Sunday, April 14, 2019

यीशू का यरुशलम प्रवेश यानी पाम संडे: एम.पी.सोना

फरीदाबाद(abtaknews.com)14 अप्रैल,2019;  हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी ईसाई समुदाय द्वारा पॉम सण्डे बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। एनआईटी-5 स्थित शान्ति निवास चर्च में ईसाई समुदाय के हजारों श्रृद्धालुओं ने पास्टर एम.पी.सोना के नेतृत्व में प्रात: 9 बजे एक जलूस के रूप में यात्रा निकाली जो कि चर्च से निकलते हुए विभिन्न 5 नम्बर के ब्लाको सहित बाजारो से होते हुए शान्ति निवास चर्च पर समाप्त हुई इस यात्रा में बच्चे, बूढे, जवान, महिलाओं ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और प्रभु यीशू के गीतों को गाकर एक अच्छा संदेश जन जन तक पहुंचाने का प्रयास किया। जलुुस निकलने से पहले पास्टर एम.पी.सोना, डा. जैम्स सहित अन्य ने अपने सम्बोधन में कहा कि (यीशू का यरुशलम प्रवेश यानी पाम संडे)।

पास्टर एम.पी.सोना ने बताया कि पाम संडे यानी खजूर  ईसाई धर्म के अनुयाइयों के प्रमुख त्योहारों में से एक त्योहार मनाया गया। इस दिन को ईसाई समुदाय के लोग प्रभु यीशू के यरुशलम में विजयी प्रवेश के रूप में मनाते हैं। इस बार 28 मार्च को पाम संडे मनाया गया। पवित्र बाइबल में कहा गया है कि प्रभु यीशू जब यरुशलम पहुँचेए तो उनके स्वागत में बडी संख्या में लोग पाम यानी खजूर की डालियाँ अपने हाथों में लहराते हुए एकत्रित हो गए थे। लोगों ने प्रभु यीशू की शिक्षा और चमत्कारों को शिरोधार्य कर उनका जोरदार स्वागत किया था। यह बात करीब दो हजार वर्ष पहले की बताई जाती है। उस दिन की याद में पाम संडे मनाया जाता है। इसे पवित्र सप्ताह की शुरुआत के रूप में भी मनाया जाता है। इसका समापन ईस्टर के रूप में होता है। इस बार ईस्टर 4 अप्रैल को मनाया जाएगा। पाम संडे दक्षिण भारत में प्रमुखता से मनाया जाता है। इसे पैसन संडे भी कहा जाता है।
इस मौके पर डा. जेम्स ने कहा कि इस दिन सभी चर्चों में विशेष आयोजन किया गया इसमें बाइबल का पाठ, प्रवचन और मीसा का आयोजन भी किया । साथ ही एक विशेष आयोजन के साथ शाम को जलूस निकाला जाएगा। ईसाई समाज के लोगों ने पाम संडे के दिन प्रभु के आगमन की खुशी में गीत गाकर इस दिन का स्वागत किया। सभी ने हाथों में खजूर की डालियाँ लेकर प्रभु के आने की खुशी में गीत गाए। इस दिन से गिरिजाघरों में शुरू हुई प्रभु आराधना एवं भक्ति का सिलसिला ईस्टर तक जारी रहेगा।  मसीही मंदिरों में विशेष प्रार्थना होती है। दुखभोग सप्ताह की आराधना 29 मार्च से शुरू होकर 3 अप्रैल को गुड फ्रायडे के अवसर पर विशेष मसीह गीतों की प्रस्तुति दी जाएगी। इसमें झाँकी सजाकर प्रभु के जीवन को दर्शाया गया। पाम सण्डे के अवसर पर विशाल जलूस निकाला गया जो कि सैक्टर 9 चर्च से आरंभ होकर बल्लभगढ तक पहुंचा। इस मौके पर हजारो की तादात श्रृद्धालुओं ने प्रभु यीशू के गीतों व प्रवचनो को गाकर देश, प्रदेश व समाज में सुख समृद्धि व शान्ति की कामना की। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages