Breaking

Thursday, March 14, 2019

वर्ल्ड किडनी डे पर पति ने पत्नी को दिया जिंदगी का तोहफा, अपनी किडनी देकर बचाई पत्नी की जान


On World Kidney Day, husband gave life to wife, wife saved by giving her kidney
फरीदाबाद(Abtaknews.com दुष्यंत त्यागी)14 मार्च। पति ने किडनी देकर बचाई पत्नी की जान। पूरे एनसीआर में ये दूसरा केस । अब तक आपने अलग अलग रिश्तों में एक दूसरे को किडनी देते सुना होगा पर फरीदाबाद में एक पति ने अपनी पत्नी को किडनी देकर उसकी जान बचाई है । पति पत्नी के इस प्यार को देखकर अस्पताल के डॉक्टर भी वेहद खुश है । अस्पताल प्रशासन ने पति को इस मौके पर सम्मानित किया है । इस मौके पर एक रेम्प वाक का आयोजन भी किया गया जिसमें किडनी के मरीजों ने रेम्प वाक किया ।

आपने कई बार सावित्री और सत्यवान की कहानी तो सुनी होगी जिसमें पत्नी अपने पति की खातिर यमराज से लड़ जाती है और फिर अपने पति को बचा लेती हैं लेकिन क्या आपको कोई ऐसी कहानी याद है जहां पति अपनी पत्नी की खातिर यमराज से लड़ जाता हो और उसकी जान बचा दे । फरीदाबाद में एक ऐसा ही मामला सामने आया जहां किडनी पेशेंट अपनी पत्नी को बचाने के लिए पति ने अपनी किडनी उसे दे दी और अब दोनों पति पत्नी स्वस्थ हैं ।  जी हां हम बात कर रहे हैं फरीदाबाद के रहने वाले पंडित केके शास्त्री की । पूरी दुनिया में जब आज वर्ल्ड किडनी डे मनाया जा रहा है तो फरीदाबाद के रहने वाले पंडित केके शास्त्री की कहानी आपको प्रेरित कर सकती है । पैशे से ज्योतिषी पंडित केके शास्त्री की पत्नी माया देवी की किडनी खराब हो गई थी लगातार डायलिसिस करा करा कर वह बेहद परेशान थे कई बार कई सालों तक अस्पताल के चक्कर लगाए लेकिन तबीयत में आराम नहीं पड़ा तो इसके बाद केके शास्त्री ने अपनी पत्नी को किडनी देने का विचार किया और परिवार में भी इस नेक काम में उनका सपोर्ट किया । फिर सभी कानूनी फॉर्मेलिटीज को पूरी करने के बाद उन्होंने अपनी पत्नी को किडनी दे दी ।  फिलहाल डॉक्टर से उनकी पत्नी को कुछ महीने सावधानी बरतने के लिए कहा है वहीं शास्त्री जी सावधानियां बरत रहे लेकिन राहत की बात यह अब दोनों पति पत्नी पूरी तरह ठीक है। 

वर्ल्ड किडनी डे पर क्यूआरजी अस्पताल ने के के शास्त्री को सम्मानित किया अस्पताल के डॉक्टर जितेंद्र कुमार ने बताया कि भारत में इस समय किडनी रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है । इसलिए इसका विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए । उनके मुताबिक उन्होंने 300 से ज्यादा ऑपरेशन किए हैं और भी कई जगह देखा है कि आमतौर पर घर की महिलाएं तो किडनी देने के लिए आगे आ जाती है पर पुरुष इस मामले में आगे नहीं आते । ऐसे मैं के के शास्त्री एक  उदाहरण है। 


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages