Breaking

Friday, June 14, 2019

पश्चिम बंगाल से शुरू हुई जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के समर्थन में उतरे फरीदाबाद के डाक्टर, डॉक्टर की हत्या एवं मारपीट का मामला



फरीदाबाद(abtaknews.com)14जून,2019; पश्चिम बंगाल से शुरू हुई जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को अब देशभर के डॉक्टरों का समर्थन मिल रहा है। बंगाल में जूनियर डॉक्टरों के साथ हुई मारपीट की घटना से मेडिकल एसोसिएशन में गु्स्सा है। पश्चिम बंगाल के डॉक्टरों का समर्थन करते हुए फरीदाबाद में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी आज पूरे शहर में हडताल कर दी, एसोसिएशन की प्रधान पुनीता हसिजा अपने पदाधिकारियों और जूनियर डाक्टरर्स के पहले ईएसआई पहुंची जहां पहले ओपीडी को बंद किया गया और मरीजों से हडताल का साथ देने की अपील की गइ तो वहीं शहर के सबसे बडे सिविल अस्पताल की भी ओपीडी बंद कर दी गई। हालांकि सामजहित को देखते हुए उन्होंने इमरजेंसी सेवाओं को बंद नहीं किया है।
फरीदाबाद में भी अब पश्चिम बंगाल से शुरू हुई जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को समर्थन मिलना शुरू हो गया है। फरीदाबाद में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रधान डा. पुनीता हसीजा और पूर्व प्रधान डा. सुरेश अरोडा पदाधिकारियों और जूनियर डाॅक्टरर्स ने मिलकर पूरे शहर में हडताल कर दी है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों और जूनियर डाॅक्टरर्स ने यह हडताल सिर्फ प्राईवेट सेक्टर में ही नहीं सरकारी अस्पताला में भी की है। एसोसिएशन की प्रधान पुनीता हसीजा ने बताया कि पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टरों के साथ हुई मारपीट से वो बहुत आहत हैं, इसलिये आज पहले पूरे फरीदाबाद के प्राईवेट अस्पतालों ने हडताल की है और फिर उन्होंने ईएसआई और शहर के सबसे सरकारी सिविल अस्पताल की ओपीडी को भी बंद करवा दिया है, ऐसे में उन्होंने ओपीडी में पहुंचे मरीजों से भी हडताल में साथ देने की अपील की है। हालांकि सामजहित को देखते हुए उन्होंने इमरजेंसी सेवाओं को बंद नहीं किया है। एसोसिएशन की प्रधान पुनीता हसिजा ने मांग की है कि डाक्टरर्स के लिये सेेंटल एक्ट बनाया जाये, जिसमें ड्यूटी के दौरान डाक्टर के साथ बदसलूकी या मारपीट करने के आरोपी की तुरत गिरफतारी और सख्त कानूनी कार्यवाही हो। 


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages