Monday, April 15, 2019

सतयुग दर्शन वसुंधरा में भव्य रामनवमी यज्ञ महोत्सव विधिवत संपन्न



ग्रेटर फरीदाबाद (abtaknews.com )रामनवमी  की  पवित्र बेला पर सतयुग दर्शन वसुंधरा के प्रांगण में हवन आयोजन के  उपरांत  कई नवजात शिशुओं ने चोले डलवाए, उनका नामकरण हुआ व मुण्डन संस्कार समपन्न हुआ। आज सफ़ेद पोशा· व गुलानारी दुपट्टा धारे श्रद्धालुओं ·ी बहुत भीड़ थी। आज यहाँ अनमोल मानव जीवन ·े परमपद ·ो समयानुसार प्राप्त ·र लेने ·ी महत्ता पर बल देते हुए ट्रस्ट ·े मार्गदर्श· श्री सजन जी ने ·हा ·ि आत्मविजय सबसे बड़ी विजय है जो इंसान ·ो तभी प्राप्त होती है जब वह प्रत्ये· ·ार्य अपने निजी अहं व ·त्र्ता भाव ·ो त्याग ·र, ईश्वर ·े निमित्त, उस·े हु·मानुसार ·रता है। अन्य श4दों में जो सब ·ाम ईश्वर ·ो हाजिऱ नाजिऱ जान ·र, निष्·ाम व समर्पित भाव से शास्त्रविहित युक्ति अनुसार ·रता है, वह ·भी नहीं हारता 1यों·ि उस·ा सारा ध्यान विजय लक्ष्य पर ·ेन्द्रित होता है व उस·ा शारीरि·-मानसि· या आत्मि· बल अथाह होता है।

इस आधार पर आत्मविजय ए· श्रेष्ठ सद्गुण है व साधना ·ी चरम और दुर्लभ अवस्था है। इस अवस्था ·ो प्राप्त ·रने ·े लिए उद्देश्य ·ी स्पष्टता, दृढ़ इच्छा शक्ति, लगन, निष्ठा, साहस, युक्तिसंगत परिश्रम तो आवश्य· है ही साथ ही नैति· बल, आत्मसंयम व ए·ाग्रचित्तता ·ा होना भी अपरिहार्य है। इन साधनों ·े वि·ास हेतु ही सुसंगति, नियमित रूप से सत-शास्त्र ·ा अध्ययन, चिंतन, मनन, विचार, चारों पहर नाम-अक्षर ·ा सिमरन, ध्यान व निरंतर ए· गुणी इंसान ·ी तरह निष्·ाम भाव से प्रयासरत रहने ·ी महिमा है।

अत: इस तथ्य ·े दृष्टिगत आत्मविजयी होने ·े लिए सदैव अपने मनोबल ·ो ऊँचा रखो। मन-मस्तिष्· में विजय प्राप्ति ·े अतिरिक्त ·िसी विपरीत विचार ·े लिए ·ोई स्थान न हो। याद रखो मन यदि दृढ़ है तो सफलता सुनिश्चित है। इस·े विपरीत इन्द्रियाँ व मन यदि चलायमान है तो व्यक्ति शीघ्र ही तन-मन-धन व समबन्धों ·े प्रभाव में आ उनसे हार जाता है, फलत: विजय प्राप्ति असंभव हो जाती है। ऐसा इसलिए 1यों·ि चंचल इन्द्रियाँ ·िसी ·ो भी अपने वश में ·रने ·े लिए सदा उद्यत रहती हैं। अने· तो सहज रूप में विषय रसों ·े गुलाम हो उन·े वश में हो जाते हैं ·िंतु ·ुछ दृढ़ निश्चयी ऐसे भी होते हैं जो उन इन्द्रियों ·ी दिशा ही मोड़ देते हैं। उन्हें बहिर्मुखी से अंतर्मुखी बना देते हैं और इन्द्रियजीत ·हलाते हैं।

उन्होने ·हा ·ि आत्मविजय प्राप्त ·रने हेतु आप भी ऐसे ही इन्द्रियजीत बनो। इस हेतु याद रखो इन्द्रियों ·ी ही भांति मन पर विजय पाना भी अति आवश्य· है। मन ·ो जीत ·र ही मनुष्य इस संसार में नि:स्वार्थ व अ·त्र्ता भाव से ·र्म ·रते हुए, धर्म ·े मार्ग पर प्रशस्त हो स·ता है और सदाचारितापूर्ण सत्·र्म ·र स·ता है। इस·े विपरीत यदि वह ·ुसंग ·े ·ारण ऐसा नहीं ·रता तो वह  बुरे ·ामों में रत हो ·ु·र्म-अधर्म ·रने लग जाता है। अत: अपने मन और इन्द्रियों दोनों ·ो जीतने वाले जितेन्द्रिय बनो और बड़े-बड़े प्रलोभनों ·े माया जाल से मुक्त हो सत्य धर्म ·े निष्·ाम रास्ते पर बने रह असीम संतोष ·ो पाओ। इससे व्यक्तित्व शील और शक्ति ·ा संगम स्थल बन जाएगा और आप·ी जय आप·े आचार-विचार व व्यवहार से प्रतिबिमिबत होगी। नतीजा ईश्वर स्वयं आगे हो·र आप·ा अभिवादन ·रेंगे और आप दुर्लभ अमर पद ·ो सहज ही प्राप्त ·र आनन्द ·े चरमोत्·र्ष ·ो पा अपना जीवन सफल बना लोगे।

इसी संदर्भ में श्री सजन जी ने ·हा ·ि आत्मविजय प्राप्त ·रने हेतु सदैव स·ारात्म· बने रहते हुए अपना सार्थ· वि·ास ·रो अर्थात् स्वयं ·ी शारीरि·, मानसि·, बौद्धि· व आत्मि· क्षमताओं ·ा वि·ास ·रने ·ा पुरुषार्थ दिखाओ। इस तरह सर्व ए·ात्मा ·ा भाव अपना·र, ए· मनुष्य से दूसरे मनुष्य ·े बीच व्याप्त विभेद ·ो (जो समस्त बुराईयों, संघर्ष और अशांति ·ा आधार है) जड़ से मिटा ·र ए· दूसरे ·े सजन बन जाओ। य·ीन मानो इस यत्न द्वारा मन में छाया अपवित्रता और पाप ·ा अंध·ार स्वयं छँट जाएगा और ह्वदय आत्मप्र·ाश से प्र·ाशित हो जाएगा। जानो इस विशुद्ध अवस्था ·ो प्राप्त होने पर ही, आत्मविजय ·े पथ पर, आत्मविश्वास ·े साथ स्थिर बने रह, अपने लक्ष्य ·ो सहजता से प्राप्त ·र पाओगे यानि हर्ष-विषाद, राग-द्वेष, सुख-दु:ख, जय-पराजय आदि द्वन्द्वों से ऊपर उठ और समचित्त हो समरसता से जीवन जीते हुए  जीवन ·ा वास्तवि· आनन्द प्राप्त ·र अमर पद प्राप्त ·र यानि परमधाम पहुँच विश्राम ·ो पाओगे ।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages