंकित हैं । अपने वक्तव्य में बल्लभगढ़ के प्रधान कर्मबीर यादव व एनआईटी के प्रधान विनोद शर्मा ने बताया कि ज्यादातर बिजली लाइनों से हादसों में घटिया सामग्री का उपयोग किया जाना व महकमे में आज एक कर्मचारी पर पाँच पाँच कर्मचारियों के काम का बोझ है किन्तु ये अधिकारी फिर भी उन्हें जानबूझ कर परेशान कर मानसिक तनाव देते हैं जो अब बर्दाश्त से बाहर है । इस मौके पर ईश्वर सिंह, मुकेश, मदनगोपाल, वेद शर्मा, आज़ाद सिंह, राजबीर, श्रीचन्द, सोनू, रविन्दर, अशोक राठी, राजेश, महेन्दर, मामचन्द, बृजपाल तँवर आदि सैंकड़ों कर्मचारीयों ने पहुंचकर विरोध दर्ज कराया । 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages