Breaking

Friday, March 1, 2019

फरीदाबाद में कबाड़ी की दुकान से मिली सेना की ऐके-47,एसएलआर गन,17 सो गोलियां, 3 आरोपों दबौचे


Army AK-47, SLR gun, 17 sleeping pills, 3 charges filed in Kabadi shop in Faridabad

फरीदाबाद(abtaknews.com)01 मार्च,2019; सीमा पर सेना द्वारा प्रयोग किए जाने वाले  हथियार  और गोलियां एक कबाड़ी की दुकान से  बरामद किए गए हैं  फरीदाबाद क्राइम ब्रांच  सेक्टर 30 की टीम ने छापेमारी के दौरान  कबाड़ की दुकान से  ऐके-47, SLR गन सहित कई घातक हथियारों की करीब 17 सौ गोलियां बरामद की है। इसके अलावा 53 किलो 700 ग्राम गोली चलने के बाद निकलने वाला सिक्का और 30 किलो 560 ग्राम गोलियों के खोल भी बरामद हुए हैं। क्राइम ब्रांच ने तीन बदमाशों को किया काबू किया है। फरीदाबाद क्राइम डीसीपी लोकेंद्र सिंह ने प्रेस वार्ता कर पूरे मामले का खुलासा किया है उन्होंने आश्चर्य जताया है कि फौजियों द्वारा प्रयोग किए जाने वाला असला कबाड़ियों के पास कैसे पहुंचे इसके लिए वह जांच कर रहे है।

पूरा देश हाई अलर्ट पर चल रहा है भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध होने के हालात बने हुए हैं। ऐसे में दिल्ली से सटे फरीदाबाद में  ऐके -47 एसएलआर गन 17 सौ से ज्यादा गोलियां एक कबाड़ की दुकान में मिलना बहुत बड़ा चर्चा का विषय बना हुआ है बता दें कि फरीदाबाद क्राइम ब्रांच सेक्टर 30 को सूचना मिली थी मुजेसर थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक कबाड़ी के गोदाम में असला रखा हुआ है जिसकी सूचना पर क्राइम ब्रांच पुलिस टीम ने दबिश दे और वहां से भारी मात्रा में असला बरामद किया डीसीपी क्राइम ब्रांच लोकेंद्र सिंह ने प्रेस वार्ता कर जानकारी दी है कि  ऐके -47 एसएलआर गन और भारी मात्रा में जो गोलियां बरामद की गई है वह सिर्फ सीमा पर तैनात जवानों को ही दी जाती है वह खुद भी यह जानकारी जुटाने में लगे हुए हैं सेना के प्रयोग में आने वाला असला कबाड़ी ओं तक कैसे पहुंचा इसके पीछे किस किस के साथ तार जुड़े हुए हैं इस पूरी जानकारी के लिए डीसीपी अपनी फील्डिंग लगा दी है डीसीपी लोकेंद्र सिंह ने साफ किया है कि उन्होंने कबाड़ के गोदाम से 3 लोगों को गिरफ्तार किया है जिनके पास से भारी मात्रा में असला बरामद किया है जो कि पेशे से कबाड़ी है।गिरफ्तार किए गए कबाड़ी आरोपी ने बताया कि पुणे इस खतरनाक असला के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages