Breaking

Monday, July 22, 2019

क्रिकेटर चेतन शर्मा ने विद्याथियों से साझा किये जीवन के अनुभव, कहा - मानसिक रूप से मजबूत बनो



फरीदाबाद(abtaknews.com) 22 जुलाई,2019: जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद द्वारा नये अंडरग्रेजुएट विद्यार्थियों के लिए आयोजित इंडक्शन कार्यक्रम में आज वर्ष 1987 विश्वकप में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैट्रिक लेकर देश को गौरवान्वित करने वाले पूर्व क्रिकेटर चेतन शर्मा ने विद्यार्थियों के साथ अपने जीवन के अनुभव साझे किये। उन्होंने विद्यार्थियों को मानसिक रूप से मजबूत बनने और खेलों को करियर बनाने के लिए प्रेरित किया।

इस कार्यक्रम का आयोजन विद्यार्थी कल्याण प्रकोष्ठ द्वारा विभिन्न विभागों के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. नरेश चौहान ने की। कार्यक्रम का संचालन डिप्टी डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. सोनिया बंसल की देखरेख में किया जा रहा है। इससे पूर्व, आज सुबह के सत्र को दैनिक जागरण के विशेष संवाददाता बिजेन्द्र बंसल ने संबोधित किया तथा विद्यार्थियों से शिक्षा को अपने जीवन का लक्ष्य बनाये का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही ऐसा माध्यम है, जिससे आप अपना भविष्य संवार सकते हो और अपने परिजनों को गौरवान्वित कर सकते हो। इसलिए, अवसरों का लाभ उठाओ और अपना भविष्य उज्ज्वल बनाओ।
कार्यक्रम को मनोचिकित्सक नौमिता ऋषि ने विद्यार्थियों को तनावमुक्त जीवन जीने के उपयोगी टिप्स दिये और बताया कि वे किस तरह खुद को तनाव से दूर रख सकते है। दोपहर बाद के सत्र में डॉ. सोनिया बंसल ने विद्यार्थियों को भारत सरकार के जल शक्ति अभियान के बारे में जानकारी दी तथा विश्वविद्यालय स्तर पर जल संरक्षण के लिए किये जा रहे प्रयासों एवं विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। इसके उपरांत, डॉ. नील कंवर ने संचार कौशल तथा डॉ. नीलम दूहन ने मूक्स पाठ्यक्रमों पर विस्तार से चर्चा की।



विद्यार्थियों के साथ चेतन शर्मा की बातचीत के कुछ अंशःमजबूत आत्म शक्ति से ही मिलती है सफलता
चेतन शर्मा ने बताया कि शारजाह में वर्ष 1986 में आस्ट्रेलिया-एशिया कप के फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ उनकी गेंदबाजी पर आखिरी गेंद में छक्का पड़ने से भारत को मिली हार ने उनकी जिंदगी बदल कर रख दी थी। वे मानसिक रूप से काफी कमजोर महसूस कर रहे थे और उनकी आत्म विश्वास बिल्कुल डगमगा गया था। इस मुश्किल समय में उनके कोच डीपी आजाद और कप्तान सुनील गावस्कर ने उन्हें हौंसला दिया। इसके बाद 1986 में उन्होंने टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिए इंग्लैंड दौरे पर शानदार गेंदबाजी की और 21 विकेट हासिल की और न्यूजीलैंड के खिलाफ 1987 विश्वकप में हैट्रिक ली। चेतन शर्मा ने विद्यार्थियों से कहा कि यदि आप खुद पर यकीन रखते है और अपने गुरूजनों का सम्मान करते है तो आप कोई भी लक्ष्य हासिल कर सकते हो।



कभी रणजी ट्राफी खेलने पर मिलते थे 210 रुपये, अब करोड़ों कमाते है क्रिकेटर



चेतन शर्मा ने बताया कि उनके दौर में एक क्रिकेटर को मैच फीस के रूप में रणजी ट्राफी के लिए प्रति मैच 210 रुपये मिलते थे और वह पूरा सीजन खेलने पर तीन हजार रुपये तक कमाता था जबकि अंतराष्ट्रीय मैच खेलने पर 1500 रुपये मिलते थे। आज रणजी ट्राफी खेलने वाला क्रिकेटर ही 35 हजार रुपये प्रति मैच कमा लेता है और अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच के लिए डेढ़ लाख रुपये और टेस्ट मैच के 17 लाख रुपये तक मिल जाते है। इस तरह आज के दौर में ऋशभ पंत जैसा युवा क्रिकेटर भी घरेलू व अंतर्राष्ट्रीय मैचों व आईपीएल से लगभग 17 से 22 करोड़ रुपये आसानी से कमा लेता है। उन्होंने कहा कि यदि सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, धोनी और सुनील गावस्कर जैसे क्रिकेटरों की पूरी आमदनी मिला ली जाये, तो यह किसी देश की सकल घरेलू आय (जीडीपी) के बराबर होगी। इसलिए, युवाओं के लिए आज खेल करियर का अच्छा विकल्प है। 
हरियाणा की खेल नीति बेहतरीन, खेलों को मिल रहा प्रोत्साहन
हरियाणा सरकार की खेल नीति की सराहना करते हुए चेतन शर्मा ने प्रदेश की खेल नीति के अंतर्गत ओलंपिक स्वर्ण पदक के लिए छह करोड़ रुपये, रजत पदक के लिए चार करोड़ रुपये तथा 2.5 करोड़ रुपये दिये जा रहे है जोकि देश में सर्वाधिक है। उन्होंने खलों को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के प्रयासों की सराहना की।
क्रिकेट खेलने के कारण कभी कालेज नहीं जा सका
चेतन शर्मा ने कहा कि क्रिकेट खेलने के कारण उन्हें कभी कालेज जाने का मौका नहीं मिला। उन्होंने बताया कि जब वर्ष 1983 में 17 साल की उम्र में क्रिकेट में पर्दापण किया तो वे 11वीं कक्षा में थे। लगातार क्रिकेट खेलने के कारण कभी कालेज नहीं जा सके लेकिन डीएवी अंबाला से जैसे-तैसे ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। लेकिन जब वे आज की युवा पीढ़ी को देखते है तो उन्हें अच्छा लगता है कि बच्चे पढ़ाई को कितनी गंभीरता से ले रहे है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि खेलों को अपना भविष्य बनाये लेकिन साथ-साथ अच्छी पढ़ाई भी जरूरी करें ताकि अगर खेल में करियर न बने तो आपके पास करियर का कोई और विकल्प मौजूद रहे। 

1 comment:


  1. Are you interested to selling one of your k1dney for a good amount of 7Cr (Advance money 3,5cr)} in India pls kindly Contact us as we are looking for k1dney donor, Very urgently who are group B,group A ,O ve and 0 ve. Interested person should contact us now.

    Best Regards:
    DR Craig Parrish
    Email: dr.craigparrish @ yahoo . com
    contact us: +917428413110
    WhatsApp: +917428413110

    ReplyDelete

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages