Breaking

Monday, March 25, 2019

सोशल मीडिया पर प्रत्याशियों द्वारा किए जाने वाले प्रचार पर नजर रखेगा प्रशासन;अतुल द्विवेदी


फरीदाबाद,25 मार्च (abtaknews.com)ज़िला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अतुल कुमार द्विवेदी के दिशा निर्देशन अनुरूप लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में सोमवार को ज़िला  के  सभी  विधानसभा  क्षेत्रों  की ईवीएम,बैलेट यूनिट,कंट्रोल यूनिट तथा वीवीपैट मशीनों का पहला रैण्डेमाइजेशन  आनॅ लाईन किया गया ।यह रैण्डेमाइजेशन ज़िला के सभी आर ओ, विधानसभा क्षेत्रों के सहायक रिटरनिगं  अधिकारी तथा  सभी राजनीतिक दलों के नेताओं/प्रतिनिधियों की मौजूदगी में किया गया ।
 इस दौरान अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेन्द्र सिंह,एसडीएम सतबीर मान, एसडीएम त्रिलोक चंद,सीटीएम श्रीमति बैलीना,डीआरओ डा0 नरेश कुमार,डीडीपीओ,चुनाव तहसीलदार  दिनेश कुमार सहित सभी राजनीतिक दलों के पदाधिकारी/प्रतिनिधि तथा ईसीएम रैण्डेमाइजेशन से जुड़े विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे ।
एनआईसी के डीआईओ  एलएन मित्तल  ने आनॅ लाईन ईवीएम रैण्डेमाइजेशन करने पूर्व ईसीएम,बैलेट यूनिट,कंट्रोल यूनिट,वीवीपैट मशीन के बारे विस्तार पूर्वक बताया। उन्होंने कहा कि ईवीएम रैण्डेमाइजेशन से पूर्व  किसी को भी यह जानकारी नहीं होती कि कौन सी ईवीएम किस बूथ पर लगाई जाएगी। उन्होंने प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र की दो या तीन बार ईवीएम रैण्डेमाइजेशन करके भी आनॅ लाईन दिखाई । उन्होंने बताया कि जिला के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 10 प्रतिशत अतिरिक्त ईवीएम का रैण्डेमाइजेशन किया गया ,ताकि मतदाताओं की जरूरत अनुसार तथा किसी अन्य तकनीकी खराबी के कारण मतदान प्रभावित ना हो ।
 उन्होंने ज़िला के सभी विधानसभा क्षेत्रों  के  1351 मतदान केंद्रों के 10 प्रतिशत अतिरिक्त सहित कुल 1488 ईवीएम रैण्डेमाइजेशन किया गया । ज़िला के फरीदाबाद एनआईटी विधानसभा क्षेत्र के लिए कुल 256 ईवीएम,बङखल   विधानसभा क्षेत्र के लिए 253, बल्लभगढ़  विधानसभा क्षेत्र के लिए 228,फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र के  लिए 225,पृथला विधानसभा क्षेत्र के लिए 230 तथा  तिगावं विधानसभा क्षेत्र के लिए 296 ईवीएम का बैलेट यूनिट,कंट्रोल यूनिट तथा वीवीपैट मशीनों का रैण्डेमाइजेशन किया गया ।सोशल मीडिया प्लेटफार्म के स्वतंत्र व निष्पक्ष उपयोग के लिए चुनाव आयोग व आईएएमएआई ने विकसित किया स्वैच्छिक कोड ऑफ एथिक्स प्रिट व इलेक्ट्रोनिक मीडिया से भी पीसीआई व एनबीएसए की गाइडलाइंस के अनुरूप कार्य करे

फरीदाबाद , 25 मार्च।जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अतुल कुमार द्विवेदी  ने कहा कि लोकसभा आम चुनाव-2019 में फेसबुक, वाट्सएप व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर प्रत्याशियों द्वारा किए जाने वाले प्रचार पर नजर रखने तथा आदर्श आचार संहिता की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने आईएएमएआई यानी इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के साथ मिलकर स्वैच्छिक कोड ऑफ एथिक्स को विकसित किया है। इसके माध्यम से लोकसभा आम चुनाव के दौरान चुनावी प्रक्रिया की अखंडता तथा सोशल मीडिया प्लेटफार्म के स्वतंत्र, निष्पक्ष व नैतिक उपयोग को सुनिश्चित किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि   प्रिंट व इलेक्ट्रोनिक मीडिया पीसीआई व एनबीएसए की गाइडलाइंस के अनुरूप कार्य करे। स्वैच्छिक कोड ऑफ एथिक्स के तहत सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर प्रत्याशियों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बरकरार रखते हुए उपयुक्त नीतियों व प्रक्रियाओं को लागू किया जाएगा। इसके साथ ही प्रत्याशियों को चुनाव कानूनों व अन्य निर्देशों सहित जागरूक करने के लिए सूचना, शिक्षा व संचार के लिए चुनाव आयोग द्वारा अभियान चलाया जाएगा।  जनप्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 126 के संभावित उल्लंघनों व चुनाव कानूनों की सूचना 3 घंटे के भीतर प्रत्याशी तक पहुंचाने के लिए आयोग ने अधिसूचना तंत्र विकसित किया है। इसके साथ ही विज्ञापनों के पूर्व प्रमाण पत्र प्रदान करने के लिए भी एक तंत्र प्रदान किया जाएगा। इसके माध्यम से राजनीतिक विज्ञापनों में पारदर्शिता आएगी तथा सोशल मीडिया प्लेटफार्म के दुरुपयोग को रोका जा सकेगा।
उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार धारा 126 के तहत चुनाव संपन्न होने से 48 घंटे पहले हर प्रकार के चुनाव प्रचार पर रोक लग जाएगी और टेलीविजन व अन्य माध्यमों पर भी प्रचार नहीं किया जा सकेगा। चुनाव को प्रभावित करने के लिए किए जाने वाले प्रचार या विज्ञापन का प्रसारण करने के दोषी व्यक्ति को दो वर्ष की सजा व जुर्माना अथवा दोनों हो सकते हैं। इसी प्रकार टीवी, रेडियो चैनल, केबल नेटवर्क, इंटरनेट वेबसाइट व सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर दिखाई जाने वाली सामग्री या विचार किसी पार्टी या प्रत्याशी विशेष के पक्ष को समर्थन करता हुआ नहीं होना चाहिए जो चुनाव के परिणाम को प्रभावित कर सके।
ज़िला निर्वाचन अधिकारी  ने निर्वाचन आयोग के हवाले से प्रिंट मीडिया से आह्वान किया है कि वह प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया की गाइडलाइंस की अनुपालना करे। प्रेस प्रत्याशी व चुनाव के संबंध में निष्पक्ष रिपोर्टिंग करे। चुनाव प्रचार में सांप्रदायिक व जातीय सामग्री का प्रकाशन करना पूर्ण प्रतिबंधित है। किसी प्रत्याशी या पार्टी के पक्ष में प्रचार करने अथवा छवि बनाने के लिए किसी प्रकार का वित्तीय लाभ प्राप्त करना अनैतिक है।इसी प्रकार इलेक्ट्रोनिक मीडिया को भी एनबीएसए द्वारा निर्धारित गाइडलाइंस की अनुपालना चुनाव के दौरान करनी चाहिए। जनता के विचार, ओपिनियन पोल अथवा किसी ऐसे सर्वे का प्रसारण भी नहीं किया जा सकता है जो चुनाव को प्रभावित करे। उन्होंने बताया कि चुनाव मशीनरी द्वारा सभी प्रचार माध्यमों की सतत निगरानी की जा रही है। इसलिए सभी प्रकार के प्रचार माध्यम, प्रत्याशी व राजनीतिक दल आचार संहिता के सभी नियमों की अनुपालना करें और शांतिपूर्ण, निष्पक्ष व पारदर्शी चुनाव संपन्न करवाने में सहयोग करें।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages