Breaking

Saturday, March 23, 2019

सरकारी स्कूलों में शिक्षा सत्र शुरू होने से पहले ही पहुँची पाठ्य-पुस्तकें,हरियाणा में मनोहर शुरुआत

Textbooks already reached before the commencement of education session in government schools, pleasant start in Haryana
फरीदाबाद(abtaknews.com) 23 मार्च,2019: फरीदाबाद जिले के राजकीय विद्यालयों में शिक्षा सत्र 1 अप्रैल से शुरू हो रहा है, उससे पहले ही पाठ्यपुस्तकें स्कूलों में पहुँच रही हैं।हरियाणा के सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक सभी बच्चों को पाठ्यपुस्तकें सरकार द्वारा मुफ्त उपलब्ध कराई जाती हैं ।हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद पंचकूला द्वारा जिला शिक्षा अधिकारियों /जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से पत्र लिखकर सभी स्कूलों के मुखियाओं को आदेश जारी किये गये हैं कि वे स्कूलों में देर शाम तक उपस्थित रहें ताकि पुस्तकों के स्टाक को जाँच कर रिसीविंग दें।    
छात्रों की संख्या के आधार पर भेजी गई पुस्तकें :सभी स्कूलों में छात्रों की संख्या के आधार पर पुस्तकें भेजी जाने के समाचार हैं ।विभागीय सूत्रों के अनुसार प्रवेश बढने पर स्कूलों की डिमांड पर पाठ्यपुस्तकें पुन:भेेजी जा सकती हैं। समय पर पाठ्यपुस्तकें पहुँचने पर अध्यापकों व बच्चों एवं अभिभावकों में खुशी :शिक्षा सत्र शुरू होने से पहले ही पाठ्यपुस्तकें के स्कूलों में पहुँचने पर अध्यापकों, बच्चों एवं अभिभावकों ने प्रसन्नता व्यक्त की है।समय पर पाठ्यपुस्तकें पहुंचने पर बच्चों के अगली कक्षा में प्रवेश के पहले दिन ही पुस्तकें उपलब्ध हो जाएंगी।विगत वर्षों में कई-कई महीने बच्चे सरकारी स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों के मिलने का इन्तजार करते रहते थे। 
हरियाणा प्राइमरी टीचर एशोसिएशन का मत :हरियाणा प्राइमरी टीचर एशोसिएशन के प्रदेश कोषाध्यक्ष व फरीदाबाद जिले के प्रधान चतर सिंह ने स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों के आने पर संतोष व्यक्त किया है,शिक्षा विभाग का यह अच्छा कदम है ।कुछ पुस्तकों को डाइट के माध्यम से बांटने को गैर जरूरी बताया है, इससे अध्यापकों को परेशानी उठानी पडी है ।हरियाणा प्राइमरी टीचर एशोसिएशन जिला फरीदाबाद के पदाधिकारियों रेखा शर्मा, समय सिंह, रामेश्वर यादव, महेन्द्र सिंह अधाना, प्रवेश भडाना, धर्म दत्त शर्मा, बिजेन्द्रदत्त, महाबीर सिंह, टेक चन्द, पीताम्बर दत्त, मधु माहेश्वरी, हर प्रसाद शर्मा, रवि पंघाल,विनोद सोलंकी  आदि ने भविष्य में पाठ्यपुस्तकें स्कूलों में सीधे भेजी जाने की मांग की अन्यथा विरोध किया जायेगा। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages