Breaking

Saturday, July 6, 2019

फरीदाबाद में आशा वर्करों का धरना छठे दिन भी जारी


फरीदाबाद(abtaknews.com)6 जुलाई,2019:आशा वर्करों का धरना आज 6 वें दिन में प्रवेश कर गया। आशा वर्करों ने बादशाह खान अस्पताल के सिविल सर्जन कार्यालय के सम्मुख नारेबाजी की। आज के धरने में सुभाष कॉलोनी, धौज, पाली, बल्लभगढ़ गोंछी, सेक्टर 55, फतेहपुर तगा की आशा वर्करों ने भाग लिया। आशा वर्कर  न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपए प्रतिमाह देने और आयुष्मान योजना का लाभ आशा वर्करों को प्रदान करने के नारे लगा रहे थे। आज के धरने की अध्यक्षता जिला प्रधान हेमलता ने की जबकि संचालन जिला सचिव सुधा पाल ने किया।
इस अवसर पर सर्व कर्मचारी संघ के सह सचिव धर्मवीर वैष्णव, सीआईटीयू के जिला प्रधान निरंतर पराशर, जिला सचिव लालबाबू शर्मा के अलावा उपप्रधान सुशीला ने अपने विचार व्यक्त किए। वक्ताओं ने हरियाणा सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार आंदोलनकारी  आशा वर्करों की अनदेखी कर रही है। उन्होंने बताया कि सबसे अधिक काम करने वाली कर्मियों को न्यूनतम वेतन तक नहीं मिलता। उन्होंने बताया कि गत वर्ष सरकार और आशा वर्करों के साथ उनकी मांगों को लेकर समझौते हुए लेकिन इन पर अमल नहीं हुआ। इसलिए आशा वर्करों को फिर से आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ा है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि आशा वर्करों की मांगों को लागू नहीं किया गया तो आशा वर्कर निर्णायक आंदोलन करने पर मजबूर होगी। यूनियन सरकार की टालमटोल की नीति को बर्दाश्त नहीं कर सकती क्योंकि वर्करों को उनकी मेहनत के अनुसार मानदेय नहीं मिलता है। उन्होंने मिशन डायरेक्टर को नोटिफिकेशन शीघ्र जारी करने का अनुरोध किया।  जिसमें 45 वे  श्रम सम्मेलन की सिफारिशों को लागू करने, सभी आशा वर्कर को न्यूनतम वेतन 18हजार प्रतिमाह देने, सभी वर्कर्स को सामाजिक सुरक्षा जैसे ईएसआई और पीएफ प्रदान करने, हर महीने की 10 तारीख से पहले प्रोत्साहन राशियों का पैसा खातों में जमा करने के साथ-साथ  स्टेट और सेंटर की सभी प्रोत्साहन राशियों का भुगतान एक साथ करने, इसके अलावा सेल्फ अप्रेजल की बुक स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी जाए और इसके अक्षरों का साइज थोड़ा बड़ा किया जाए ताकि रिपोर्ट लिखने में सुविधा हो सके। यूनियन ने एनसीडी का पूरा सामान और उसकी गाइडलाइन देने की मांग भी की है। इसके अलावा सभी आशाओं के पास एनसीडी के रजिस्टर होने चाहिए, आशाओं को रजिस्टर फोटो कॉपी करवाने को कहा जाता है लेकिन फोटो कॉपी करने की राशि विभाग से नहीं मिलती है। 
निरंतर पाराशर ने कहा कि सभी आशाओं को आयुष्मान भारत योजना का हिस्सा बनाया जाए ताकि उन्हें भी अपने बच्चों का इलाज करने की सुविधा प्राप्त हो सके। इसके साथ-साथ ट्रेनिंग में खाने की गुणवत्ता तथा स्टेशनरी अच्छी प्रकार की प्रदान की जाए। ट्रेनिंग के लिए गाइडलाइन भी उपलब्ध करवाई जाए। उन्होंने हरियाणा सरकार से एएमसी पर बढ़ाई गई राशि के लिए कंप्लीशन की शर्त को हटाने की मांग भी की। उन्होंने बताया कि विभाग कर्मचारियों से काम तो ज्यादा लेता है लेकिन उन्हें न्यूनतम वेतन तक नहीं  तक नहीं देता है।  आज के धरने सीटू के जिला प्रधान निरंतर पराशर, जिला सचिव लालबाबू शर्मा, सर्व कर्मचारी संघ के सह सचिव धर्मवीर वैष्णव और सुशीला, कोषाध्यक्ष नीलम जोशी, पूजा गुप्ता, साहिन प्रवीण ने भी संबोधित किया। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages