Breaking

Tuesday, March 26, 2019

शिक्षा के साथ दीक्षा का समन्वय अति आवश्यक : साध्वीं आस्था भारती

फरीदाबाद(abtaknews.co) 26मार्च,2019:दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के संस्थापक आशुतोष महाराज की शिष्या भागवताचार्या महामनस्विनी विदुषी सुश्री आस्था भारती ने कहा है कि श्रीमद्भागवत भारतीय साहित्य का अपूर्व ग्रंथ है। यह भक्ति रस का ऐसा सागर है, जिसमें डूबने वाले को भक्ति रुपी मणि-मणिक्यों की प्राप्ति होती है। भागवत कथा वह परमतत्व है, जिसकी विराटता अपरिमित व असीम है। आस्था भारती सोमवार को सेक्टर-3 स्थित रामलीला ग्राउंड में आयोजित श्रीमदभागवत कथा ज्ञान यज्ञ के प्रथम दिवस श्रद्धालुओं को श्रीमदभागवत कथा का माहात्म्य सुना रही थी। साध्वी ने श्रीमद्भागवत महापुराण की व्याख्या करते हुए बताया कि भागवत अर्थात ‘भगवत: प्रोक्तम् इति भागवत’ यानि भगवान की वह वाणी, वह कथा जो हमारे जड़वत जीवन में चैतन्यता का संचार कर दे, वही है श्रीमद्भागवत पुराण की कथा। साध्वी ने सामाजिक घटनाओं का उल्लेख करते हुए बताया कि आज डाक्टर, इंजीनियर्स, उच्च शिक्षित वैज्ञानिक भी किस प्रकार के पतन का परिचय दे रहे हैं, इसलिए शिक्षा के साथ दीक्षा का समन्वय अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि वही शिक्षा सार्थक है, जिससे एक व्यक्ति के भीतर विवेक जागृत हो तथा वह समाज निर्माण में अपनी सशक्त व जिम्मेदार भूमिका निभा सके। समाज में शिक्षा के वास्तविक अर्थ को पुन: स्थापित करने के उद्देश्य से गुरुदेव के मार्गदर्शन में वैदिक शिक्षा से प्रेरित मंथन कार्यक्रम की नींव रखी गई। मंथन का यह अटल विश्वास है कि शिक्षा-दीक्षा के अनुपम संगम से हमारे राष्ट्र की ही  नहीं, बल्कि संपूर्ण विश्व की रीढ़ की हड्डी मजबूत होगी। इस महान ज्ञानयज्ञ का शुभारंभ मंगल कलश यात्रा से हुआ। केसरी पताकाएं, सैकड़ों मोटरसाइकिलों का काफिला, पुष्पमंडित रथ, बासंती वस्त्र पहने वेद मंदिर के छात्र-छात्राएं। नन्हे-मुन्ने बालक-बालिकाओं के मुख से निकलते मंत्र बरबस ही धुव्र, प्रहलाद, नचिकेता की याद दिला रहे थे, माताएं, बहनें भी स्वर से स्वर मिलाकर वेद-मंत्रों का शुद्ध उच्चारण कर रही थीं। इनके सुरों में ही वही गूंज थी, जो कभी समाज में गार्गी, मैत्रेयी और सुलभा जैसी ऋषिकाओं के मुखों में सुनी थी। इस मौके पर प्रमोद गुप्ता, भारतीय व्यापार उद्योग मंडल के जिलाध्यक्ष रामजुनेजा सहित अनेकों गणमान्य लोग मौजूद थे। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages